1.6.13

शतरंज

खिलाड़ी
समय और अवसर देखकर
बिछा देते हैं बिसात
सजा देते हैं मोहरे
फूँक देते हैं प्राण
बांट देते हैं अधिकार
और
चलने लगते हैं
अपनी-अपनी चालें!

मोहरे
मंत्रमुग्ध हो
लड़ने-झगड़ने लगते हैं आपसे में
कटने-मरने लगते हैं एक-दूसरे से
और
अंततः
नहीं जान पाते
कि वे
खुद कभी नहीं खेलते
मगर हमेशा
यही समझते रहते हैं
कि वे ही खेल रहे हैं!

खिलाड़ी
खेल खत्म होते ही
हाथ मिलाने के बाद
हँसते हुए
ढूँसकर भर देते हैं सबको
एक बंद डिब्बे में
दूसरे खेल तक के लिए।

इस खेल में
मोहरे बराबर होते हैं
ताकत बराबर होती है
निर्धारित रहता है
युद्ध का क्षेत्रफल
और
तय रहते हैं
क़ायदे-क़ानून।

जब कोई
राजनीति से इसकी तुलना करने लगता है
तो मुझे
अच्छा नहीं लगता।
 .......................


26 comments:

  1. तुलना करना संभवतः मुझे भी अच्छा न लगता पर क्या करें जब दिखता है कि वही मोहरे पुनः बाहर निकाल लिये गये।

    ReplyDelete
  2. पूर्णतया सहमत बिल्कुल सही कहा है आपने ..आभार . ''शादी करके फंस गया यार ,...अच्छा खासा था कुंवारा .'' साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  3. Gazab ka kenvas taiyar kiya hai ... Hakeekat apne aap kah rahe hain shabd ...

    ReplyDelete
  4. नियम-कायदों के स्तर पर भले ही तुलना अनुचित लगे लेकिन चालें तो लगभग वैसी ही होतीं हैं क्योंकि जीतना ही अभीष्ट होता है हर हाल में । जहाँ जीतना ही लक्ष्य हो वहाँ तो सब चलता ही है न । अच्छी कविता ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (02-06-2013) मुकद्दर आजमाना चाहता है : चर्चा मंच १२६३ में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. यह उपमा कई जगहं फिट बैठती है -आजमूदा है!

    ReplyDelete
  7. सही कहा ॥शतरंज में हर मोहरे की चाल भी निश्चित होती है जबकि राजनीति में चाल ढाल कुछ भी निश्चित नहीं ।

    ReplyDelete
  8. शतरंज के विसात में सभी मोहरों की चाल निश्चित होती है,,,

    RECENT POST : ऐसी गजल गाता नही,

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन भाई. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. येक जबरदस्त रचना ......ये खेल राजनैतिक पार्टियों की चालों से मेल खाती है,ये ठीक है कि पार्टियां नियम-वियम नहीं मानतीं.

    ReplyDelete
  11. शतरंज के मोहरों की चाल तो सीमित होती है परन्तु अपनी दुनिया में यह भी निश्चित नहीं.

    ReplyDelete
  12. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 03/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. बात तो सही है, लेकिन राजनीति के खेल में सिर्फ नाम पुराना इस्तेमाल हुआ है.. फर्क है कि आज बिसात भी अपनी, मोहरे भी अपने, और खेल भी अपना...
    आपकी कविता का फ्लेवर हमेशा की तरह... ताज़ा!!

    ReplyDelete
  14. Maine apnee zindagee kee shatranj me to hardam maat hee khayee hai...mohron ko sahee tareeqese kabhee bichhan anhee yaaya! Bahut sundar rachana!

    ReplyDelete
  15. बहुत बेहतरीन .सुंदर पोस्ट।

    ReplyDelete
  16. खेल में मोहरे और नियम निश्चित होता है परन्तु राजनीति में यह सब अनिश्चित!
    LATEST POSTअनुभूति : विविधा ३
    latest post बादल तु जल्दी आना रे (भाग २)

    ReplyDelete
  17. मोहरे ही अभिशप्त!!

    ReplyDelete
  18. यह खेल, राजनीती और अब तो जीवन भी...सब इस खेल सा ही.

    ReplyDelete
  19. वो जो सब अच्छा नहीं लगता, होता तो वो भी है ही !

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर व्यंग्य किया है आपने.

    ReplyDelete
  21. सटीक व्यंग्य

    ReplyDelete
  22. tulna karna vakai sahi nahi hai.............sattek baat.

    ReplyDelete