11.2.13

आलू-चना।


अच्छा खासा रविवार था। अच्छा इसलिए कि छुट्टी थी और खासा इसलिए कि मुझे कोई खास काम नहीं था। फरवरी की उतरती ठंड थी, नहाया था और स्वच्छ वस्त्र धारण किये, गुनगुनी धूप में बैठकर सरसों के फूल.. नहीं, तेल में तला आलू-चना खा रहा था।

बदरी कभी बताकर नहीं छाती। काली घटा कभी भी घिर कर आ सकती है।  मैं प्रसन्न था तभी एक हादसा हो गया! मुक्त छंद वाले एक कवि मित्र, उन्मुक्त भाव से छत पर चढ़े चले आ रहे थे। उन्हें देखते ही मैं हकबकाहट में आलू-चने के बीच श्रीमती जी द्वारा प्यार से समर्पित हरा मिर्चा पूरा खड़ा चबा गया। इधर मैं तीते से सी-सी कर रहा था उधर मेरे कवि मित्र तेजी से सीढ़ी चढ़ने के कारण हाँफ रहे थे। दोनो की सांसें तेज-तेज चल रही थीं। मुझे देखते ही बोल पड़े..मिर्ची लगी क्या ? फिर नमस्कार के बाद बिला सकुचाए कबूतर की तरह गुटरियाने लगे,  "हें.. हें.. हें.. लगता है धूप में बैठकर कुछ खा रहे हैं! क्या खा रहे हैं?  हमने आज एक नई कविता लिखी है। सुनिये, सुना रहे हैं।" उन्होने मुझे कुछ कहने का अवसर नहीं दिया। मैने दुखी मन से पानी पीया और उन्हें देर तक मिर्च जलित, अश्रुपूरित निगाहों से अवाक हो देखता रहा।

यह लोगों की आदत होती है कि आपको जो करते देखते हैं वही पूछ बैठते हैं। आप सुबह चाय की दुकान में बैठकर अखबार पढ़ना शुरू किये नहीं कि कोई धप्प से आपकी खोपड़ी पर सवार हो प्रश्न का हथौड़ा जमा देगा, "अखबार पढ़ रहे हैं?" आप बीबी से झगड़ कर चाय पीने नहीं आये हैं तो ठीक वरना क्रोध में कह सकते हैं, "नहीं, पढ़ नहीं रहे हैं, इसको अपना चेहरा दिखा रहे हैं! पढ़ तो अखबार हमको रहा है।"

बहरहाल जोश से भरे कवि जी को रोकने की गरज से मैने कहा, "रूकिये! पानी-वानी पी लीजिए, थोड़ा आराम कर लीजिए, इत्ती जल्दी क्या है? वे बोले, "नहीं, नहीं... ठीक है। हम घर से अभी खा पी कर चले हैं। फारमेल्टी की कोई जरूरत नहीं है, आप बस हमारी कविता सुन लीजिए और बताइये कैसी है? आपको तो पता ही चल गया होगा कि अफ़जल गुरू को फाँसी दे दी गई! उसी पर लिखा है। मेरे कुछ कहने से पहले ही वे शुरू हो गये...

अच्छा किया कसाब को फाँसी चढ़ा दिया
अच्छा किया अफ़जल को फाँसी चढ़ा दिया

बलात्कार किया जिन पापियों ने बस में
सबको अब चुन-चुन के फाँसी पे चढ़ा दो।
..........................................................

मैं यही सब सुन-सुन कर पहले से ही बहुत पका हुआ था।  खीझकर  सच बोल दिया..."कविता सुना रहे हैं या सड़क पर खड़े होकर चुनावी नारा लगा रहे हैं!" इत्ता सुनना था कि कवि जी सकपका  गये। आश्चर्य से बोले, "यह तो आलोचना है!" मुझे भी शब्द भ्रम हो गया। मैने समझा, वे जान गये कि मैं आलू-चना खा रहा हूँ! बोला,  "हाँ, आलू-चना है। बढ़िया है।"

बहुतों की यही कमजोरी होती है। कटु आलोचना के बीच भी एकाध शब्द को अपनी प्रशंसा मान फूले नहीं समाते। वे मेरे अंतिम शब्द को सुनकर थोड़े खुश हुए फिर अचानक से अकबका गये..

बढि़या है तो आलोचना कैसे है? तारीफ हुई!!! हें हें हें.. आप मजाक अच्छा कर लेते हैं।

मैने कहा, "मजाक नहीं कर रहा यार! यह वाकई आलू-चना है। मैं आपकी कविता की आलोचना की नहीं अपने आलू-चना की बात कर रहा हूँ। आपकी कविता बेकार है, खाकर देखिये यह बहुत बढ़िया है।"

वे अब बात पूरी तरह समझ चुके थे। गुस्से से उठे और जैसे चढ़े थे वैसे ही बड़ाबड़ाते हुए उतर गये- "पढ़े-लिखे लोगों का यह हाल है तो अनपढ़ों से क्या उम्मीद की जाय! कविता की समझ अब किसी में नहीं रह गई है। इस देश को अब भगवान ही बचा सकता है।"

मैं ठगा सा उनको जाते हुए देखता रहा। मैने महसूस किया कि मुझसे गलती हो गई। उनकी कविता नहीं सुनी, नहीं सुनी लेकिन बेवकूफी से अपना भी तो एक अच्छा पाठक गवा दिया! :) अच्छा खासे रविवार पर शनी की कृपा कुछ ऐसे भी होती है।
...........................

27 comments:

  1. ...आजकल आलोचना भी आलू चना हो गई है :-)

    ReplyDelete
  2. जैसे आलू-चने में, नमक मसाला मिर्च |
    नमक-मिर्च लगती बहुत, मकु काटे ज्यूँ *किर्च |
    *नुकीली छोटी तलवार

    मकु काटे ज्यूँ *किर्च, सिरजता भूखा बन्दा |
    भरे हुवे जो पेट , उन्हें तो लगना गन्दा |

    बेचारा कविराज, विरादर जैसे तैसे |
    कर लेते बर्दाश्त, पढो रविकर को जैसे ||


    ReplyDelete
  3. आलू चना मिर्ची के साथ परोसेंगे तो मिर्ची ही लगेगी। इन घटिया कवियों से साहित्‍य पर बन आयी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. घटिया कवि से मिली हैं कभी,इतनी आलोचना सही नही पेट में ही कोई कवि नहीं बन जाता.

      Delete
  4. माना कि देश का उद्घोष है
    सत्यमेव जयते
    इसका मतलब यह तो नहीं
    कि सत्य सर्वमान्य हो गया है

    ReplyDelete
  5. काश मैं भी छत पर होता , और तुम्हें कुछ बढ़िया कविताये सुना पाता :(
    आप जैसे श्रोता दुर्लभ हैं महाराज !

    ReplyDelete
  6. वाकई आलू चना बढ़िया रहा होगा :):) रोचक

    ReplyDelete
  7. बहत अच्छा किया.तीखे आलू-चने और करारी आलोचना बहुत बढ़िया ताल-मेल!

    ReplyDelete
  8. आलोचना के चक्कर में आलू-चना का स्वाद तो नहीं बिगड़ना जा जनाब ? बढ़िया लेख | पढ़ते वक़्त चहरे पर मुस्कान बनी रही | आभार

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  9. कविता और आलू चना, लगता है मसाला कुछ ज्यादा ही होगया.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. आलोचना तो दरअसल मिर्च से हुई ... आलू चना तो मजेदार है ही ... पाठक बचाइए ... उसके बिना कविता बेचारी क्या करेगी ...

    ReplyDelete
  11. :-)

    हा हा हा.......
    चटपटी पोस्ट के लिए शुक्रिया....आलूचने का मन हो आया....लिखते हैं कोई घटिया कविता (मगर हमारे प्यारे पाठक इतने कठोर नहीं है...शायद ही कोई आलुचना करे ;)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  12. आलू चना हर जगह मिल जाता है, जहाँ भी मिले खा लीजिये..

    ReplyDelete
  13. जबरदस्त आलू चना है , मिर्ची तो लगती ही :)

    ReplyDelete
  14. आलू चना वाकई मजेदार चटपटा था :)

    ReplyDelete
  15. चटपटी पोस्ट :-)

    ReplyDelete
  16. यह क्या बात हुई । आलोचना (आलू-चना) का स्वाद कुछ फीका लगा ।

    ReplyDelete
  17. आलू चना से आलोचना तक -क्या बात है? :-)

    ReplyDelete
  18. सहमत हूँ आजकल आलोचना कोई सुनना ही नहीं चाहता......अच्छा हुआ चाहें कम हो पर पाठक सही अर्थों में पाठक होने चाहिए.....

    ReplyDelete
  19. पते की बात बोल गए कवी महोदय :)

    ReplyDelete
  20. हा....हा......हा.....आलू-चना खाते वक्त कैसे कैसे कवि आलोचना खाने आ जाते हैं !

    ReplyDelete