23.11.19

जाड़ा आयल का?

स्वेटर, टोपी, जर्सी, निकसल
जाड़ा आयल का?
गली-गली में दिखे मलइयो
जाड़ा आयल का?

भिनसहरे चूल्हा में कोइला
कलुआ झोंकत हौ
खट खट, खट खट, एक भगोना
चहवा खउलत हौ।

धूप देख मन ललचे लागल
जाड़ा आयल का?
गली-गली में दिखे मलइयो
जाड़ा आयल का?

छन छन छन छन छनल कचौड़ी
भयल जलेबी लाल
हमें चार दs, हमें आठ दs
मचल ह, बहुत बवाल

सगरो मगही पान मिलत हौ
जाड़ा आयल का?
गली-गली में दिखे मलइयो
जाड़ा आयल का?

ऊन क गोला, अउर सलाई
नाहीं लउकत हौ!
छत पर मिर्चा, अचार आम क
नाहीं लउकत हौ!

के कइलस भक्काटा सबके!
जाड़ा आयल का?
गली-गली में दिखे मलइयो
जाड़ा आयल का?

बहरी-अलंग, लोटा, बाटी,
चोखा कहाँ गयल?
भांग ठंडई, घोटे वाला
भोला कहाँ गयल?

दारू मुर्गा, रोज छनत हौ!
जाड़ा आयल का?
..........................

6 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति। वैसे सर्दी का मौसम मेरा प्रिय मौसम है। मैं मूलतः गढ़वाल से हूँ तो यह भी इसका कारण हो सकता है।

    ReplyDelete
  2. शानदार.... मजा आ गया|

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  4. वाह ... आनंद आ गया ...
    लगता है अब जाड़ा आ ही गया है ...

    ReplyDelete