21.6.12

पहली बारिश में...



शाम अचानक
बड़े शहर की तंग गलियों में बसे
छोटे-छोटे कमरों में रहने वाले
जले भुने घरों ने
जोर की अंगड़ाई ली
दुनियाँ दिखाने वाले जादुई डिब्बे को देखना छोड़
खोल दिये
गली की ओर
हमेशा हिकारत की नज़रों से देखने वाले
बंद खिड़कियों के
दोनो पल्ले
मिट्टी की सोंधी खुशबू ने कराया एहसास
हम धरती के प्राणी हैं !

एक घर के बाहर
खुले में रखे बर्तन
टिपटिपाने लगे
घबड़ाई अम्मा चीखीं...
अरी छोटकी !
बर्तन भींग रहे हैं रे !
मेहनत से मांजे हैं
मैले हो जायेंगे
दौड़!
रख सहेजकर।

बड़की बोली
मुझे न सही
उसे तो भींगने दो माँ!
पहली बारिश है।

एक घर के बाहर
दोनो हाथों की उंगलियों में
ठहरते मोती
फिसलकर गिर गये सहसा
बाबूजी चीखे....
बल्टी ला रे मनुआँ..
रख बिस्तर पर
छत अभिये चूने लगी
अभी तो
ठीक से
देखा भी नहीं बारिश को
टपकने लगी ससुरी
छाती फाड़कर !

एक घर के बाहर
पापा आये
भींगते-भागते
साइकिल में लटकाये
सब्जी की थैली
और गीला आंटा
दरवज्जा खुलते ही चिल्लाये..
सड़क इतनी जाम की पूछो मत !
बड़े-बड़े गढ्ढे
अंधेरे में
कोई घुस जाय तो पता ही न चले
भगवान का लाख-लाख शुक्र है
बच गये आज तो
पहली बारिश में
अजी सुनती हो !
तौलिया लाना जरा…..
बिजली चली गई ?
कोई बात नहीं
मौसम ठंडा हो गया है !
…………………………….

44 comments:

  1. मौसम की पहली बारिस मुबारक हो .
    जिंदगी में धूप छाँव साथ साथ ही चलते हैं .
    बारिस आएगी तो अपनी धाक तो जमेगी ही .
    लेकिन कहते हैं न , दूध देने वाली की तो लात भी सहन करनी पड़ती है .

    अच्छी काव्य प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  2. pahli barish aur matti ki mahk.....sunder ahsaas

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  4. कमाल का शब्दचित्र खींचते हो यार...
    मज़ा आ गया !

    ReplyDelete
  5. बारिश के बिम्ब आपने पकड़ लिए,यह अच्छे कवि की निशानी है.हमारे फुरसतिया जी गर्मी के बिम्ब नहीं पकड़ पाने से परेशान थे :-)

    ...पहली बारिश कितना कुछ देती है, कुछ लेकर !

    ReplyDelete
  6. गर्मी में यह फुहार बरसती रहे..

    ReplyDelete
  7. सुन्दर कविता है। पहली बारिश मुबारक हो।

    ReplyDelete
  8. देवेन्द्र जी,
    सबसे पहले प्रचंड ताप से आतप्त बनारस को वर्षा की पहली बूदों के सुख के लिए शुभकामनायें !
    मिट्टी की सोंधी गंध से हर्षित पुलकित आपके मन को कोटिशः बधाइयां !

    अब आपकी कविता में मौजूद वर्षा (सुख) से आहत परिजनों के लिए कुछ शब्द ...

    शीत ऋतु में भी वे सुखी नहीं थे और गर्मी में तो और भी ज्यादा हलाकान थे अब वर्षा से परेशान हैं , जिस ऋतु का इंतज़ार उन्हें हर बार रहता है , उसकी आमद पे भी उन्हें कष्ट की अनुभूति क्यों होती है ?

    हमारे कष्ट के लिए ऋतुएं तो जिम्मेदार नहीं ! शायद हमने जिन्हें चुना , उन्होंने हमें कहीं का ना छोड़ा के विश्वासघातीय दुःख को हम ऋतुओं के सुख से गुरुतर पाते हैं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. निर्धन को हर मौसम छलता है। शानदार प्रतिक्रिया के लिए आभार।

      Delete
  9. आँखों के सामने से चित्र चल रहे हों जैसे ....सुंदर वर्णन ...!!

    ReplyDelete
  10. कितनी सहज अभिव्यक्ति होती है आपकी..बस उतरती जाती है अन्दर तक...

    ReplyDelete
  11. जिस परिवेश में आपकी रचबा घूमती नज़र आई उसमें पहली बारिश बिना चेतावनी के बहुत कुछ आफ़त ही लाती है। राहत सिर्फ़ यह कि तापमान थो़ड़ा कम हो गया लेकिन उमस फिर भी बढ़ ही जाती है।

    ReplyDelete
  12. बारिश कितना कुछ लेकर आती है।

    ReplyDelete
  13. कितना कुछ है परेशान करने के लिए फिर है संतोष मौसम ठंडा हो गया... मिटटी की सोंधी खुशबू का अहसास सचमुच हम धरती के प्राणियों के लिए अनुपम उपहार है...

    ReplyDelete
  14. very beautiful composition of words
    or is it a soul full combination of emotions

    what ever its , its too good

    ReplyDelete
  15. waah jivant varnan pahli barish ka .....

    ReplyDelete
  16. प्रस्तुति चर्चा मंच पर, मचा रही हडकम्प ।

    मित्र नहीं देरी करो, मार पहुँचिये जम्प ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
  17. फोटो उतार दिया आपने !

    ReplyDelete
  18. पहली बारिश ...किसी के लिए फुहार तो किसी के लिए परेशानी का सबब ..... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  19. पहली वर्षा के शब्द चित्र . वाकई

    ReplyDelete
  20. बदलते मौसमों का सुख हरेक को कहाँ मिल पाता है ,उनके हिस्से में परेशानियाँ और चिन्तायें ही रह जाती हैं !

    ReplyDelete
  21. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    सूचनार्थ


    सैलानी की कलम से

    पर्यटन पर उम्दा ब्लॉग को फ़ालो करें एवं पाएं नयी जानकारी



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥


    ♥ पेसल वार्ता - सहरा को समंदर कहना ♥


    ♥रथयात्रा की शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  22. एक ही चीज सबके लिए कितनी अलग अलग हो सकती है, है न?

    ReplyDelete
  23. बारिश को लेकर बहुत बढ़िया रचना ... आभार

    ReplyDelete
  24. वाह जी आपने तो पहली बारिश का समां सा बाँध दिया.....यहाँ तो सुखा पड़ा है अभी ।

    ReplyDelete
  25. वाह! यथार्थ की सोंधी खुशबू लिए सच्ची रचना...
    सादर बधाई।

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब
    खूब भींगे हम भी आपके साथ मौसम की पहली बारिश में
    और फिर
    बड़की ठीक ही कह रही है
    उसकी मजबूरी होगी न भींगने की पर बर्तनों को तो भींगने दो ....

    ReplyDelete
  27. पहली वर्षा के सीधे सरल शब्द चित्र ....
    वर्षा ना हो तो भी शिकायत , हो जाए तो भी , कुछ लोंग हमेशा परेशान रहते हैं !

    ReplyDelete
  28. क्या कहने..
    बहुत ही सुन्दर
    लाजवाब रचना
    ;-)

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर..............
    भीगी सी रचना.........................

    अनु

    ReplyDelete
  30. esi tarah kavita ke raso sr ham logo ko nahalate rahen

    ReplyDelete
  31. एक बारिश और कितने रंग और सबका अपना अपना अंदाज और चाहत.

    देवेन्द्र जी अद्भुत चित्र खींचा इस कविता के द्वारा.

    ReplyDelete
  32. तो बरखा का आगमन हो गया ... बहुत बुत बधाई ... खाका खींच दिया है अपने ... अलग अलग रंग हर किसी के बारिश के साथ ...

    ReplyDelete
  33. "छोटे-छोटे कमरों में रहने वाले,जले भुने घरों ने ...." वाह ! बहुत सुन्दर शब्द-चित्र !पहली बारिष में ही इन लोगों का हाल बेहाल हो जाता है.ह्रदय की गहराई से महसूस की हुई रचना है.

    ReplyDelete
  34. पाण्डे जी
    अच्छी और नाज़ुक एहसासात से रची बसी रचना

    ReplyDelete
  35. लाजवाब चित्रण, पर अभी तो आई नही है.:)

    रामराम

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ जायेगी..अभी तो एक हुई।:)

      Delete
  36. वाह, बहुत सुन्दर शब्द-चित्र उकेरे हैं आपने। आनन्द आ गया।

    बनारस से चलकर अभी लखनऊ नहीं पहुँच सकी। आजकल उसकी बाट जोहने वाले इतने अधिक हैं कि जहाँ पहुँचती है वहीं भर अँकवार बाँध लेते हैं लोग। हम तो बस हल्की सी झलक ही देख पाये हैं और बच्चों को समझाये बैठे हैं कि थोड़ा सब्र करो, दो चार दिन जमकर बरस ले तब भींगने के लिए छत पर जाना। अभी तो वायुमंडल का प्रदूषण भी उसके साथ बरस रहा होगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप आये बहार आई। ...कविता से जुड़ने के लिए आभार।

      Delete
  37. shaayad aaj is racanaa ko dekh kar hee baarish khushee se jhoom jhoom kar baras rahee hai|

    ReplyDelete
  38. कितनी अजीब बात है एक ही चीज़ के हर एक इंसान के लिए एक अलग ही मायने होते हैं कोई मज़ा लेता है तो किसी के लिए वही चीज़ सज़ा से कम नहीं होती ...यथार्थ का आईना दिखती सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  39. मज़ा आ गया भाई.

    ReplyDelete