31.12.21

सुबह की बातें-9


रजाई से 

सर बाहर निकाल कर

दोनों कानों को  

बन्द खिड़की के उस पार फेंको!


कुछ सुनाई दिया? 

बारिश!

नहीं sss 

ओस की बूंदें हैं 

थाम नहीं पा रहे पत्ते

टप टप टपक रहीं हैं 

धरती पर। 


मौन 

कभी, कहीं नहीं होता

भोर में तो और भी शोर होता है!

आंखों से 

न दिखाई देने वाले जीव

कलियां, फूल, पत्ते

सभी करते हैं संघर्ष

जहां संघर्ष है

वहीं शोर है

ओस की पहली बूंद से

सूर्य की पहली किरण तक

जो मौन है

उसमे भी शोर है

सब

दिखाई नहीं देता 

सब 

सुनाई नहीं देता।


यह जो मौन का शोर है न?

बड़ा तिलस्मी है

सुनो!

पहली दफा

मधुर संगीत सुनाई देता है

आगे

तुम्हारी किस्मत!

...............

7 comments:

  1. मौन का शोर बहुत तिलस्मी है । बहुत शानदार अभिव्यक्ति ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. pls read me also http://againindian.blogspot.com/
      http://justiceleague-justice.blogspot.com/
      https://indianthefriendofnation.blogspot.com/

      Delete
  2. मौन के शोर के तिलस्म का जादू बिखेरती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. Hello sir my name is dharmendra I read your blog, I loved it. I have bookmarked your website. Because I hope you will continue to give us such good and good information in future also. Sir, can you help us, we have also created a website to help people. Whose name is DelhiCapitalIndia.com - Delhi Sultanate दिल्ली सल्तनत से संबन्धित प्रश्न you can see our website on Google. And if possible, please give a backlink to our website. We will be very grateful to you. If you like the information given by us. So you will definitely help us. Thank you.

    Other Posts

    Razia Sultana दिल्ली के तख्त पर बैठने वाली पहली महिला शासक रज़िया सुल्तान

    Deeg ka Kila डीग का किला / डीग की तोप से दिल्ली पर हमला

    प्राइड प्लाजा होटल Pride Plaza Aerocity || Pride Hotel Delhi

    दिल्ली का मिरांडा हाउस Miranda House University of Delhi

    ReplyDelete