17.2.13

दुन्नो हाथे लढ्ढू



दुन्नो हाथे में लढ्ढू 'हीरो' कब्बो ना मिली
लड़की चहबे फैंटास्टिक, नखरा झेले के परी।

दुन्नो हाथे में लढ़्ढू 'राजा' कब्बो ना मिली
लड़की बोली इंगलिश-विंगलिश, करवाचौथ ना करी।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू 'प्यारे' कब्बो ना मिली
जब कमाई चौचक त चूल्हा फूंके के परी।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू चाहे भारत सरकार
पूँजीपती चाभें माल, जनता करे जय जयकार।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू चाहें नेता हमार
करें एक्को नाहीं काम, जीत होखे बारम्बार।

दुन्नो हाथे मे लढ्ढू, नौकरीशाही कs प्यार
नता कहे ईमानदार, करी चौचक भ्रष्टाचार।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू 'राजा' कब्बो ना मिली
मालिक होई लालम लाल, जनता रोइबे करी।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू 'प्यारे' कब्बो ना मिली
जैसन करबा तू काम, वैसन भरे के परी।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू 'साहब' कब्बो ना मिली
करबा चोरी त सब चोर कहबे करी।

दुन्नो हाथे में लढ्ढू, हउवे लोभी सपना
जेतना देखी जे ओतना नचबे करी।
...................................................................

20 comments:

  1. ....नेताओं के ही दोनों हाथों में लड्डू हैं !

    ReplyDelete
  2. सुबह सुबह लड्डुओं के लिए लालायित कर दिया। :)

    ReplyDelete
  3. पाण्डेय जी आपने लड्डू बाँधने के साथ साथ मज़ा भी बाँध दिया | क्या बात है | दिल खुश हो गया पढ़कर | आभार |

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  4. दोनों हाथों में लड्डू ......,
    (दोनों हाथों से लड्डू खाने वाले को दरिद्री कहते हैं !!)

    सादर

    ReplyDelete
  5. पर नेताओं के दोनों हाथों में लड्डू आ ही जाते हैं ...
    मज़ा आ गया इन लड्डुओं का ...

    ReplyDelete
  6. लड्डू होना चाहीये........वैसे बहुतों के दोनों हाथों में लड्डू होते हैं.

    ReplyDelete
  7. वाह!
    आपकी यह प्रविष्टि दिनांक 18-02-2013 को चर्चामंच-1159 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  8. कविता तो अच्छी है, लेकिन औरतों पर इस तरह के मज़ाक मुझे अच्छे नहीं लगते. वैसे मैं इसे हँसी-मज़ाक में ही ले रही हूँ, लेकिन जाने क्यों थोड़ी निराशा हुयी. थोड़ा दुःख हुआ.

    ReplyDelete
  9. लड्डू खाना सबको अच्छा लगता है,,एक हाँथ से मिले या दोनों हाँथ से,,,

    recent post: बसंती रंग छा गया

    ReplyDelete
  10. दुन्नो हाथ में लाडू तरस तस कर बिबाह ।
    एक खाए के आह! आह! दूज पछताए आह! ।।

    ReplyDelete
  11. जय हो, दोनों लड्डू कौनो को न मिली..

    ReplyDelete

  12. दिनांक 07/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. सही कहा आपने, जो किया है उसका फ़ल तो आगे पीछे मिलेगा ही, दुन्नों हाथों लड्डू हो भी गये तो उसके फ़ल भी मिल ही जायेंगे.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. आप को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete