14.3.10

तू है कौन, कौन हैं तेरे

आज रविवार है. कविता पोस्ट करने का दिन. मार्च ..वित्तीय वर्ष का अंतिम महिना, बच्चों की परीक्षा और उसपर चैत की मस्ती. अपने 'नववर्ष' के आगमन की आहट भी पुलकित कर दे रही है मन को. माँ दुर्गा की पूजा, नवरात्री का मेला और नव दिन का व्रत. गेहूँ की लहलहाती सुनहरी फसलें, आम के बौर में दिखते छोटे-छोटे टिकोरे और...और भी बहुत कुछ जो इस वक्त याद नहीं आ रहा. एक यह नववर्ष है और एक वो ...हाड़ कंपा देने वाली ठंड वाला...! अरे, अपने देश के लोगों ने अपने मौसम के खूबसूरत पलों को नववर्ष और त्योहारों के लिए चुना, अंग्रेजों ने अपने मौसम के अनुसार. हम उनकी नक़ल करने के चक्कर में अपनी अच्छाईयों, अपने आनंद और अपने नववर्ष को क्यों भूलें..!

आज मन कुछ आध्यात्मिक हो रहा है . मैंने भी नवगीत की तर्ज पर एक भजन लिखा है जिसे आज पोस्ट करता हूँ . आपकी प्रतिक्रिया मुझे राह दिखाती है . प्रस्तुत है भजन ......


तू है कौन, कौन हैं तेरे



ताल-तलैया पी कर जागा
नदी मिली सागर भी मांगा
इतनी प्यास कहाँ से पाई
हिम से क्यों मरूथल तक भागा

क्यों खुद को ही, रोज छले रे
तू है कौन, कौन हैं तेरे

सपनों को अपनों ने लूटा
एक खिलौना था जो टूटा
छोड़ यहीं सब झोला-झंखड़
चल निर्जन में यह जग झूठा

भज ले राम, राम हैं तेरे
तू है कौन कौन हैं तेरे

घट पानी का पनघट ढूँढ़े
भरे लबालब मद में डूबे
सर चढ़ कर जब लगे डोलने
ठोकर खाए खट से फूटे

जो संभले वो पार लगे रे
तू है कौन कौन हैं तेरे।

44 comments:

  1. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे
    बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  4. तू है कौन कौन हैं तेरे।

    सही अर्थ समझाने का अच्छा प्रयास ।

    ReplyDelete
  5. bhav poorn geet accha laga..........
    shubhkamnae.............

    ReplyDelete
  6. bahut uttam prastuti.
    घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे

    जो संभले वो पार लगे रे
    तू है कौन कौन हैं तेरे।

    padh kar anand aya, aur bhajan likhen.

    ReplyDelete
  7. सपनों को अपनों ने लूटा
    एक खिलौना था जो टूटा
    छोड़ यहीं सब झोला-झंखड़
    चल निर्जन में यह जग झूठा......

    बहुत खूब....बधाई.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. ये अंदाज़ भी खूब रहा देवेन्द्र जी...आप हरफ़नमौला हैं सरकार।

    "घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे"

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  10. मार्च का अंतिम महिना, ???? भाई कुछ समझ नही आया ??
    आप की रचना बहुत सुंदर लगी, बहुत सुंदर भाव.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत शब्दों और भावों से सजी सुंदर रचना...अच्छी कविता लगी...बधाई देवेन्द्र जी

    ReplyDelete
  12. apki rachna padh kar bahut acchha laga aur adhyatam ki taraf jhukav bhi..
    aur apki bhawani didi wali rachna bhi man ko chhu gayi...2-3 bar padhne ka man kiya.

    ReplyDelete
  13. भाटिया जी...सुधार दिया है...शुक्रिया.

    ReplyDelete
  14. humaari recording bhi lagaani thi naa .abhi tak mili nahi aapko ??????????????

    ReplyDelete
  15. बहुत सही बात कही १६ तारीख से नव वर्ष की शुरुवात हो रही है पर आज के लोगों में से कितने ही लोगों को ये पता भी नहीं होगा
    अंतिम पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं
    घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे


    जो संभले वो पार लगे रे
    तू है कौन कौन हैं तेरे।

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी रचना .यहाँ कोई अपना नहीं है ,सब अकेले हैं ,अपनी अपनी दुनिया में हेर कोई खोया है .मगर एक विडंबना है की हर कोई दूसरे से कुछ पाने की आस लगाए रहता है.
    यह संसार तब छूट जाता है जब मन का यह मेरा-तेरा भ्रम छूट जाता है.इसे छोडकर कहीं जंगल या किसी एकांत जगह जाने की कोई आवश्यकता नहीं है.

    ReplyDelete
  17. सुन्दर भावों की सुंदर सी कविता

    ReplyDelete
  18. सपनों को अपनों ने लूटा
    एक खिलौना था जो टूटा
    छोड़ यहीं सब झोला-झंखड़
    चल निर्जन में यह जग झूठा.
    वाह बहुत सुन्दर भजन है। बधाई।

    ReplyDelete
  19. ताल-तलैया पी कर जागा
    नदी मिली सागर भी मांगा
    इतनी प्यास कहाँ से पाई
    हिम से क्यों मरूथल तक भागा

    क्यों खुद को ही, रोज छले रे
    तू है कौन, कौन हैं तेरे..
    kya kamal ki rachna hai..!

    ReplyDelete
  20. bahoot khoob wali baat hai ji
    "तू है कौन कौन हैं तेरे।"
    ye pta chal gaya to atma ki bechaini hi kho jaayegi...........
    kunwar ji

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन प्रस्तुति,धन्यवाद भाई जी.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना! इस बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  23. moko kanha dhundhe hai bande ..kabeer ki yh panktiya yad aa gai aapke dvara rachit bhajan padhkar .bahut hi sundr aur sarthak bhajn .

    ReplyDelete
  24. सुन्दर रचन । इतना बड-आ चित्र मत लगाइये ब्लॉग देर से खुलता है ।

    ReplyDelete
  25. नवगीत की तर्ज़ पर भजन ? वाह भाई ।

    ReplyDelete
  26. सही है अंग्रेजों की नक़ल करने में हमने अपनी अकल नहीं लगाई |भजन बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  27. वाह.....देवेन्द्र जी जैसे आपकी कवितायेँ लाजवाब होती है भजन भी कहीं जगह नहीं छोड़ता ......बहुत खूब .....!!

    शायद खुली खिडकियों की ताज़ी हवा का करिश्मा हो .....!!

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब... नव संवत्सर 2067 व नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  29. चित्र मत हटाइये...
    ब्लॉग भले ही एकाध मिनट देरी से खुले..
    पर इस चित्र को एक नजर ठहर के देखते हैं हम....हमें कोई जल्दी नहीं होती..कमेन्ट करके भागने की....



    बाकी बात भजन से पहले..बच्चों की परीक्षाओं की...
    उनकी कामयाबी के लिए दुआ करते हैं...


    जो संभले वो पार लगे रे
    तू है कौन कौन हैं तेरे।
    ये दो लाइनें...हमारे लिए भी..
    बच्चों के लिए भी......

    ReplyDelete
  30. घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे

    Bahut hi umdaaaaaaaaah likha hai aapne!!

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    ReplyDelete
  31. प्रभावशाली...आपका भजन कुछ सोचने के लिये प्रेरित करता है.
    आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  32. काफी दिनों बाद आया मगर बहुत अच्छा लगा। आप ने तो नाम ही बदल डाला। आप कैसे है ?
    अच्छी प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  33. aapke blog kee charcha bahut suni thi par aaj aane ka mauka mila... kavita umda hai... ab to nirantar aaya karunga...

    ReplyDelete
  34. जीवन में कभी-कभी आध्यात्मिक होना ज़रूरी हो जाता है...और कभी जान कर भी पलायन कर लेना चाहिये....सुन्दर भजन..."
    प्रणव सक्सैना
    amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete
  35. लगता है, बार-बार गुजरा हूं इन पंक्तियों से। दोपहर के बाद के घाट जैसी अनुभूति। शुद्ध, शांत और सत्य।

    ReplyDelete
  36. अच्छा है भाई!
    घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे

    जो संभले वो पार लगे रे
    तू है कौन कौन हैं तेरे।
    गूढ़ व्यंजना है। बधाई!

    ReplyDelete
  37. एक नया रंग नजर आया इस बार..और क्या खूब नजर आया..जैसे कि हर रंग के कुशल चितेरे हैं आप..और रचना को नये स्तर पर ले जाते हैं हर बार..
    इन पंक्तियों पर पहले भी कई बार रुका कि कुछ कहना संभव नही लगा..और इस बार भी बड़ी देर ठिठका रहा
    घट पानी का पनघट ढूँढ़े
    भरे लबालब मद में डूबे
    सर चढ़ कर जब लगे डोलने
    ठोकर खाए खट से फूटे
    कितनी दूर तक जाती हैं यह पंक्तियां और इसके भाव..एक जलहीन प्यासे घट का पनघट से वही संबंध होता है जो आत्मा का ईश्वर से होता है..मगर जल पा कर वही घड़ा जल के मद मे पनघट से कितनी जल्दी विमुख हो जाता है..मगर यह नही जानता वह कि यह जल उसका अपना नही है..वह मात्र वाहक है..वैसे तो खाली घड़े सर पर कम ही चढ़ाये जाते हैं..मगर सरचढ़ा घड़ा जब मदमत्त हो कर डोलता है..तो समझिये उसका अंतकाल आ गया..यह शरीर भी बस मिट्टी का खाली घड़ा है बस!
    घर-मंदिर मे गाने लायक है यह भजन!!
    नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं व बच्चों की परीक्षाओं की शुभेच्छा सहित!!

    ReplyDelete
  38. दूजी किस्म की अभिव्यक्ति, एक अलग ही रंग !
    तू है कौन, कौन है तेरे.. की प्रतिध्वनि लगातार गूंज रही है कानों में ! आभार प्रविष्टि के लिए ।

    ReplyDelete
  39. सपनों को अपनों ने लूटा
    एक खिलौना था जो टूटा
    छोड़ यहीं सब झोला-झंखड़
    चल निर्जन में यह जग झूठा

    बात तो आपकी सही है ... ये जाग झूठा है ... पर अगर निर्जन में भी मन न माना तो क्या होगा ....
    बहुत अच्छा लिखा है ...

    ReplyDelete
  40. तू है कौन, कौन है तेरे..

    Koi kisi ka nahi ye jhoote, nate hain nato ka kya...

    ReplyDelete