18.3.11

आउट...! नॉट आउट...!


आज
ऑफिस से घर लौटते वक्त
दोस्तों ने छनाई है भांग
कहते थे
भांग छान कर जब लिखबा तs लिखबा ऊँची चीज !

पिलाना चाहते थे दारू भी
पर भाग आया हूँ
नहीं ला सकता घर में
अनपेक्षित गंध !

नशे में डूबा
नेट पर पढ़ता हूँ समाचार
संसद में हंगामा
विकिलीक्स की गेंद पर जोरदार अपील
विपक्ष ने कहा
आउट !
प्रधानमंत्री ने कहा
नॉट आउट !

दूर
मन मंदिर से
पास आ रहे हैं भजन के बोल....

तू ही खिलाड़ी
अंपायर तू ही
तू है कृपानिधान
हे राम !  हे राम !

देखना चाहता हूँ
टी0वी0 पर समाचार
बच्चे कहते हैं
बोर मत कीजिए
आ रहा है
होली पर रंगारंग प्रोग्राम
क्रिकेट
और मेरा मस्त सीरियल
समाचार में क्या है ?
राष्ट्रपति ने दी है
देशवासियों को
होली की शुभकामनाएँ !

सोचता हूँ
अपना ब्लॉग ही अच्छा है
यहाँ मिल जाते हैं मुझे
अपने !

क्यों न देखूँ
यहीं कुछ
नये सपने ।

…………………………..

36 comments:

  1. इसे कहते है व्यंग्य की तलवार ऊपर धार जोरदार , बहुत खूब
    होली के सुअवसर पर आप और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  2. सोचता हूँ
    अपना ब्लॉग ही अच्छा है
    यहाँ मिल जाते हैं मुझे
    अपने !.....

    बहुत सही कहा आपने...

    रंगपर्व होली आपको असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. सोचता हूँ
    अपना ब्लॉग ही अच्छा है
    यहाँ मिल जाते हैं मुझे
    अपने !
    भांग पीकर दिव्य दृष्टि प्राप्त हो गई भाई ।
    होली की बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  4. भांग का जिक्र करके काहे जी जलाते हो भैय्ये हमारा? :))

    नॉट आऊट!!

    ReplyDelete
  5. रास्त्रपति प्रधानमंत्री,और सभी मंत्रीगण को मेरी तरफ से काला रंग मुबारक हो ..

    ReplyDelete
  6. संजय जी...
    चार गोली मुनक्का की रक्खे हैं...मगर क्या करूँ आप बहुत दूर हैं न...।

    ReplyDelete
  7. प्रेम भैया..

    अभी बहुत से लोग होली खेलने बाकी हैं..पहिले ही काला रंग चढ़ा देंगे तो सभी का दिल टूट जायेगा !

    ReplyDelete
  8. सोचता हूँ
    अपना ब्लॉग ही अच्छा है
    यहाँ मिल जाते हैं मुझे
    अपने !

    क्यों न देखूँ
    यहीं कुछ
    नये सपने ।

    जी हाँ बिलकुल ठीक कहा आपने अपना ब्लॉग ही अच्छा है यहीं हैं सब अपने, तो क्यों न देखूँ
    यहीं कुछ
    नये सपने ....
    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. हमें भी याद कर लिया होता .... :-(
    शुभकामनायें मस्ती की !

    ReplyDelete
  11. सोचता हूँ
    अपना ब्लॉग ही अच्छा है
    यहाँ मिल जाते हैं मुझे
    अपने !

    बहुत अच्छी बात.....
    होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  12. हम बिन पिये ही नशे में डूबे हैं, अपने अस्तित्व के।

    ReplyDelete
  13. होली नाम ही नशा चढा देता है.

    होली पर्व की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  14. होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर ! उम्दा प्रस्तुती! ! बधाई!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  16. होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. पाण्डेय जी आपकी आप सच में अच्छी कवितायेँ लिखते हैं. पहली बार सतीश सक्सेना जी के ब्लॉग पर आपकी टिपण्णी रूपी कविता को पढ़ा तब से आपका फैन हूँ. होली के अवसर पर आपको और आपके परिवार को बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  18. देव बाबू

    भंग का रंग चढ़ा के चकाचक फिर आपने टीवी में खबरे देखीं ....धत तेरे की.....सारा नशा उतर गया न .......आखिरी पंक्तियाँ दिल को छू लेने वाली हैं......बढ़िया

    ReplyDelete
  19. रंगों भरे पर्व की शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  20. होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं।
    आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

    ReplyDelete
  21. हमारी चार गोली रखे रहना, कभी तो पास आयेंगे:))

    ReplyDelete
  22. होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  23. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. चाहे दोस्त बाध्य करें या फिर पीने का खुद ही जी करे...छान लेना ही बेहतर है :)

    रंगपर्व की अशेष शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  25. आपका ब्लॉग पढ़ा. कविता कहानी पढ़ कर आनंद आ गया. Narendra Acharya

    ReplyDelete
  26. होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना

    ReplyDelete
  27. सच कहा आपने ब्लॉग ही अच्छा है । यहां बिना किसी लाग लपेट के लिखा हुआ मिल जाता है पढने को ।

    ReplyDelete
  28. तू ही खिलाड़ी
    अंपायर तू ही
    तू है कृपानिधान
    हे राम ! हे राम !

    यही तो बिडम्बना है
    होली का त्यौहार मंगलमय हो
    बनारस की याद आ रही है इस अवसर पर

    ReplyDelete
  29. होली पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  30. सुन्दर रचना ...
    होली की हार्दिक मंगल कामनाएँ..

    ReplyDelete
  31. विपक्ष ने कहा
    आउट !
    प्रधानमंत्री ने कहा
    नॉट आउट !

    This is the irony !

    .

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर व सत्य कटाक्ष ( राजनीतिक स्थिति पर), व प्रकाश( वास्तविक स्थिति पर). ठीक कहते हैं, दिन पर दिन अपनी यही स्थिति होती जा रही है- जीना यहाँ, मरना यहाँ, ब्लॉग के सिवा जाना कहाँ । इतने सुन्दर ब्लॉग लेखन हेतु अभिनंदन।

    ReplyDelete
  33. bechain aatma ji,

    idhar udhar out-not out ke janaal me ulajhne se behtar hai khud ke blog par hi hit wicket ho jayen.............

    ReplyDelete