1.8.10

सावन की बरसात



बादल-बिजली गड़गड़-कड़कड़ चमके सारी रात।
टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

खिड़की कुण्डी खड़ख़ड़-खड़खड़ सन्नाटे का शोर
करवट-करवट जागा करता मेरे मन का चोर

मेढक-झींगुर जाने क्या-क्या कहते सारी रात।
टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

अँधकार की आँखें आहट और कान खरगोश
अपनी धड़कन पूछ रही है तू क्यों है खामोश

मिट्टी की दीवारें लिखतीं चिट्ठी सारी रात।
टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

बूढ़े वृक्षों पर भी देखो मौसम की है छाप
नई पत्तियाँ नई लताएँ लिपट रहीं चुपचाप

जुगनू-जुगनू टिम-टिम तारे उड़ते सारी रात।
टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

टुकुर-टुकुर देखा करती है सपने एक हजार
पके आम के नीचे बैठी बुढ़िया चौकीदार

उसकी मुट्ठी से फिसले है गुठली सारी रात।
टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

49 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. वाह देवेन्द्र जी,
    बहुत शानदार बरसाती दोहे लिखे हैं।
    "अँधकार की आँखें आहट....।" बहुत खूबसूरत}

    ReplyDelete
  3. सन्नाटे के शोर और करवट करवट जागते हुए के, मन की टोह लेते हुए ...मिटटी की दीवारों / बूढ़े वृक्षों / बुढ़िया...बनाम...नई पत्तियों / हजार सपनों और जुगनू...तारों की टिमटिमाहट के सूत्र सावन से जोड़ने की कोशिश में लगे है ! हमेशा की तरह सुचिंतित कविता !

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना बधाई

    ReplyDelete
  5. रिम झिम रिम झिम रिम झिम , रिम झिम पड़े फुहार
    पढके सावन की रचना , मज़ा आ गया यार ।

    हैपी फ्रैंडशिप डे ।

    ReplyDelete
  6. लाजवाब ,मुला इस साल की है या परियार साल की ?

    ReplyDelete
  7. Ye barsaat ke geet kitne manohari lagte hain..aapki rachna me bahut naad hai.Aur jab bahut tarsake barasta hai to aurbhi madhur lagta hai...

    ReplyDelete
  8. सुन्‍दर, बरसात की टिप टिप टिप टिप टिप की तरह । सबसे सुन्‍दर उसकी मुठ्ठी से फिसले है गुठली सारी रात।

    ReplyDelete
  9. आपका इस कविता में वर्षा को स्वर डाल देना शाब्दिक संगीत का विलक्षण प्रयोग है।

    ReplyDelete
  10. सावन में यह बहुत ही सुंदर रचना है। कमाल कर दिया आपने।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना ध्वन्यात्मकता का प्रभाव लिये हुए.

    ReplyDelete
  12. अदभुत, शुभकामनाएं.
    रामराम

    ReplyDelete
  13. behatareen abhivyakti!
    manzar ankhon ke saamne hai .

    ReplyDelete
  14. बरसात के मौसम में .....
    फुहारों भरी इस सौगात के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  15. अरे वाह जी यह कविता तो बहुत सुंदर है, साथ मै गुनगुनाने को मन करता है. धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. सावन की बरसात के मजे तो भैया!...आपने इस कविता में भर दिए है!.... मजेदार!

    ReplyDelete
  17. सावन की टिप टिप
    उड़े चुनरिया धानी , और सराबोर मन

    ReplyDelete
  18. जिन पंक्तियों को देखो वही अद्भुत, टेक की तो बात की क्या!...टिप-टिप-टिप-टिप सावन की बरसात.

    ReplyDelete
  19. क्या लिखा है!!!!!! बस लाजवाब एक एक बात बहुत सोची समझी किस पंक्ति की तारीफ करूँ किसकी रहने दूँ बस यही सोच रही हूँ और कविता और उसकी भाषा का आनंद ले रही हूँ

    ReplyDelete
  20. शब्दों का संगीत निखर कर आता है इन सारे बरसाती दोहों मे..बूँद-बूँद बा्रिश जैसे बजती है हर पंक्ति मे टिप-टिप, कड़-कड़ बूँदे, बादल, बिजली, कुंडी, मिट्टी, जुगनू सब जैसे उनींदी रातों को थप-थप कर उठाते हैं..बारिश एक आमंत्रण है..प्रकृति से एकाकार होने का..एक विलंबित सुर..जो जीवन के कानों मे मिस्री घोलता रहता है..
    कुछ-कुछ पंक्तियाँ तो जैसे गज्जब हैं
    जैसे..

    ’अँधकार की आँखें आहट और कान खरगोश

    मिट्टी की दीवारें लिखतीं चिट्ठी सारी रात।

    पके आम के नीचे बैठी बुढ़िया चौकीदार

    उसकी मुट्ठी से फिसले है गुठली सारी रात।

    ..अच्छा है कि बारिश हो रही है इधर..वर्ना ऐसी रचनाएँ सूखे हृदय की तपती रेत पर गेहुएँ साँप सी लोटती रहतीं...

    ReplyDelete
  21. वाह मज़ा आ गया.
    बहुत उम्दा.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  22. वाह अपूर्व..
    आपके कमेंट के बिना पोस्ट अधूरी लगती है.
    अरविंद भैया..
    यह न इस साल की है न परियार साल की. यह तो उस साल की है जब बरसा था सावन.... झूम के.

    ReplyDelete
  23. देवेंद्र जी,
    एकदम बैक्ग्राउण्ड म्यूजिक से लैस धाँसू गीत है ये... बस सुनते ही मन करता है कि बस निकल पड़ें बिना छतरी के... हमलोगों के लिए परियार साल सावन में भी पसीने की बारिश थी... सो हम तो इसी साल का मान कर झूम लेते हैं...

    ReplyDelete
  24. सुन्‍दर है बरसात रिम झिम रिम झिम ...
    मिट्टी की दीवारें लिखतीं चिट्ठी सारी रात....
    बुढ़िया चौकीदार...
    आम के नीचे बैठी सपने देखा करती है .........
    लाजवाब

    ReplyDelete
  25. बहुत सटीक...


    हैडर जरा दुबला करो भई..आधा पन्ना तो वो ही खुलता है.

    ReplyDelete
  26. मेरी गरीब हिन्दी योग्यता से कविता अमझना मुशकिल है। लेकिन यह कविता आवाज़ निकालने से पढ़कर बहुत अच्छा लगा। क्या आप तस्वीर भी अपने हाथ से खींचते हैं? बहुत सुन्दर है।

    ReplyDelete
  27. आज तो और भी बेहतरीन..क्या मौसम लेकर आएँ है आप...वर्षा ऋतु का वर्णन इससे रोचक सरल और अंदाज में मैने कभी पढ़ी ही नही..बधाई

    ReplyDelete
  28. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं!
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete
  29. please look your header.
    it tooks about half of the page.
    please make it short.
    thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  30. उसकी मुट्ठी से फिसले है गुठली सारी रात।

    अहा! बहुत ही ख़ूबसूरत ये ये पंक्तियाँ... यूँ तो पूरी कविता ही ऐसी लगी जैसे मैं राजेंद्र प्रसाद घाट पर बैठा हूँ..गँगा भी भीग रही हो :)
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  31. टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।

    mujhe ye tip tip tip jayda pyari lag rahi hai....:)

    khubsurat rachna.......

    ReplyDelete
  32. बूढ़े वृक्षों पर भी देखो मौसम की है छाप
    नई पत्तियाँ नई लताएँ लिपट रहीं चुपचाप..सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  33. टिप-टिप,टिम-टिम, टुकुर-टुकुर,जैसे शब्दों के प्रयोग ने रचना की मिठास बढ़ा दी है.

    ReplyDelete
  34. aapki sawan ki rachna to bahut hi man bhaee.deshi shabdo ka prayog bahut hi achha laga.
    poonam

    ReplyDelete
  35. सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  36. बरसात की सभी ध्वनियों को साकार करती आपकी ये रचना अद्भुत है...बरसात मयी है...
    नीरज

    ReplyDelete
  37. bahut hi sundar likha hai. badhayi

    ReplyDelete
  38. वाह, बहुत संगीतमयी कविता है। बरसात का दृष्य जीवंत हो गया।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  39. पूरा झमाझम हो रहा है इस पोस्ट पर तो। बहुत खूब!

    ReplyDelete
  40. बढ़िया शब्द चित्रण किया है आपने ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  41. bahut sunder chitran barsaat ka
    aur adbhut pryog
    tip tip maza aa gaya

    ReplyDelete
  42. आवाज़े बड़े अच्छे से पिरो दी आपने :)

    ReplyDelete
  43. अँधकार की आँखें आहट और कान खरगोश
    अपनी धड़कन पूछ रही है तू क्यों है खामोश
    बूढ़े वृक्षों पर भी देखो मौसम की है छाप
    नई पत्तियाँ नई लताएँ लिपट रहीं चुपचाप
    -:इस प्रकार की कल्पना के आपने ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  44. समीर लाल जी की बात पर गौर करें !शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  45. हेडर छोटा नहीं कर पा रहा हूँ. एक बार प्रयास किया तो अधकटा हो गया.

    ReplyDelete
  46. जय हो! सावन भाई साहब पूरे साउंड सिस्टम के साथ आये हैं। जय हो। :)

    ReplyDelete
  47. ये रिमझिम ... ये टिप टिप बहुतलाजवाब है ... ब्लॉग पर वर्षा का आनंद आ रहा है ....

    ReplyDelete
  48. टुकुर-टुकुर देखा करती है सपने एक हजार
    पके आम के नीचे बैठी बुढ़िया चौकीदार

    उसकी मुट्ठी से फिसले है गुठली सारी रात।
    टिप्-टिप्-टिप्-टिप्, टिप्-टिप्-टिप्-टिप् सावन की बरसात।।


    सदा कि तरह बेमिसाल रचना...

    ReplyDelete