14.11.10

गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।

आज हम सब के प्यारे चाचा नेहरू का जन्म दिवस है।  14 नवंबर 1889 को ईलाहाबाद में जन्मे भारत के प्रथम प्रधान मंत्री श्री जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिवस को हम 'बाल दिवस' के रूप में मनाते हैं। प्रस्तुत है एक बाल गीत जिसका शीर्षक है...

गुस्सा


गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।

मीठी बोली से सीखो तुम,  दुश्मन का भी मन हरना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम,  गुस्से पर काबू करना।

बाती जलती अगर दिए में,  घर रोशन कर देती है
बने आग अगर फैलकर,  तहस नहस कर देती है।
बहुत बड़ा खतरा है बच्चों, गुस्सा बेकाबू रहना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम,  गुस्से पर काबू करना।

खिलते हैं जब फूल चमन में, भौंरे गाने लगते हैं
बजते हैं जब बीन सुरीले, सर्प नाचने लगते हैं।
कौए-कोयल दोनों काले किसको चाहोगे रखना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

करता सूरज अगर क्रोध तो सोचो सबका क्या होता
कैसी होती यह धरती और कैसा यह अंबर होता।
धूप-छाँव दोनों हैं पथ में, किस पर चाहोगे चलना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

करती नदिया अगर क्रोध तो कैसी होती यह धरती
मर जाते सब जीव-जन्तु, खुद सुख से कैसे रहती।
जल-थल दोनो रहें प्यार से या सीखें तुम से लड़ना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

इसीलिए कहता हूँ बच्चों, क्रोध कभी भी ना करना
जब तुमको गुस्सा आए तो ठंडा पानी पी लेना।
हर ठोकर सिखलाती हमको, कैसे है बचकर चलना
जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।

(प्रस्तुत कविता हिंद युग्म में प्रकाशित है)

39 comments:

  1. गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।
    यकीनन ..
    बहुत सुन्दर सन्देश

    ReplyDelete
  2. रचना तो काफी फलसफे वाली है, बच्चों से ज्यादा तो हमें वयस्कों के लिए लगी ... बच्चों को तो बचपने वाली भाषा में ही समझाना चाहिए, ऐसा मेरा मत है....

    कविता वो दमदार है... लिखते रहिये ....

    ReplyDelete
  3. बहुत हृदयस्पर्शी बाल कविता, आपकी तो काव्य प्रतिभा विलक्षण है आनंद जी ......

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया रचना है देवेंद्र जी ,
    ये बच्चों से ज़्यादा हम बड़ों को सीखने की ज़रूरत है ,
    इस सार्थक पोस्ट के लिये बधाई

    ReplyDelete
  5. इसीलिए कहता हूँ बच्चों, क्रोध कभी भी ना करना
    जब तुमको गुस्सा आए तो ठंडा पानी पी लेना।
    हर ठोकर सिखलाती हमको, कैसे है बचकर चलना
    जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।
    आज बहुत सुन्दर सन्देश दिया है बच्चों को बाल दिवस पे उपहार अच्छा लगा। नेहरू जी को सादर श्रद्धाँजली।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना ...केवल बच्चों को ही नहीं सीखनी हैं यह बातें ..बड़ों के लिए भी उपयोगी

    ReplyDelete
  7. सुंदर प्रस्तुति....आभार

    ReplyDelete
  8. देवेन्द्र जी, अलग अलग प्राकृतिक उदाहरण के माध्यम से आपने बहुत सुन्दर संदेश दिया है...
    बाल दिवस का नायाब तोहफ़ा है आपकी रचना.

    ReplyDelete
  9. करता सूरज अगर क्रोध तो सोचो सबका क्या होता
    कैसी होती यह धरती और कैसा यह अंबर होता ...
    सार्थक कविता आज के दिन देवेन्द्र जी ... आपको बाल दिवस ही हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  10. प्रेरक प्रस्तुति।
    देवेन्द्र जी, हम भी कोशिश करेंगे गुस्सा न करने की।

    ReplyDelete
  11. ये गीत बच्चों को गवाने के लिये ठीक है.मगर गुस्सा या क्रोध प्राकृतिक गुण है जो ये समझनेसे खत्म नहीं होता की ये बुरा है.

    ReplyDelete
  12. क्रोध सब जला देता है। सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  13. बाल दिवस पर सुन्दर सीख देती कविता ! देवेन्द्र जी आप सुन्दर मन: ब्लागर हैं !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है!
    --
    बाल दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  15. बहुत उपयोगी sikh di है bhai ji aapne |
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  16. जब तुमको गुस्सा आए तो ठंडा पानी पी लेना।
    bahut sunder.

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया सीख दी हैं आपने.
    निश्चित रूप से सभी को आपकी इस सीख पर अमल करनी चाहिए.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  18. बहुत मुश्किल काम है।

    ReplyDelete
  19. बच्चों से ज्यादा तो हमें जरुरत है गुस्से पे काबू करने कि बहुत अच्छी प्रेरणादायक पोस्ट

    ReplyDelete
  20. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 16 -11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  21. बिलकुल सही बात है देवेन्द्र जी ....क्रोध तो मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है....और गीत के माध्यम से बच्चों को ये सिख बहुत सुन्दर प्रयास....शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  22. गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।
    बहुत बढ़िया सीख दी हैं आपने

    ReplyDelete
  23. बाल दिवस के परिप्रेक्ष में सबों के लिए सन्देश परक व साथर्क रचना .. हमें भी मनन अवश्य करना चाहिए . बधाई .........

    ReplyDelete
  24. वाह ...

    सुन्दर संदेशप्रद बच्चों बड़ों सबके लिए कल्याणकारी रचना...

    ReplyDelete
  25. वन्दे मातरम,
    यह सिख केवल बच्चों के लिए ही नहीं वरन हम सभी के लिए उपयोगी है...
    सार्थक एवं प्रभावी लेखन के लिए सादर शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  26. देवेन्द्र जी! इसे आपने बाल गीत क्यों कहा.. यह तो हम जैसे बूढों को भी सीखनी चाहिए!

    ReplyDelete
  27. बच्चों को बहुत अच्छा सन्देश दिया है आपने बाल दिवस पर.
    ये कविता सभी के लिए सार्थक है.

    ReplyDelete
  28. गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।

    सार्थक एवं प्रभावी सन्देश लिए... प्रेरणादायक पोस्ट
    बढ़िया सीख....

    ReplyDelete
  29. बाती जलती अगर दिए में, घर रोशन कर देती है
    बने आग अगर फैलकर, तहस नहस कर देती है।
    बहुत बड़ा खतरा है बच्चों, गुस्सा बेकाबू रहना
    जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

    वाह.....क्या बात है .....!!

    करता सूरज अगर क्रोध तो सोचो सबका क्या होता
    कैसी होती यह धरती और कैसा यह अंबर होता।
    धूप-छाँव दोनों हैं पथ में, किस पर चाहोगे चलना
    जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना।

    क्या कहूँ देवेन्द्र जी ....?
    हर पंक्ति जीवन का फलसफा सिखाती है .....
    कितने सरल सहज शब्दों में आपने जीवन की तमाम सीख दे दी ....
    इस बाल कविता के लिए आपको नमन है ......!!
    अभी मैं सोच ही रही थी कि पिछली पोस्ट पर आप नहीं आये ..
    पता नहीं कहाँ व्यस्त हैं ....कि आप कि हाजरी लग गई ....

    ReplyDelete
  30. सार्थक एवं प्रभावी सन्देश लिए... प्रेरणादायक पोस्ट

    ReplyDelete
  31. बहुत ही अच्छा सन्देश.......
    यह कविता तो हम सब के लिए है !!!

    ReplyDelete
  32. .

    खिलते हैं जब फूल चमन में, भौंरे गाने लगते हैं
    बजते हैं जब बीन सुरीले, सर्प नाचने लगते हैं।
    कौए-कोयल दोनों काले किसको चाहोगे रखना
    जल्दी से सीखो बच्चों तुम, गुस्से पर काबू करना...

    -----

    सार्थक एवं प्रेरणादायक पोस्ट !

    .

    ReplyDelete
  33. गुस्सा तो बड़ों के लिए भी बहुत बुरा है भाई ।

    ReplyDelete
  34. देवन्द्र जी,
    आपकी कविता बच्चों के साथ साथ बड़ों को भी सीख देती हुई भावनाओं की सुन्दर अभिव्यक्ति है !
    कविता तो सभी लिखते हैं मगर बच्चों के लिए सहज कविता लिखना बहुत ही मुश्किल है !
    बधाई !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  35. Behad sundar kavita!Gussa waqayi sabkuchh raakh kar deta hai!

    ReplyDelete
  36. गुस्सा बहुत बुरा है। इसमे जहर छुपा है।
    बहुत ही उम्दा

    ReplyDelete