26.2.12

आयो रे बसंत चहुँ ओर



धरती में पात झरे
अम्बर में धूल उड़े

अमवां में झूले लगल बौर
आयो रे बसंत चहुँ ओर.

कोयलिया 'कुहक' करे
मनवां का धीर धरे

चनवां के ताकेला चकोर
आयो रे बसंत चहुँ ओर.

कलियन में मधुप मगन
गलियन में पवन मदन

भोरिए में दुखे पोर-पोर
आयो रे बसंत चहुँ ओर.

..........................................................
इसका पॉडकास्ट सुनने के लिए यहां क्लिक करें....अर्चना जी का ब्लॉग...मेरे मन की।

31 comments:

  1. मन में भी बसंत है,तन में भी बसंत है,
    ऋतुराज दिग-दिगंत में छाय रहा हर ठौर !

    मादक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  3. सुंदर प्रस्तुति ...बसंत के आगमन का सटीक चित्रण

    ReplyDelete
  4. कोयलिया कुहक करे
    मवना का धीर धरे

    बसंत का मोहक चित्र मन को भा गया !

    ReplyDelete
  5. सुंदर कविता ...!

    ReplyDelete
  6. हमके तो लागल कि छंद बढ़िया मिलौले हौआ.नये पत्तों की बात नहीं,पोर-पोर मा दर्द की बात करले हौआ.जाडे-पाले के बाद तो दर्द कम होला.

    ReplyDelete
  7. वाह भई द‍ेवेन्‍द्र जी बहुत बढ़‍िया

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 27-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  9. बसंत पर बनारसी अंदाज में अति सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. अति उत्तम,सराहनीय मन को हर्षित करती प्रस्तुति,सुंदर रचना,....

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    ReplyDelete
  11. पात झरे लागल धुरिया उडाय लागल ....त बुढौती मं हमहूँ बूझ गइलीं के बसंत आ गइल....और कइसे बूझीं हो ?

    ReplyDelete
  12. शब्द शब्द हर्ष लिए
    नया सा उत्कर्ष लिए
    पढ़ के मगन हुआ पोर पोर

    ReplyDelete
  13. वासंती फुहार की तरह भिगो गई यह रचना!!

    ReplyDelete
  14. भोरिये में दुःख पोर पोर -इस पर कवि प्रकाश डाले :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. :)टार्च लेकर तो आप बैठे हैं, प्रकाश हम डालें!

      Delete
  15. भोर को तो होना ही नहीं चाहिए... वसंत में तो हरगिज नहीं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. त्यागी जी से सहमत, बिल्कुल नहीं होन चाहिये जैसे रेल में आखिरी डिब्बा नहीं होना चाहिये:)

      Delete
  16. बसंत का आगमन कोयलिया के साथ ... मन का धीर तो खोना ही है ऐसे में ...
    सुन्दर गीत है ...

    ReplyDelete
  17. वसंत का असर इधर तो नहीं हो पा रहा पर आपकी ओर पूरा लग रहा है। अंतिम पंक्तियों में नहीं कह कर भी बहुत कुछ कह गए आप.:)

    ReplyDelete
  18. sabd sabd apne aap me paripurn
    behtreen prastuti

    ReplyDelete
  19. मादक और बासंती रचना

    ReplyDelete
  20. बा्ह्य एवं अंतः प्रकृति में वासंती वातावरण का संश्लिश्ट चित्रण -सुन्दर!

    ReplyDelete
  21. सब मामला लेट-लतीफ़ है। गर्मी आने पर बसंत आने का किस्सा पढ़ पा रहे हैं। :)

    ReplyDelete