21.12.10

नव वर्ष के शुभ संदेशे

................................................

पहले प्रीतम की पाती में
अब आते मोबाइल में।
नया साल शुभ हो कहते हैं
नई अदा, स्टाईल में।

कभी इधर तो कभी उधर को
दौड़ा-भागा करते है
सबकी खुशियों की खातिर ये
हरदम जागा करते हैं

मरहम के फाए होते हैं
छोटी सी स्माईल में। [नया साल शुभ हो……]

झूठे निकले शुभ संदेशे
आए पिछले सालों में
रीते अपने सभी सपन घट
दुनियाँ के जंजालों में

कहते फेंको ऐसी बातें
रद्दी वाली फाईल में। [नया साल शुभ हो……]

49 comments:

  1. कभी इधर तो कभी उधर को
    दौड़ा-भागा करते है
    सबकी खुशियों की खातिर ये
    हरदम जागा करते हैं
    xxxxxxxxxxxxxxxx
    तकनीक का जमाना है भाई .....सम्यक कविता ......शुक्रिया
    आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. देवेन्द्र जी!
    एकदम सचाई!! मज़ा आ गया! इसमें बड़ों की हकीकत के साथ नर्सरी राइम वाली मासूमियत भी है!

    ReplyDelete
  3. मरहम के फाए होते हैं
    छोटी सी स्माईल में।

    वाह वाह देवेन्द्र भाई, बहुत ही प्रशंसनीय प्रस्तुति| बधाई|

    ReplyDelete
  4. ये भी खूब रही :-)

    ReplyDelete
  5. यूँ न फेंको मेरी स्माइली ट्रैश बॉक्स में
    किसी बहाने चाहे जैसे,मुस्कुराये तो हैं।

    ReplyDelete
  6. इस माहौल में नव वर्ष सिर्फ मोबाइल कंपनियों को मंगलमय होता है ।
    सुन्दर रचना , यथार्थ दिखाती हुई।

    ReplyDelete
  7. शायद इस बार काम आ जायें ! बहुत बहुत शुभकामनाएं :)

    ReplyDelete
  8. झूठे निकले शुभ संदेशे
    आए पिछले सालों में........
    sunder, ati sunder panktiyan....

    ReplyDelete
  9. मरहम के फाए होते हैं छोटी सी स्माईल में...
    शुभ हो!

    ReplyDelete
  10. हर दिन आपके लिये नव दिन हो,
    हर दिन आपके लिये शुभ हो।

    ReplyDelete
  11. सटीक अभिव्यक्ति।
    मरहम के फाए होते हैं
    छोटी सी स्माईल में।---- अब किसी के पास समय ही नही ये फाहे रखने का। अच्छी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  12. chaliye devendra ji,
    is bar ek aur nai style
    ab blog ke jariye nav varsha ki subh-kamnayein.

    Ap sabhi ko nav varsha mangalmay ho.

    ReplyDelete
  13. DEVENDER JI IS SAAL SE AGALE SAAL KI BADHAI SWIKAR KAREN.ASHA HAI AGALA SAAL IS SAAL SE JYADA KAMAYAB HO.BAHUT SUNDAR.DHANYABAD.

    ReplyDelete
  14. प्रशंसनीय प्रस्तुति|

    ReplyDelete
  15. ... bahut sundar ... bhaavpoorn rachanaa !!!

    ReplyDelete
  16. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  17. वाह......वाह.....वाह...

    क्या बात कही..मिजाज झूम गया...

    व्यंग्य भी, सत्य भी और शुभकामना भी, क्या क्या लपेट दिया आपने इन अनुपम पंक्तियों में...

    बहुत बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  18. ज़माने का तकाजा है तो सब क़ुबूल, मरहम के फाये कैसे भी आयें. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  19. अजी यह तो एक सत्य उजागर कर दिया आप ने, बहुत सुंदर जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. पहले प्रीतम की पाती में
    अब आते मोबाइल में।
    नया साल शुभ हो कहते हैं
    नई अदा, स्टाईल में।

    अच्छी स्टाइल ,सुन्दर गीत.

    ReplyDelete
  21. नया ज़माना और नया स्टाईल ...अपनाना तो पड़ता है ..

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर, बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  23. एक नए अंदाज में, नए-नए शब्दों की कविता ने खूब गुदगुदाया।

    ReplyDelete
  24. अच्छा विवरण है बदलाव का!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  25. सच कहूँ तो पढ़ते-पढ़ते मैं गाने भी लगी ..खूब गुदगुदाया साथ ही झुमाया भी ... नव वर्ष के लिए सुन्दर सन्देश ..आज का सच भी .

    ReplyDelete
  26. नया साल शुभ हो……

    ReplyDelete
  27. झूठे निकले शुभ संदेशे
    आए पिछले सालों में
    रीते अपने सभी सपन घट
    दुनियाँ के जंजालों में

    कहते फेंको ऐसी बातें
    रद्दी वाली फाईल में।

    भई वाह क्या अंदाज है...

    ReplyDelete
  28. देवेन्द्र जी,

    वाह...वाह....क्या बात है....

    ReplyDelete
  29. झूठे निकले शुभ संदेशे
    आए पिछले सालों में
    रीते अपने सभी सपन घट
    दुनियाँ के जंजालों में
    कहते फेंको ऐसी बातें
    रद्दी वाली फाईल में।
    ...यथार्थ दिखाती सुन्दर रचना
    ..., नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  30. नव वर्ष आपको भी मंगलमय हो !

    ReplyDelete
  31. आपकी कविता की भी नई स्टाइल है.जमाने के संग तो चलना ही पडेगा.
    मुस्कान को मरहम के फाहे बनाते हैं आप तो अछ्छा लगता है,मगर शुभकामनाओं को रद्दी की फ़ाइल में न फेकें.

    ReplyDelete
  32. यह तो एक सत्य उजागर कर दिया आप ने, बहुत सुंदर| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  33. नए अंदाज़ में नए साल का यह गीत दिल को छू गया . आभार , बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  34. पहले प्रीतम की पाती में
    अब आते मोबाइल में।
    नया साल शुभ हो कहते हैं
    नई अदा, स्टाईल में।


    बात तो आपकी सही है। लिखा भी आपने ज़बरदस्त है।

    आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा।

    आपको क्रिसमस और नये साल की ढेरों शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  35. आपको एवं आपके परिवार को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  36. computerize jamana hai to ye ada ye style to honge hi. sunder rachna.

    ReplyDelete
  37. रस्मी बधाइयों का यही हाल होता है हुजूर। तकनीक न जाने किस हद तक घर करेगी हम में।

    ReplyDelete
  38. क्या बात है-अंदाजे बयां अच्छा लगा। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर!

    आपको नये साल की ढेरों शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  40. जिंदगी का हर फलसफा सही है
    दिल ने जब-जब जो-जो चाहा
    होठों ने वो बात कही है।

    किसी ने कहा है...

    जिंदगी आँखों से टपका बेरंग कतरा
    तेरे दामन की पनाह पाता तो आँसू होता।
    ..उम्दा पोस्ट ।
    कविता का आपका अन्दाज निराला है ।

    क्रिसमस पर्व सहित नूतन वर्ष की अनेकों शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  41. बहुत सुंदर कविता|आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  42. साहब जैसा देस, वैसा ही भेस,
    कभी थी पाती, अब एस.एम.एस ;)

    शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  43. Very nice..............
    "Happy new year"

    ReplyDelete
  44. NAYA SAAL 2011 CARD 4 U
    _________
    @(________(@
    @(________(@
    please open it

    @=======@
    /”**I**”/
    / “MISS” /
    / “*U.*” /
    @======@
    “LOVE”
    “*IS*”
    ”LIFE”
    @======@
    / “LIFE” /
    / “*IS*” /
    / “ROSE” /
    @======@
    “ROSE”
    “**IS**”
    “beautifl”
    @=======@
    /”beautifl”/
    / “**IS**”/
    / “*YOU*” /
    @======@

    Yad Rakhna mai ne sub se Pehle ap ko Naya Saal Card k sath Wish ki ha….
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !

    ReplyDelete
  45. 2011 का आगामी नूतन वर्ष आपके लिये शुभ और मंगलमय हो,
    हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  46. नए वर्ष पर कुछ नहीं लिखा ...कहाँ व्यस्त हैं आप, देवेन्द्र भाई ?? नए साल की मंगल कामनाएं

    ReplyDelete
  47. vaah devendr जी .. lajawab prastuti है ...

    ReplyDelete