27.11.11

वह आया, घर के भीतर, चुपके से...!



वह
चुपके से आया।

वैसे नहीं
जैसे बिल्ली आती है दबे पांव किचेन मे
पी कर चली जाती है
सारा दूध

वैसे भी नहीं
जैसे आता है मच्छर
दिन दहाड़े
दे जाता है डेंगू

न खटमल की तरह
गहरी नींद
धीरे-धीरे खून चूसते

न असलहे चमकाते
न दरवाजा पीटते

वह आया
बस
चुपके से।

न देखा किसी ने, न पहचाना
सिर्फ महसूस किया   
आ चुका है कोई
घर के भीतर
जो कर रहा है
घात पर घात।

तभी तो...

कलकिंत हो रहे हैं
सभी रिश्ते 

धरे रह जा रहे हैं
धार्मिक ग्रंथ 

धूल फांक रहे हैं
आलमारियों में सजे
उपदेश

खोखले हो रहे हैं
सदियों के 
संस्कार

नहीं
कोई तस्वीर नहीं है उसकी मेरे पास
नहीं दिखा सकता
उसका चेहरा
नहीं बता सकता
हुलिया भी

मैं
अक्षिसाक्षी नहीं
भुक्त भोगी हूँ
ह्रदयाघात से पीड़ित हूँ
यह भी नहीं बता सकता 
कब आया होगा वह
सिर्फ अनुमान लगा सकता हूँ 


तब आया होगा
जब हम
असावधान
सपरिवार बैठकर
हंसते हुए
देख रहे थे
टीवी।

हाँ, हाँ
मानता हूँ
इसमें टीवी का कोई दोष नहीं
था मेरे  पास
रिमोट कंट्रोल।

.......................
अक्षिसाक्षी=चश्मदीद गवाह।

42 comments:

  1. बड़ी अब्स्ट्रेक्ट कविता, सनी लियोन की बात तो नहीं कर रहे हैं -अनिन्द्य सौन्दर्य का झटका ऐसे ही होता है :)

    ReplyDelete
  2. bahut sundar sir.....aapke blog naam ko charitharth karti hui.....

    ReplyDelete
  3. अरविंद मिश्र..

    प्रेरणा तो वहीं से मिली सर...आज लिख पाया। लिंक जानकर नहीं दिया कि कविता का असर कम न हो..पाठक फिर चित्र में रम जांय:-)

    ReplyDelete
  4. ठीक लिखा है आपने ...हमारी असावधानी ही ज़िम्मेदार है ...इस बदलते हुए परिवेश के लिए ....

    ReplyDelete
  5. कृपया रिमोट कंट्रोल का दुरूपयोग न करें । :)

    ReplyDelete
  6. जी,कब यह हमारे अंतर्चेतन व हमारे सम्स्कार को जेनेटिक स्तर बदल देता है हमें भान बी नहूी होता।

    ReplyDelete
  7. वह चुपके से तो नहीं आया ,हमीं ने दावत दी होगी,
    लगता नहीं कि जल्द हमें राहत होगी !

    सामयिक विषय पर सटीक नज़र !

    ReplyDelete
  8. वाह भाई वाह |
    मजा आ गया ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  9. जो जिस भाव से पढ़े उसे वही भाव दिखाए दे.. पांडे जी हर बार की तरह प्रभावित करने वाली कविता..
    कीचन = किचेन
    तश्वीर = तस्वीर
    :) पता है यह टाइपिंग की त्रुटि है!!

    ReplyDelete
  10. मै यह नही मानता कि टी. वी. कोई घात कर रही है.

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब ..विचारों का मंथन करती रचना बधाई

    ReplyDelete
  12. पर यह सच है कि टीवी के माध्यम से न जाने कितना कुछ घुसा जा रहा है हमारे घरों में।

    ReplyDelete
  13. टी वी से बहुत कुछ घरों में घुसाने कि कोशिश हो रही है .. यह आप पर निर्भर है कि किसे आने दें या किसे नहीं ... विचारणीय रचना

    ReplyDelete
  14. काउच पोटैटो का कमाल।

    हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, टाइप २ डायबीटीज --- सब आते हैं ऐसे कि पता नहीं चलता!

    ReplyDelete
  15. हमने अपना जीवन इतना आराम तलब कर लिया है कि इस तरह के कई तत्व चुपके से आ जाते हैं और घर कर लेते हैं हमारे तन में, मन में।

    ReplyDelete
  16. सच है, रास्ता तो हमने ही दिया है।

    ReplyDelete
  17. विचारों का सटीक मंथन ...

    ReplyDelete
  18. Excellent writing! Thank you for this wonderful source of information.
    From everything is canvas

    ReplyDelete
  19. बहुत खूब देवेन्द्र भाई! सच है, हम लोगों ने अपना कंट्रोल रिमोट के हाथों मे सौंप दिया है...

    ReplyDelete
  20. अच्छा... तो सन्नीलियोनात्मक रचना है :)

    ReplyDelete
  21. सुन्दर प्रस्तुति |मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वगत है । कृपया निमंत्रण स्वीकार करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  22. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. bahut kuchh ghat jata hai aur ham anjaan hi rehte hain apne aas-paas ki ghatnaon se... samay rehte jaaag jaayein to behtar ho ham sabhi ke liye..

    ReplyDelete
  24. वाह देव बाबू........मुझे तो सस्पेंस का मज़ा आया.......बेहतरीन|

    ReplyDelete
  25. dekhiye sir lagta hai comment fir se spaim me pahunch gaya hai

    ReplyDelete
  26. बेहतरीन प्रस्तुति...विचारणीय..

    ReplyDelete
  27. bhaut achche vichar liye hue hai ye kavita...kaun hai jo hame dharmik grantho se dur kar rha hai....koi nahin hum khud....hum sab pyar ke bhukhe hain....hame kahaniyon ki bhukh lagti hai....jo jahan se puri ho....vahan jum jate hain....asli pyar na sahi ...nakali dekhkar hi man ka sakoon dhundhne lagte hain...

    ReplyDelete
  28. Devendra bhai...

    Padh rahe hain, hum bhi arse se....
    Yahan har blog ko...
    Par na koi 'Atma, bechain' aisi hai lagi..
    Kavita main jo kuchh dikha, wo hai humari bhi vyatha..
    Koi yun chup-chap ghar main, sabke hi hai aa ghusa...
    Par yahan control hai ki, haath main remote hai..
    Aaj 'net', par, de raha, ek aatmghati chot hai...
    Ek click se door hain ab, sur, sura aur sundri..
    Facebook, twiter main fanskar, rah gaya hai aadmi...

    Aaj se hum bhi aapke sahchar hain...aapke blog ka anusaran karte hue..

    Shubhkamnaon sahit..

    Deepak Shukla..
    @ es kavita ke pahle hi comment se meri tippani bhi prabhavit hai.. Achha hai aapne link nahi diya...:)

    ReplyDelete
  29. very nice thinking n expression.thanks for your suggestion
    about my blog i will translate it in hindi after some time.

    ReplyDelete
  30. देवेन्द्र भाई, आज बाऊंसर मानकर जाने देते हैं:)

    ReplyDelete
  31. वाह! बहुत सुन्दर जी.
    बाउंसर हो या गुगली,पसंद आई जी.
    अच्छी प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  32. महाराज...नई पोस्ट में टीप-बॉक्स क्यों बंद कर दिया है ?

    ReplyDelete
  33. अपने ह्रदय के भाव इस रचना में ध्वनित पा रही हूँ...

    कोटिशः आभार...

    इसके आगे क्या कहूँ, सबकुछ कह तो दिया आपने...

    ReplyDelete
  34. मैंने भी भांप लिया.. आप किसकी बात कर रहे हैं..

    ReplyDelete
  35. परिवर्तन इतने महीन तरीके सी ही आता है पता नहीं चल पाता ... फिर आप तो सन्नी लिओन की बात कर रहे हैं ..

    ReplyDelete