21.5.11

सबकी जड़ आप हैं !


दुखी पिता ने
अपनी बेटियों को सुनाकर
नए पड़ोसी से कहा..

मेरी तीन पुत्रियाँ हैं
तीनो के नाम सुनकर आपको होगी हैरानी
एक आफत
दूसरी विपत
और तीसरी का नाम है
परेशानी

दस वर्षीया सबसे छोटी पुत्री वहीं खड़ी थी
उसने तपाक से कहा...

आप कैसे बाप हैं ?
आपको इतना भी नहीं पता
सबकी जड़ आप हैं !
.........................

38 comments:

  1. नह्ले पर दहला!

    ReplyDelete
  2. आख़िर बेटियाँ किसकी है बाप से आगे !!

    ReplyDelete
  3. जिसमें मन में समस्या, वही है जड़।

    ReplyDelete
  4. I LA KESA BAAP HAI?
    JAI HIND JAI BHARAT

    ReplyDelete
  5. सबकी जड़ तो आप हैं ही,उन्हें आपनेही तो पैदा किया है.

    ReplyDelete
  6. क्या बात है आज की होनहार पीढी हमसे दस कदम आगे चल रही है ... बढ़िया रचना भाव...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब .. कहा तो ठीक ही

    ReplyDelete
  8. सही हाज़िरज़वाबी ।

    ReplyDelete
  9. सही कहा बिटिया ने . क्यू की वो बिटिया रानी है .

    ReplyDelete
  10. वाह, जड़ें काट दो, सब सूख जायेगी?!

    ReplyDelete
  11. वाह...बहुत खूब...बहुत खूब...बहुत खूब...

    ReplyDelete
  12. नहले पे दहला !

    ReplyDelete
  13. यह तो कमाल हो गया .. :-))
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  14. सबकी जड़ आप हैं !- बहुत सूझ-बुझ ! जबरदस्त

    ReplyDelete
  15. शब्द चयन बड़ा प्रभावशाली है.

    ReplyDelete
  16. एक मुस्कराहट बरबस होठों तक आ गयी !

    ReplyDelete
  17. आप कैसे बाप हैं ,आपको यह भी नहीं पता
    सबकी जड़ आप हैं .
    "बेटियों के बाप हैं ।
    मारना जिन्हें पाप है ."बढिया व्यंग्य .नाम भी भाई ऐसे ही होतें हैं -धापा ,भतेरी ,......

    ReplyDelete
  18. लाजवाब जवाब।

    ऐसे ही एक व्यक्ति के यहाँ ती पुत्रियां थीं, नाम रखे गये चिंता, फ़िक्र, परेशानी। कालांतर में जुड़वां बेटे हुये, कुछ बड़े हुये तो उनका नामकरण हुआ दंगा-फ़साद।

    ReplyDelete
  19. कमाल ,मज़ेदार ..धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन व्यंग्य कविता ... उन लोगों के मुंह पे तमाचा है जो लोग बेटियों को बोझ मानते हैं ...

    ReplyDelete
  21. bahut sunder..
    behetreen vyangya.

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन व्यंग्य..............

    ReplyDelete
  23. हा...हा....हा......बढ़िया है जी....

    ReplyDelete
  24. वाह भाई वाह ....

    अच्छा कहा बिटिया ने !

    ReplyDelete
  25. जबरदस्त करारा जवाब

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब!ईंट का जबाव पत्त्थर से,शब्द -शब्द से हास्य- व्यंग टपका पडता है।बधाई!
    सुधा भार्गव

    ReplyDelete
  27. लाजवाब कर दिया....

    बेजोड़...कमाल....बेहतरीन...

    ReplyDelete
  28. वाह...वाह... वाह...वाह

    ReplyDelete
  29. असलियत कितनी कड़वी होती है ....
    साकक्षह कहा छोटी ने .... जड़ तो इंसान खुद ही है ...

    ReplyDelete