20.1.14

पेट ही नहीं भरता...!

वे अंधे थे लेकिन कान से आहट ही नहीं सुनते थे, व्यक्ति को भी पहचान लेते थे।  उनके करीब से कितना भी दबे पाँव बच निकलने का प्रयास करो वे आहट से जान जाते थे कि यह फलाँ आदमी है। गाँव में सभी उन्हें सूरदास कहते थे। भिखारी नहीं थे बस भूख मिटाने के लिए उससे दो रोटी मांग लेते थे जिनपर उन्हें भरोसा था कि वह लेकर ही आयेगा। व्यक्ति को पहचानते थे। सबसे नहीं मांगते थे। एक दिन गाँव का एक लड़का उनसे बचते हुए पास से गुज़र रहा था कि सूरदास बोल पड़े-'सुनी न..अभय बाबू!' अभय के पाँव में अचानक से बेड़ी लग गई। मन मारकर उनके पास गया। सूरदास मुड़ी हिलाते, तख्ते पर हाथों से तबला बजाते, दोनो आँखें मिचमिचाते हुए धीरे से बोल पड़े-आज दू रोटी खिलाईं न ...। 

अभय भाभी जी के पास गया..'सूरदास दो रोटी माँग रहे हैं!' भाभी भुनभुनाने लगीं-'इस महंगाई में घर का पेट भरना मुश्किल है, बड़े आये दानवीर बनने।' अभय ने भाभी जी से कहा.'ठीक है, हमको तो खिलाओगी न भाभी कि मेरे लिए भी रोटी नहीं है?' भाभी को अभय का उत्तर नागवार गुज़रा। आँखें तरेरते हुए चार रोटियाँ थाली में रखकर थच्च से पटक दिया। अभय ने थाली उठाई और दौड़ा-दौड़ा सूरदास के पास जा पहुँचा। दो रोटी अपने खाई, दो रोटी सूरदास को खिलाया। सूरदास बोले-'मेरे कारण भूखे रह गये न अभय बाबू?" अभय बोला-'नहीं बाबा, आज तो मन तृप्त हो गया।'

अभय बाबू अब बड़े हो चुके हैं। कहते हैं-'मेरे पास न अन्न की कमी है, न धन की। कमी है तो सिर्फ सूरदास की।' जब भी खाना खाने बैठते हैं दो रोटी उनके नाम से निकालना नहीं भूलते। फिर वह रोटी गइया खाये या कुत्ता। पत्नी पूछती है-'अपनी थाली से रोटी क्यों निकालते हैं ? क्या मुझ पर भरोसा नहीं है ! मैं खिला दूँगी न कुत्तों को।' अभय बाबू हँसते हुए कहते हैं-'रोटी न निकाली तो मेरा पेट ही नहीं भरता!'
 .....................................

21 comments:

  1. धन्य हैं अभया बाबू, धन्य हैं सूरदास। धन्य हैं बेचारी भाभी जिन्होंने तंगी में भी घर चला ही लिया

    ReplyDelete
  2. किसी की भूख मिटाने की तृप्ति अद्भुत होती है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रसंग..

    ReplyDelete
  4. कहीं हो या ना हो कहाँनी में भी हो सोच बची रहे तो भी बहुत बहुत है :)

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया भावपूर्ण प्रसंग ..

    ReplyDelete
  6. http://bulletinofblog.blogspot.in/2014/01/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  7. मन छू गया काफी गहराई तक.

    ReplyDelete
  8. ऐसा भी होता है :)
    अंदर तक छू गई ।

    ReplyDelete
  9. कहाँ गए वो लोग!! इस दुनिया की बैलेंस शीट में ऐसे ही हिसाब बराबर होते हैं... अभय बाबू को मेरा प्रणाम!!

    ReplyDelete
  10. हाँ भला कर तेरा भला होगा |

    ReplyDelete
  11. I was able to find good advice from your articles.


    My blog post :: homepage

    ReplyDelete
  12. गाँव में कोई भिखारी दरवाजे से खाली हाथ नहीं लौटता।
    जो खाना मांग दे तो क्या कहने। इसे पुण्य का सुअवसर माना जाता है।

    ReplyDelete
  13. मन को छू गई ... ये कहानी है या जो भी है ...
    अभय बाबू किस्मत वाले हैं जिनको कोई तो मिला जो बनाए रखता है उनके दिल मे तरलता ... संवेदनशीलता ...

    ReplyDelete
  14. क्या बात है -ऐसी कहानी अर्से के बाद पढ़ी -साधुवाद!

    ReplyDelete
  15. कहानी पसंद करने के लिए आप सभी का आभार।

    ReplyDelete
  16. I got this web page from my pal who told me regarding this site and at the moment this time I am visiting this site
    and reading very informative articles at this time.

    My webpage :: Quality Tattoo Supplies » Page not found - ,

    ReplyDelete
  17. वाह, क्या बात है

    ReplyDelete