24.8.18

सत्ता

चांद
दिन में
कोई प्रश्न नहीं करता
सूरज से
जानता है
सही वह
जिसके पास है
सत्ता।

सूरज
रात में 
चांद पर रोशनी लुटा कर 
मौन हो जाता है
जानता है
सही वह
जिसके पास है
सत्ता।

आम आदमी 
चिड़ियों की तरह
चहचहाता है..
वो देखो
चांद डूबा,
वो देखो
सूर्य निकला!
वो देखो
सूर्य डूबा
वो देखो
चांद निकला!
......

2 comments:

  1. बढ़िया। अब शायद कुछ बदलाव आयेगा पाँच साल चाँद दिखेगा सूरज गायब हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  2. सभी बदलाव सुखद नहीं होते..

    ReplyDelete