29.5.11

कुर्सी दौड़


स्कूल में खेलते थे
कुर्सी दौड़
बच्चों की संख्या से
कम रहती थी हमेशा
एक कुर्सी

घंटी बजते ही
गोल-गोल दौड़ते थे
कुर्सी के इर्द-गिर्द
बच्चे
घंटी थमते ही
झट से बैठ जाते थे

जो नहीं बैठ पाते
बाहर हो जाते
खेल से

हर बार
हटा दी जाती
एक कुर्सी

अंत में बचते
दो बच्चे
और एक कुर्सी

जो बैठ पाता
उसी को मिलती
ऊपर
धागे से लटकी
जिलेबी

खुद नहीं
तो अपने साथी की जीत पर
खुश होते थे
बच्चे
रहती थी उम्मीद
इस बार नहीं
तो अगली बार
अवश्य ही मिल जायेगी
कुर्सी
उचककर खायेंगे
हम भी
रसभरी जिलेबी

स्कूल में
बच्चे नहीं जान पाते
खेल का मर्म

स्कूल छूटते ही
होता है क्रूर मजाक
बजती है
पगली घंटी
शुरू होती है असली दौड़
निर्दयता से
कम कर दी जाती हैं कुर्सियाँ
हाहाकारी में
बढ़ती जाती है
भीड़

एक तो कुर्सी कम
ऊपर से
बेईमानी

चोर
लूट लेते हैं
तेज दौड़ने वालों की
पूरी जिलेबी।
................
( चित्र गूगल से साभार )

32 comments:

  1. असली कुर्सी दौड़ तो अब हो रही है अब इमानदार को कोई कुर्सी नहीं मिलती | मान गए पाण्डेय जी..

    ReplyDelete
  2. स्कूल छूटते ही
    होता है क्रूर मजाक
    बजती है
    पगली घंटी
    शुरू होती है असली दौड़
    निर्दयता से
    कम कर दी जाती हैं कुर्सियाँ... aur chutki bajate vyakti bhi gayab

    ReplyDelete
  3. पगली घण्टी।
    क्रूरता।
    मजाक।
    सब समझते हैं।
    न जाने क्यों, दौड़ते ही रहते हैं।

    ReplyDelete
  4. जलेबी बनकर जलेबी खाने में ही असली मजा है

    ReplyDelete
  5. ये जलेबी तो अब जिव लेबी हो गयी है -जान लेने वाली ...

    ReplyDelete
  6. सही कहा --असली कुर्सी दौड़ तो बड़े होने के बाद ही होती है । इस कुर्सी के खेल में बेइमानी से ही जीतते हैं लोग ।
    उम्दा रचना ।

    ReplyDelete
  7. हमने कभी यह दौड़ नहीं जीती।
    कविता बहुत अच्छी है।
    विचार

    ReplyDelete
  8. जहाँ एक कुर्सी कम होनी थी, अब एक ही कुर्सी बची है।

    ReplyDelete
  9. स्कूल छूटते ही
    होता है क्रूर मजाक
    बजती है
    पगली घंटी
    शुरू होती है असली दौड़
    निर्दयता से
    कम कर दी जाती हैं कुर्सियाँ
    हाहाकारी में
    बढ़ती जाती है
    भीड़

    उम्दा रचना. बेहतरीन अभिव्यक्ति. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  10. देव बाबू,

    हैट्स ऑफ......उफ्फ आपका ये अंदाज़......कितनी सरलता से आप कितना गहरा चले जाते हैं....सुभानाल्लाह

    स्कूल छूटते ही
    होता है क्रूर मजाक
    बजती है
    पगली घंटी
    शुरू होती है असली दौड़
    निर्दयता से
    कम कर दी जाती हैं कुर्सियाँ
    हाहाकारी में
    बढ़ती जाती है
    भीड़

    ReplyDelete
  11. AAM LOGO KO KAHA KURSI MILTI HAI AAJ KE JAMANE ME, TO JALEBI KESE KHAYEN? BAHUT KHUB LIKHA APNE. . . .
    JAI HIND JAI BHARAT

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर जी, सही कहा आज भी कुर्सी तो एक ही हे लेकिन .....

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब .. ये तब की बात थी .... ये आज की बात है ... समय कितना बदल गया है .... खेल वही है ...

    ReplyDelete
  15. पगली घंटी
    शुरू होती है असली दौड़
    निर्दयता से
    कम कर दी जाती हैं कुर्सियाँ
    हाहाकारी में
    बढ़ती जाती है
    भीड़

    उम्दा रचना. बेहतरीन अभिव्यक्ति. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  16. स्कूल में खेलते थे
    कुर्सी दौड़
    बच्चों की संख्या से
    कम रहती थी हमेशा
    एक कुर्सी

    अरे खूब याद दिलाया आपने .......
    खूब खेला करते थे हम भी ......

    ReplyDelete
  17. कुर्सी के बिम्ब को ले कर आपने वर्तमान की कड़वी सच्चाई को बड़ी ही बारीकी से प्रस्तुत किया है...
    अंतस को झकझोरने वाली इस कविता के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete
  18. सीधे-सादे एक कुर्सी का प्रतीक लेकर आज की प्रतिस्पर्धा और बेईमानी का अच्छा चित्रण हुआ है.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही अच्छा पोस्ट है आपका बचपन के याद आ गयी !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  20. बचपन का खेल ,बड़ों की त्रासदी बन गयी है .... अच्छी प्रस्तुति ......आभार !

    ReplyDelete
  21. कुर्सी दौड़ अब और भी भीषण हो चुकी है। बचपन के उस खेल में भोलापन था और अबकी इस दौड़ में कुटिलता अनलिमिटेड।

    ReplyDelete
  22. कुर्सी दौड़ की होड़ का सूक्ष्म निरीक्षण ..
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  23. सही तस्वीर है.. मगर आजकल जलेबी लपकने वाला/वाली पिंजड़े में भी नज़र आने लगा/लगी है!!

    ReplyDelete
  24. अच्छी लगी कविता. लेकिन कुछ बहुत प्रभाव नहीं दे पायी.

    ReplyDelete
  25. बड़ों की कुर्सी दौड़ में कोई नियम ही नहीं होता ये गलाकाट क्रूर पाशविक स्पर्धा है । सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत सही कहा आपने....

    क्रूर सत्य...

    ReplyDelete
  27. बचपन की कुर्सी दौड़ और आज की ....छिन ही जाती है जलेबी

    ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,अच्छी रचना

    ReplyDelete
  28. aadarniy sir
    WAH ,mJA A GAYA .ISE HI KAHTE HAIN LEKHNI .AAJ BAAT SAMAJH ME AAI AAPKA ISHARA KAHI AUR THA AUR NISHANA KAHIN AUR BAHUT KHOOB .BHAD SANJEEDA V AANKHEN KHOL DENE WALI RACHNA KE LIYE
    DIL SE AABHAR
    VILAMB SE TIPPNI DENE KE LIYE MUJHE HARDIK KHED HAI
    POONAM

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर ढंग से ब्यक्त हुआ है आजका सत्य.

    ReplyDelete