22.2.14

गाँव


एक गाँव है
जहाँ सभी की
खाट खड़ी है
इक कुआँ है
जिसमें चउचक
भांग पड़ी है
कोई बांट रहा है लड्डू
कोई खील-बतासे
और जगत पर
डटे हुए हैं
जनम-जनम के प्यासे

मैं भी यहीं खड़ा हूँ।

हाथी
चुल्लू भर पानी तो
चीँटी
मांग रही तालाब
कौए
गीता बांच के बोले
पूरा है बकवास

कृष्ण
भगवान नहीं थे!

कोई खेले
कीचड़-कीचड़
कोई गा रहा
मल्हार
फागुन के मौसम में बारिश
कैसे न हो यार ?

होलिका भीग रही है।
..................

कविता के बाद....

सारे जहाँ से अच्छा
है गाँव यह हमारा
हम चुलबुले हैं इसके
यह जान है हमारा

यहीं जमाओ डेरा-डंडा
यहीं जमाओ पाँव
इससे अच्छा इस दुनियाँ में
कहीं नहीं है गाँव

पानी मस्त है यार!
……………


24 comments:

  1. फलसफा के साथ व्यंग का पुट लिए सुन्दर रचना
    new postकिस्मत कहे या ........
    New post: शिशु

    ReplyDelete
  2. पानी मस्त रचना जबरदस्त! :)

    ReplyDelete
  3. फागुन के असर में सराबोर रचना
    अपना गाँव अपना घर अपना ही होता है - सबसे अलग

    ReplyDelete
  4. खटोला यहीं बिछेगा, जो सुख चाहा वह तो शहर में भी नहीं मिला। गाँव सजायेंगे।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (23-02-2014) को " विदा कितने सांसद होंगे असल में" (चर्चा मंच-1532) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन के लिए आपका आभार।

      Delete
  6. बहुत सुंदर ,..... गाँव बुलाते हैं

    ReplyDelete
  7. भंग अपने रंग ले चुकी :)

    ReplyDelete
  8. मेरे गाँव के और बचपन के कुछ दृष्य आंखों के सामने झूल गये इस रचना को पढ़कर...सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
  9. कबीरवाली उलटबाँसी शैली भी ...वाह !

    ReplyDelete

  10. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन ब्लॉग-बुलेटिन: एक रेट्रोस्पेक्टिव मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. ई कबित्त पर भैया हमका सूझे नाहिं बोल
    ब्यंग्य बान सब खोल रहिन हैं जैसे ढोल की पोल
    कमेण्ट का खाक करोगे!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. :) वाह! लय पकड़ लिया आपने, कमाल है!!!

      Delete
  12. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. होली पर वर्षा हो तो शिकायत कैसी पानी की कमी वैसे भी हो गयी है...यह है पहला फायदा, बादल के साथ भी होली खेलेंगे दूसरा फायदा...गाँव से मुलाकात बढ़िया है..

    ReplyDelete
  14. जबरदस्त ... असर होने लगा है होली का अभी से ... मस्ती छाने लगी है ...

    ReplyDelete
  15. जितनी जिसकी समझ , समझा !

    ReplyDelete
  16. मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे

    ReplyDelete
  17. कल 28/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete