5.6.11

राजनेता


बड़े भले लगते हैं
जब करते हैं
हमारे लिए
संघर्ष
दे रहे होते हैं
आश्वासन

बड़े बुरे लगते हैं
जब बैठे होते हैं
कुर्सी पर

दीन हीन लगते हैं
खटखटाते हैं
दरवाजा
मांगते हैं
वोट

राक्षस लगते हैं
जब चलवाते हैं डंडे
करते हैं अत्याचार

सभी जानते हैं
गिरगिट की तरह
बदलते हैं रंग
लगाते हैं
मुखौटे

समय-समय पर
बेनकाब भी हुए हैं
रावणी चेहरे

मगर अफसोस
जितने गहरे होते हैं
जिंदगी के जख्म
उतनी कमजोर होती है
जनता की याददाश्त।

      ...................

सुबह तक विश्व पर्यावरण की चिंता कर रहा था मगर क्या पता था कि विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का पर्यावरण ही पूरी तरह बिगड़ चुका है !

27 comments:

  1. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।


    सही कहा है आपने ...जितने गहरे जख्म होते जाते हैं उतनी ही जनता की यादाश्त भी कमजोर होती जाती है ..और जनता फिर से उन्हीं को चुनकर संसद में भेजती है ..और यह स्वार्थी राजनेता फिर से अपना रंग दिखाना शुरू कर देते हैं .....आपका आभार

    ReplyDelete
  2. जनता की याददाश्त सच में बहुत कमजोर है, ये भी भुला दिया जायेगा जब वोटों से पहले पेट्रोल की कीमत कर कर दी गई या ऐसा ही कुछ फ़ंडा सरकार अपनायेगी।

    ReplyDelete
  3. सामयिक रचना बहुत बढ़िया लिखी है आपने♥3

    ReplyDelete
  4. जनता की यादाश्त बहुत ही कमजोर होती है इसी का फायदा हमारे राजनेता उठते है अपने कुचक्र रचने के लिए .

    ReplyDelete
  5. मन बहुत दुखी है -लगता है सोनियां के इटली वापस जाने के दिन अब आ गए !

    ReplyDelete
  6. सोलह आने सच्ची बात देवेन्द्र भाई! सुबह के लिए हमने भी हरियाली सजाने का कार्यक्रम बनाया था..क्या पता था कि कालिख पुत जायेगी उसपर!!!

    ReplyDelete
  7. lovely and a thoughtful post !!

    ReplyDelete
  8. इस धरा ने बडे-बडे दैत्यों को धूल चाटते देखा है, मगर धूल-धूसरित होने तक यह सुधरते नहीं।

    ReplyDelete
  9. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।
    पाण्डेय जी डेमोक्रेसी का एक अर्थ है जिसमें जनता की ऐसी तैसी वही हुआ आज ...

    ReplyDelete
  10. सुबह तक विश्व पर्यावरण की चिंता कर रहा था मगर क्या पता था कि विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का पर्यावरण ही पूरी तरह बिगड़ चुका है !

    अत्यंत सटीक विचारों से परिपूर्ण समसामयिक रचना.......सही कहा है आपने ...

    ReplyDelete
  11. aapse sahmat hun,mool samsya yahi hai ki Janta ki yadast bahut kamjor hai :-(

    ReplyDelete
  12. शानदार व्यंग्य है ......जनता की याददाश्त कमज़ोर नहीं है पर वो उन सवालो के आगे इन्हें दरकिनार करती जो उसके सामने मुंह बाये खड़े है.....रोटी,कपडा और मकान....और अब तो इसमें और भी कई चीज़े जुड़ गयी हैं मसलन.....दूध,पेट्रोल, फीस इत्यादि.....बहुत अच्छी लगी पोस्ट |

    ReplyDelete
  13. नेता बनने की चाहत में जब कोई अछ्छे काम करना छोड़ राजनीति करने लगता है,तो और भी बुरा लगता है.

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सही कहा....यही तो विडंबना है....

    ReplyDelete
  15. बहुत प्रश्न मुँह बाये खड़े हैं।

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    ReplyDelete
  17. जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।

    यकीनन इसी याददाश्त की कमजोरी ही तो हराती रही है और उन्हें जिताती रही है

    ReplyDelete
  18. जनता की याददाश्त कमजोर होती ही है ...
    शानदार व्यंग्य !

    ReplyDelete
  19. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।

    -और ये नेता इस बात को भली भाँति जानते हैं, इसलिए फायदा उठाते हैं.

    ReplyDelete
  20. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त...

    Indeed it's sad Devendra ji.

    .

    ReplyDelete
  21. बहुत खूब ... देश के वातावरण से न सिर्फ़ पर्यावरण बल्कि सब कुछ प्रभावित होता है .... नेताओं का खाका जो आपने खींचा है शायद इससे भी ज़्यादा चालाक होते हैं .... कोई पार नही पा पाता ....

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर.....

    सच्चाईपूर्ण व्यंग्य रचना ....

    गिरगिटी नेताओं के भिन्न-भिन्न रूपों का बढ़िया चित्रण ...

    मगर दोषी तो हम सब ही हैं...यानी जनता

    ReplyDelete
  23. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।

    बहुत सटीक कथन...जनता की इसी कमजोरी का फायदा उठाते हैं हमारे तथाकथित नेता..बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. मगर अफसोस
    जितने गहरे होते हैं
    जिंदगी के जख्म
    उतनी कमजोर होती है
    जनता की याददाश्त।

    very true.

    ReplyDelete
  25. जनता की याददाश्त कमजोर होती ही है.
    तीखा कटाक्ष...

    ReplyDelete