29.10.16

पाण्डे के प्रश्न, तिवारी के उत्तर.............


पाण्डे के प्रश्न....

वेतन मिली त हो जाई खर्चा 
नाहीं त लागी मिर्ची के मर्चा
कपारे पे आयल हौ फिन से दिवारी 
देश कइसे चली अब बतावा तिवारी ?

लक्ष्मी के पाले लक्ष्मी जी गइलिन 
उल्लू के पीठी पे बोझा धरउलिन
कपारे पे आयल हौ फिन से दिवारी 
देश कइसे चली अब बतावा तिवारी ?

उल्लू उठाई लक्ष्मी क बोझा 
मजूरी मिली त पी लेई ताड़ी
मांगत बा आपन मजूरी, त्योहारी !
देश कइसे चली बतावा तिवारी ?


इहाँ हाथ में बस दुक्की अ तिक्का 
दुलहिन के चाही चाँदी क सिक्का !
कपारे पे आयल हौ फिन से दिवारी
देश कइसे चली अब बतावा तिवारी ?

उप्पर से राजा मिठाई खियावा
नीचे से दीया सलाई जलावा
बढ़े रोज कालिख त कइसन दिवारी
देश कइसे चले अब बतावा तिवारी?

तिवारी के उत्तर.............

मिठाई के भूखा जमाना हो पाण्डे,
पसारे ली हथवा जनाना हो पाण्डे,
चुनावन में देखा प्रजा के ढिठाई,

कि नेता से कइसे उ जोहे मिठाई,
जहां भोट दारू के बदले दियाइ,
त कइसे ना रजवा सलाई जराई।

जहां बड़का कॉलेजवा पढ़ावे गद्दारी,
त कइसे ओराइ उहाँ के अन्हारी?
अब कइसे बता पइहें कवनो तिवारी,
कि अइसन देवारी कि कइसन देवारी।

10 comments:

  1. तिवारी जी और पाण्डेय जी को जोशी जी का सलाम और दीपावली की जगमग करती शुभकामानाएं ।

    ReplyDelete
  2. वेतन ना मिलल होई कईसे खर्चा
    ऑफर बा आकर्षक आईल बा पर्चा
    कपारे पे आयल हौ फिन से देवारी
    मने कईसे त्यौहार, सोंचे हैं तिवारी |

    महंगाई बहोत है बनावत हैं पर्चा
    सोंचे में मगन हैं जोड़त हैं खर्चा
    नेता जी हउएन लक्ष्मी के पुजारी
    उनके जईसन हीं उनकर अधिकारी |

    लुटे में लगे हैं इन साल भी व्यापारी
    त कईसे होई दूर देश से अन्हारी
    गरीब के ना फगुआ ना कौनो दिवारी
    बस एही उत्तर से संतुष्ट हैं तिवारी |

    ReplyDelete
  3. कइसे भी चले सरकार चलनी चाहिए बस
    .. दीपावली की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सभी को छोटी दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "छोटी दिवाली पर देश की मातृ शक्ति को बड़ा नमन“ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़ि‍या...दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. अब इस जुगलबंदी के बाद कोई गुंजाइश बचाती ही कहाँ है. कमाल का आर्थिक चित्र खींचा है!!

    ReplyDelete
  7. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल सोमवार (31-10-2016) के चर्चा मंच "स्नेह की लौ से जगमग हो दीवाली" {चर्चा अंक- 2512} पर भी होगी!
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. बहुत ही उम्दा .... बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति .... Thanks for sharing this!! :) :)

    ReplyDelete