13.5.13

स्वर्ण रेखा नदी


तेरा असली नाम क्या है,
स्वर्ण रेखा नदी?

तू उस देश में बहती है
जिस देश को कभी सोने की चिड़िया कहते थे,
उस राज्य में बहती है जिसे झारखंड कहते हैं,
उस जिले में बहती है जिसे घाटशिला कहते हैं।

क्या महज इसलिए स्वर्ण रेखा कहलाई कि
पहाड़ियों के पीछे अस्त होने से पहले
सूर्य की सुनहरी किरणें
कुछ पल के लिए
खींच देती है तेरे आर-पार
एक स्वर्णिम रेखा!
या इसलिए कि
तू अपने साथ बहाकर लाई थी कभी
ताँबे और सोने के भंडार?

जाऊँगा बनारस
तो नहीं बता पाउँगा
माँ गंगा से तेरा हाल!
तेरी इतनी बुरी हालत सुनकर
दुखी होगी और
डर जायेगी बेचारी।

बहेलिए
जैसे कतरते रहते हैं
हाथ आई सुनहरी चिड़िया के पंख,
लोभी
जैसे दुहना चाहते है
आखिरी बूँद भी
वैसे ही कतरी,
चूस ली गई दिखती है तू तो!

तू अब
इतनी छिछली हो गई है
कि छोटे-मोटे पहाड़ जैसे दिखते हैं
तुझमें समाई शिलाएँ,
इतनी कमजोर हो चुकी है
कि सिर्फ एक बाँस के सहारे
कोंचते हुए
बिन चप्पू वाली नाव लेकर
आर-पार करता है
बूढ़ा माझी
और इतनी कम हो चुकी है तेरी गहराई कि
बीच धार में
पैदल ही चलकर
अपने जाल बिछाता है
मछेरा !

सोचता हूँ
बावजूद इसके
आज भी इतनी सुंदर है
तो कल कितनी सुंदर रही होगी तू!

तेरे तट पर
दूर-दूर तक बिखरी है
कोयले सी राख
ये काली है मगर कोयला नहीं है!
ये अवशेष हैं स्वर्णिम शिलाओं के
जिन्हें बड़ी सी फैक्टरी में
तोड़कर, तपाकर, निकालकर ताँबा-सोना...
फेंक दिया गया है
तेरे तट पर!

शायद
ऐसे ही पोती जाती है कालिख
सुंदरता के चेहरे पर!


नहीं
तू सिर्फ एक नदी नहीं है
कल शाम
जब डूब रहा था सूरज
खिंच गई थी
तेरे आर-पार स्वर्णिम रेखा
तो तू मुझे
सोने की चिड़िया सी दिखी!

तेरा असली नाम क्या है,
स्वर्ण रेखा नदी?
...........................

स्वर्ण रेखा नदी की शिला पर बैठते, फोटाग्राफी करते, ये भाव जगे।
दिनः 11-05-2013।
समयः जब सूरज पहाड़ियों के पीछे ढल रहा था।

23 comments:

  1. ..नदी को हार्दिक श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  2. उद्वेलित करते हैं ये भाव मन को ... कितनी तेज़ी से भक्षण कर रहे हैं हम ... सच कहूं तो अपने आप का ही ...

    ReplyDelete
  3. लाजवाब लिखे हैं सर!


    सादर

    ReplyDelete
  4. हम खुद ही अपने को खा गये...बहुत मार्मिक.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. एक नदी की नाज़ुक हालत को एक कवि ही बेहतर समझ सकता है।

    ReplyDelete
  6. अपने नाम को खोती जा रही है नदी..

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अक्षय तृतीया मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. भावनाओं का लाजवाब चिञण, आखिर हम कब चेतेंगे ?

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग हैडर भी स्वर्ण रेखा का भ्रम दे रहा है।
    नदियाँ इतिहास बनने को ही हैं, इंसान सब लील गया।

    ReplyDelete
  10. मार्मिक अभिवयक्ति .सराहनीय प्रयास .आभार . हम हिंदी चिट्ठाकार हैं.

    ReplyDelete
  11. मन को छू गईं ये पंक्तियाँ-
    हमारे देश की ये जीवन-रेखायें कैसी होती जा रही हैं -अपनी संतानों के लिये क्या छोड़ कर जायेगी यह पीढ़ी!

    ReplyDelete
  12. इस देश में सभी नदियों , झीलों का यही हाल है . कब जागे जनता और देगी सरकार साथ तो हो इनका कुछ उद्धार ! इनके किनारे खड़े हो जाओ तो जी बहुत दुखता है !
    पीड़ा की भावपूर्ण अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  13. प्रकृति की सौन्दौर्य को इंसान ही नष्ट कर रहा है -बहुत अच्छी प्रस्तुति!

    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post हे ! भारत के मातायों
    latest postअनुभूति : क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  14. स्वर्ण रेखा नदी के किनारे घाटशिला में चार साल रहने का अवसर मिला .... नदी के हालात को एक संवेदनशील मन ने उकेरा । पढ़ते पढ़ते सारे दृश्य जैसे सजीव हो आँखों के सामने आ गए ...

    ReplyDelete
  15. मार्मिक प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  16. आपकी ही भाषा के 'दोपाये' सब कुछ खा जाएँगे :-(

    ReplyDelete
  17. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 16/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. मन को छूती बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  19. mere ek mitr ravi ji rah chuke hain kuch saal yahan..batate the mujhe wo ghatshila ke baare mein...
    tasveeren to aapke fb par dikhi thi...aur ye kavita jo bahut kuch kahti hai aaj padh li....!

    ReplyDelete