27.7.12

ये तो हैं पूरे नंगे !





कभी देखा है इतना सुंदर ओपन बाथरूम ? 

(मैं इनके पास बिल्ली की तरह दबे पांव गया कि इनको पता न चले।
ये अपनी धुन में पाइप से फुहारे निकालने में मस्त थे।)



फुहारे में नहाने का मजा ही कुछ और है।

(तभी इन्होने मुझे देख लिया और झट से पाइप फेंककर मेरी ओर देखने लगे।)

देखो, ये कौन आ गया! कैमरा लेकर हमारी फोटू खींचने ?
रूको !
बाद में नहाते हैं।



मन के नंगे, तन के नंगे
ये तो हैं पूरे नंगे!
पाइप से आती है जमुना
मेंड़ों से आती गंगे।
.......................................................................

अभी (28-7-2012, समय 19.10) नीरज गोस्वामी जी का यह शेर पढ़ा....

कभी बच्चों को मिल कर खिलखिलाते नाचते देखा
लगा तब जिंदगी ये हमने क्या से क्या बना ली है!
..............................


समयः ये तश्वीरें आज सुबह की हैं।
स्थानः काशी हिंदू विश्वविद्यालय का कृषि विभाग।

39 comments:

  1. भविष्य के ब्लागरों का अतीत :)

    ReplyDelete
  2. शहर में यह दृश्य कहाँ...

    ReplyDelete
  3. तस्वीरों को देखकर मन खुश हो गया... :)

    ReplyDelete
  4. सुंदर पोस्ट भाई देवेन्द्र जी |आभार

    ReplyDelete
  5. ऐसे चित्रों ने बचपन की याद दिला दी :-)

    ...हम भी कभी नंदू होते थे :-)

    ReplyDelete
  6. wyast bachpan mast bachpan....thanks....

    ReplyDelete
  7. थोडा बड़ा होने दो , फिर आपको ये बताएँगे--- इनके नंगे फोटो खींचने का हिसाब ! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. कभी फोटू खींचने के लिए खुद ही उकसाते हैं। खींच कर ले आये, दिखाये तो डरवाते हैं। यह अच्छी बात नहीं।:)

      Delete
    2. फोटो खींचने का लालच तो कभी कभी बहुत होता है . पर फिर कुछ सोच कर मन मारना पड़ता है . :)

      Delete
  8. देवेन्द्र जी
    इसे अपनी आलोचना ना समझियेगा और ना ही कोई विवाद | बच्चो की पूरी नग्न फोटो लगा दी, पर कभी सोचा है की ये बच्चो को या उनके जानने वालो को अच्छा लगेगा और जब बच्चे बड़े हो जायेंगे तो उनकी ऐसी फोटो नेट पर होना उन्हें कभी पसंद नहीं आयेगी , मुझे लगता है ये ठीक नहीं है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. खयाल अपने-अपने, विचार अपना-अपना। हो सकता है आप सही कह रही हों। यह भी हो सकता है कि वे बड़े होने पर इन चित्रों को देखकर खुश हों और मुझे धन्यवाद दें।

      काश! कोई मुझे मेरे बचपन की ऐसी तश्वीरें दिखा देता।

      मैने आपके नज़रिये से न देखा न सोचा। ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद।

      Delete
    2. ...और यह भी हो सकता है कि यह पूरा मामला 'संयुक्त राष्ट्र' चला जाय !

      Delete
    3. अंशुमाला जी की बात में दम है . व्यक्तिगत मामले को सार्वज़निक बनाने से पहले कई बार सोचना चाहिए .
      कृपया अन्यथा न लें . हम सब हमेशा कुछ न कुछ सीखते ही रहते हैं .

      Delete
    4. तीसरी फोटो को हटाने से पोस्ट विवादरहित हो जाएगी .

      Delete
    5. इसे अच्छी सीख मानकर भविष्य के लिए सुरक्षित करता हूँ। अब जो लगाना था सो लगा दिया। तश्वीर के नीचे लिखी गई चार पंक्तियाँ बताती हैं कि मैंने इन बच्चों को किस भाव से देखा है। तन और मन से जो निर्मल हो, जिसके पास स्वयम् गंगा-जमुना चलकर आती हों वे किसी ईश्वर से किस मामले में कम हैं? अब ईश्वर जो दंड देंगे वो सर माथे पर।:)

      Delete
  9. Replies
    1. हाँ, इन चित्रों में खुशी छलक कर बाहर आ गई है। यह माना जाता है कि खुशी महसूस करने की बात है, देखने की नहीं। यहाँ दिखाई दे रही है।:)

      Delete
  10. Eyes see only what ones mind shows.
    You and I see innocence in its completeness.That is OK. Do not be bothered by the nudity comments. Nudity or privacy has no relevance here.
    You are a fine photographer. Thanks for these images.

    ReplyDelete
  11. बचपन याद आया मगर बोर वेल त्रासदियाँ याद आ गयीं -बच्चों को कोई देखने वाला नहीं है क्या -
    आप को तो फोटो की पडी है -:-) अब आप पूरे फोटो जर्नलिस्ट बन्ने की राह में हैं ...खुदा खैर करे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुबह घूमने की आदत तो है ही। जब मन हुआ कैमरा उठा लेता हूँ।:)

      Delete
  12. :)इन्हें देखकर लगता है कि जब ये पाइप पकड़कर फुहारें छुड़ाने में मस्त होंगे, तो इनसे ज्यादा खुश दुनिया में कोई नहीं होगा. जीवंत दृश्यों को कैमरे में कैद करना कोई आपसे सीखे.

    ReplyDelete
  13. baache sada isi pal me jeete hain....sundar drashyon ko kaimre me kaid kiya hai aapne.

    ReplyDelete
  14. वाह आनंद आ गया ... आनंददायक प्रस्तुति ... आभार

    ReplyDelete
  15. आत्मा भी बेचैन है ,हर-हर गंगे

    ReplyDelete
  16. यही तो है निर्दोष, निर्लिप्त और निष्कपट बचपन...

    ReplyDelete
  17. MUJHE TO YE TASVEEREIN AUR BACHHE ITANE PYARE LAGE MAN KAR RAHA HAI KI RUDRA KO BHI LE KAR VAHIN PAHUNCH JAOO AUR KRAAOO SABKO "HAR HAR GANGE!!!!!"

    ReplyDelete
  18. मस्त मलंगे, हर हर गंगे।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर चित्र

    ReplyDelete
  20. Badee hee achhee lageen tasveeren!

    ReplyDelete
  21. बच्‍चे मन के सच्‍चे। तस्‍वीर लगाते समय सावधानी बरतने की जरूरत तो है ही।

    ReplyDelete
  22. काशी विश्वविद्यालय की खोजबीन सुंदर चित्र के माध्यम से.

    ReplyDelete
  23. बच्चों के ये खूबसूरत फोटो हैं,मगर इन्हें कुछ और पास से लेना चाहिये था.तन के नंगे तो समझ में आया,मगर मन के नंगे ये कैसे हुये ?

    ReplyDelete
  24. सच, तस्वीर और नीरज गोस्वामी जी का शेर-

    क्या कहें ये जिन्दगी भी क्या हो गई है!

    ReplyDelete
  25. सौन्दर्य और निश्छल बचपन का मेल! मेलकर्ता, बेचैन आत्मा, ब्लॉगर!

    ReplyDelete