25.12.12

ठीक है!



ठीक है!

कहाँ ठीक है?
'छक्कों' से 'छक्के' हारते हैं
और तुम कहते हो
ठीक है!

नौकरी के लिए
बाप को मारते हैं
छोकरी के लिए
माँ को मारते हैं
और तुम कहते हो
ठीक है!

कहाँ ठीक है?

अब तो करने लगे हैं
चमत्कार!
राह चलते बस में
बलात्कार!
विरोध करो तो
लाठी, पानी की बौछार
और तुम कहते हो ठीक है!

कहाँ ठीक है?

माना कि
तुम्हारे पास भी बेटियाँ हैं
लेकिन तुमने यह नहीं जाना
कि हमारे पास
सिर्फ बेटियाँ हैं
न एसी कार, न सिपहसलार,
ले देकर प्यार ही प्यार है
जख्म मिलता है तो दिखाते हैं गुस्सा
यह गुस्सा नहीं
जरा ठीक से समझो
यह हमारे
आँसुओं की धार है
और तुम कहते हो ठीक है!

कहाँ ठीक है?

ठीक तुम्हारे लिए होगा बाबू
हमारे लिए तो
सब बेठीक है।

ठीक तो तब होगा
जब 'छक्के' भी लगाने लगेंगे 'छक्का'
उखाड़ देंगे तुम्हारी गिल्लियाँ
कर देंगे तुम्हें क्लीन बोल्ड
तब हम कहेंगे..
ठीक है!
हाँ, अब ठीक है।
....................................................................
नोटः अभी तक तो ब्लॉग से फेसबुक में स्टेटस लिखता था आज पहली बार हुआ कि फेसबुक में स्टेटस लिखते-लिखते यह व्यंग्य लिखा गया। लिखा तो सिर्फ 10 मिनट में है लेकिन दर्द तो कई दिनो का है।

29 comments:

  1. हम न समझे थे बात इतनी सी
    ख्वाब शीशे से दुनिया पत्थर की
    :(

    ReplyDelete
  2. '..कर देंगे तुम्हें क्लीनबोल्ड..'
    - शंखनाद हो चुका है !

    ReplyDelete
  3. एक एकदम ठीक है .

    ReplyDelete
  4. 'छक्के' के अलावा सब ठीक है !

    ReplyDelete
  5. आपकी यह बेहतरीन रचना शुकरवार यानी 28/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर लिंक की जाएगी…
    इस संदर्भ में आप के सुझाव का स्वागत है।

    सूचनार्थ,

    ReplyDelete
  6. बिल्कुल ठीक कहा

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ... १० मिनट में ये कमाल है तो जब दिल में आग होगी तो क्या होगा ...
    प्रभावी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  8. ये न होता तो
    दूसरा ग़म होना था,
    मैं वो हूँ जिसे हर हाल में ही
    ठीक होना था।

    ReplyDelete
  9. वाह ......बहुत ही ज़बरदस्त।

    ReplyDelete
  10. सही है, उनके लिए सब ठीक है लेकिन आमजन के लिए कुछ भी ठीक नहीं है। बहुत ही अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  11. काहे नाराज़ हो रहे हैं,
    पूछ ही तो रहे हैं कि ठीक है ? :)

    ReplyDelete
  12. व्यंग्य से ज्यादा मार्मिक चेतना है ...

    ReplyDelete
  13. zaayaz aalrosh !

    Aabhar saamyik sarthak lekhan ke liye......

    ek arse blog se tatsth rahee iseese post nahee padee

    samay samay par pichalee saree post padne hai. :)

    ReplyDelete
  14. .
    .
    .
    तुमने कहा
    अंत में
    ठीक है !

    पर
    किसी को
    लिखना पड़ा
    गर
    यह सब
    रहते तुम्हारे
    भर
    आँखो में
    अश्रु धार
    डर
    रहा है इक
    बेटी का बाप
    भर
    गया जब उसका
    सब्र का बाँध


    तो, बाबू !
    कहीं भी
    यहाँ
    कुछ भी
    ठीक नहीं है...

    कुछ करोगे
    क्या तुम ?


    ...




    ReplyDelete
    Replies
    1. शानदार प्रतिक्रिया के लिए आभार।

      Delete
  15. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 27 -12 -2012 को यहाँ भी है

    ....
    आज की हलचल में ....मुझे बस खामोशी मिली है ............. संगीता स्वरूप . .

    ReplyDelete
  16. बेहद सटीक ...

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर रचना.यहाँ यैसा ही है देवेन्द्र बाबु,ये संसार है और यहाँ कुछ भि ठीक है तो तारीफे काबिल है.

    ReplyDelete
  18. संजय, रणक्षेत्र में क्या सब ठीक है।

    ReplyDelete
  19. जो लोग पांडे जी अपनी लौंडियाँ लौंडे गिना रहे हैं पुलिस इनकी रखैल है ये वी आई पी छोकरी छोकरा हैं एक भी आन्दोलनकारियों के बीच होता तो पुलिस की .......जाती .बढ़िया सन्देश प्रसारित करती है नव वर्ष पर्व पर यह पोस्ट .आभार .नूतन वर्ष अभिनन्दन !मूर्खों की कमी नहीं है एक ढूंढोगे हजार मिलेंगे .काठ के बन्दे हैं ये सारे के सारे निर्भाव ,स्पन्दनहीन ....



    3hVirendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी
    Expand Reply Delete Favorite
    3hVirendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का

    ReplyDelete
  20. bhai vakai dhritrashtr hi hain hamare p m .....apki rachana unke theek hai pr karara tamacha hai ....badhai sweekaren .

    ReplyDelete
  21. आपकी यह प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. हां अब ठीक है.
    बहुत सटीक व्यंग,

    रामराम

    ReplyDelete
  23. दर्द जायज भी है और व्यंग में ये दर्द दिख भी बखूबी रहा है |

    सादर

    ReplyDelete