15.4.12

ब्लॉग चर्चा



हम बहुत परेशान हैं जी। ईर्ष्या और जलन से हमारी छाती फटी जा रही है। उंगलियों मे खुज़ली हो रही है। जिसे देखो वही लिखे जा रहा है ! सुबह डैशबोर्ड में चार नई पोस्ट, शाम होते होते चौदह ! पता नहीं कहां-कहाँ से आइडियाज आ रहे हैं ! यह हाल तो अपने डैशबोर्ड का है। ब्लॉग एग्रीगेट तो झांका ही नहीं। कोई लिख रहा है फिर मिटा दे रहा है। कोई लिख रहा है और लोग कह रहे हैं, मिटाओ- मिटाओ, गंदा लिखे हो !” तो मुस्कुराये जा रहा है। हम नहीं मिटाते का कर लोगे ? कोई मिटाये पर शोर मचा रहा है। कोई धमकिया रहा है। हम फलनवा को बहुते मारेंगे का कर लोगे ? कोई धमकियाने पर पोस्ट लिखे जा रिया है। बोल्ड के नाम पर ओल्ड में रोल्डगोल्ड की पालिस लगा कर सोने जैसा चमकिया रहा है।J

एक ने सपना देखा तो सभी सपने देखने लगे। ए देखो मेरा सपना, ए सुनो मेरा सपना। ऐसा लगा जैसे रात मे सपनो का बाजार लगता हो ! मन हुआ निकल पड़ें घर से, ले आयें दू चार गो सपना खरीद कर और चेप दें अपने ब्लॉग में।J कई रात भगवान से मनाये कि हमको भी एक मस्त सपना दिखा दो ताकि पोस्ट लिख कर नाम कमा सकें मगर हाय ! एगो सपना नहीं आया। L मेरा साया याद किया तो उनका साया नजर आया J सपनो के मठाधीश ने तो निंदकों को गज़ब अंदाज में चैलेंज भी दे दिया है ! ओ निंदक, मेरे सब्र का इम्तहान ले ! हमने तो सुना था.. तू मेरे सब्र का इम्तहान मत ले वरना तेरा मुंह तोड़ देंगे। मगर यह क्या..? तू मेरे सब्र का इम्तहान ले ! कोई जबरी भी इम्तहान देता है ? इसका मतलब तो यह हुआ कि तू इम्तहान ले हम तेरा मुंह नहीं तोड़ेंगे बल्कि हर बार पास हो कर दिखायेंगे।J  यह तो गज़ब का आत्मविश्वास हुआ ! उनका दावा है कि उनके जीवन में कई घटनाएं ऐसी घटीं कि जो अनजाने में कह दिया वो घटित हो गया। ऐसा लग रहा है उन्हें भी निर्मल बाबा की तरह कोई शक्ति प्राप्त हो गई है। वे भी बाबा बनने की राह में हैं ! इससे पहले लब गुरू थे। दुःखी लबरों को मुक्ति मार्ग बताते थे। मैने उनसे कह दिया है... मेरे से लब करके मेरे बारे मे गलत ख्वाब देखना तो कृपया लब मत खोलना। मेरे बारे में अच्छा अच्छा ही बताना। कोई गंदी बात हुई तो किसी को मत बताना। चार दिन की जिंदगी वो भी नाहक संशय मे कटे।

मेरी खोपड़ी फटी जा रही है। सीने में जलन आँखों में तूफान सा यूँ है कि सबके पास गज़ब के सनीसनीखेज, भावनात्मक, कमेंट बटोरू आइडियाज आ रहे हैं और हम हैं कि उन्हें पढ़के उनकी पोस्ट में टिपिया के अपना कीमती समय जाया किये जा रहे हैं। दूसरे के ब्लॉग में कमेंट करने में आलसी और अपने ब्लॉग में रोज भयंकर-भयंकर, तिलस्मी, औघड़ी पोस्ट लिखने के आदती ब्लॉगर भी हैं। वैज्ञानिक तरीके से काम की शिक्षा देने वाले यौन विशेषज्ञ भी यहाँ मौजूद हैं। उन्होने एक पोस्ट डाली फिर आगे लिखा...अभी तो ये अंगड़ाई है आगे और मलाई है ! जिसे देखो वही लार टपकियाते वहाँ कूदे जा रहे हैं। दो तीन बार तो मैं ही झांक चुका।J अपनी सारी कविताई चौपट हुई जा रही है। एक बात पर खोपड़ी ठहरती है तब तक गलती से किसी का ब्लॉग पढ़ लेता हूँ। लोभ है कि कन्ट्रौले नहीं हो रहा है। ब्लॉग पढ़ा नहीं कि खोपड़िया उधरे घूम जाती है। अपनी मौलिक सोच गई चूल्हे भाड़ में। दूसरे हैं कि अपना भी लिखे जा रहे हैं दूसरे के ब्लॉग पर बहुत अच्छा-बहुत अच्छा कमेंट भी किये जा रहे हैं। बड़े ढाँसू-ढाँसू आइडियाज निकल कर सामने आ रहे हैं। पानी वाला आइडिया तो अपन के पास भी है लेकिन कमाल के चुटकुले भिड़ रहे हैं। जी टीवी ने निर्मल बाबा को क्या हाई लाइट किया कि एक बड़े व्यंग्यकार ने खट से एक पोस्ट का जुगाड़ कर लिया। वे भी बाबा बनने की राह में हैं। अस्टाचार-भस्टाचार मुद्दे से सब उबिया गये लगते हैं। नये नये मुद्दों पर बहस छिड़ी हुई है।

हमारी खोपड़ी भन्ना रही है। करें तो का करें ! सोचा, चलो..ब्लॉग चर्चा करें। लिंक और नाम एक्को नहीं देंगे। ई तो सबही दे देता है और आप क्लिकिया के झट से पहुँच जाते हैं। मजा तो तब है जब लिखें हम और लिंक आप दें J इत्ती मेहनत से पढ़े हैं तब लिख रहे हैं, आप हैं कि..... अरे ब्लॉग में डूबो तो जानो कि यहाँ किन्ने बड़े-बड़े रणधीरा छुपे बैठे हैं ! J

64 comments:

  1. भौत मजा आया!...व्यंग्य इतना बढ़िया है कि टिप्पणी में लिखने के लिए शब्द ही नहीं मिल रहे सर!...बहुत बहुत आभार!

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहित करने के लिए आपको भी धन्यवाद।

      Delete
  2. आज तो हमारा भी सिर भिन्ना गया ... पोस्ट तो पढ़ क\ली आपकी पर लिंक नहीं दे पा रहा हूँ इतनी देर से ... इब क्या करूं ...
    मज़ा अ गया इस व्यंग का ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. इब दुबारा आइये। कमेंट पढ़कर समझ जायेंगे कि किसकी चर्चा हो रही है।

      Delete
  3. प्रिय ईर्ष्यालु , जलनखोर , छातीफाड़न हारे , ब्लागर जी ,

    आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि अब आपकी अँगुलियों की खुजाल मिट गई होगी ! दूसरे के सपनों और बाबागिरी की दम पे एक पोस्ट खुद ही लिख डाले इसका धन्यवाद हमें ना सही बाबा यौन शिक्षानन्द जी को ज़रूर दीजियेगा :)

    किन्तु आपसे एक शिकायत है कि आपने मेरा साया के साथ न्याय नहीं किया ! कितना ज़ुल्म है जो साया सबका साथ देता है आपने उसका साथ नहीं दिया :)

    भगवान निर्मलानन्द जी आपको साया द्रोह के लिए कभी क्षमा नहीं करेंगे :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! वाह! मतलब व्यंग्य असरकारी है। ..आभार आपका :)

      Delete
    2. सरकारी लोग असरकारी काम करें ! ये अच्छीsss बाsssत नईं है :)

      Delete
    3. छातीफाड़न हारे शब्द नोट किया जाए....!

      Delete
  4. बिना लिंक दिए ब्लॉग चर्चा कर डाले ... इ आईडिया आया कहाँ से, काहें झूठ बोलते हैं कि आपको कोई सपना नहीं आया. जरूर इ आईडिया सपने में ही आया होगा.
    अभी तो ये अंगड़ाई है .. आगे और मलाई है' इस मलाई के चक्कर में तो आप पड़े हैं तभी तो तीन बार चक्कर लगा आये हैं और तुर्रा ये कि दोष हमें ही दी रहे हैं. आत्मा बेचैन हो कोई बात नहीं पर अंतरात्मा को तो इतना बेचैन न कीजे.
    मस्त .... जय हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपनी तो एक्कै आत्मा है। दो होती तो क्या मजा रहता! एक भाग जाती तो दूसरी को पकड़ के बैठा लेता।:) Its a new Idia Sir ji! thank u.. very much.

      Delete
  5. गुरु बहुत अच्छा लिखे हैं |

    ReplyDelete
  6. लिंक ना देने में ही भलाई है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ.. सही कह रही हैं। क्या पता कौन नाराज हो जाय! इसीलिए नहीं दिया:)

      Delete
    2. लिंक देने में ऐसा भी क्या डरना ! भला वेब तरंगों पे चढ़ कर कौन किसका क्या बिगाड़ लेगा :)

      Delete
  7. आपकी इस पोस्‍ट की चर्चा कल सुबह सुबह चरचा परचा खरचा मंच पर की जा रही है।
    *
    जब आपने लिंक नहीं दी तो हम क्‍यों दें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. लिंक आप नहीं दिये तो क्या ! चरचा परचा खरचा मंच के दूसरे ब्लॉगर हमें लिंक दे ही देंगे। आप वहाँ आइयेगा जरूर मेरा उत्तर पढ़ने:)

      Delete
  8. व्यंग्य से अपनी बात कहना भी कला है , बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ, बड़ा कलाकार होता तो पूरी कलाकारी करके बताता क्या क्या खला है:)

      Delete
  9. हा हा हा एक घर तो डायन भी छोड़ देती है -आप तो डायन से भी गए गुज़रे निकले ..करीबी दोस्तों तक नहीं बख्शा -मगर आपको उनका शुक्रगुजार होना चाहिए एक घेलुआ की पोस्ट जुगाड़ गयी :) अब अपनी वाली भी लिख डालिए ..कविता ओविता ! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसे करीबी दोस्तों पर किये जाने वाले स्नेह का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाना चाहिए। :)

      Delete
    2. अरविन्द जी ,
      करीबी दोस्तों को नहीं बख्शने में ही भलाई है क्योंकि वे दोस्ती निभा ले जायेंगे , जबकि करीबी दुश्मनों को नहीं बख्शने से खतरा ज्यादा है , ये बात देवेन्द्र जी अच्छे से जानते हैं :)

      Delete
  10. इस पोस्ट पर क्या कमेन्ट करूँ .....आप ही बताइए ...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, केवल राम जी। यह कोई सार्थक गंभीर आलेख नहीं है। मेरे विचार से इस पोस्ट पर सही कमेंट यह होना चाहिए...

      ........
      अच्छा अभी रहने दीजिए, बाद में बतायेंगे। वरना जो पढ़ेगा वह मेरे ही कमेंट को दोहराकर मेरी बोलती बंद कर देगा।:)

      Delete
    2. @ केवल राम ,

      आप तो " केवल हे राम " कह कर भी जा सकते थे :)

      Delete
  11. बहुत सुन्दर वाह!
    आपकी इच्छा के सम्मान में एक लिंक जिसमें 5 लिंक पोशीदा हैं पहले शब्द से ही
    See
    1- यौन शिक्षा देता है बड़ा ब्लॉगर

    2- http://allindiabloggersassociation.blogspot.com/?ext-ref=comm-sub-email

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी धन्यवाद। मुझे पूरी उम्मीद थी। आप कभी आते नहीं, मौके पर आ ही गये :-) ....आभार।

      Delete
    2. एक नई कहावत है कि ‘शब्द शब्द पर लिखा है पढ़ने वाले का नाम‘
      सो आपकी यह उत्तम रचना बांचना हमारे भाग्य में था सो आना हो गया।
      धन्यवाद !

      Delete
  12. आप एक कविता लिख डालिए ब्‍लॉग पर। शब्‍दों का चयन गूगल बाबा से खोजिएगा। फिर देखिएगा कितना हिट और कितना हित होता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बड़ी नेक सलाह दी आपने..शु्क्रिया। वैसे आपको जानकारी के लिए बता दें कि जिन शब्दों की ओर आपका संकेत है उसकी नई खेप गूगल बाबा को बनारस से सप्लाई की जाती है। सो बनारसी लोग उन शब्दों के लिए गूगल बाबा के मोहताज नहीं हैं। कहाँ औऱ कैसे चयन करना है यह बेहतर जानते हैं..इसीलिए शब्दों की सप्लाई करके भी गुदगुदा के चले जाते हैं, पाने वाले को जरा भी दर्द नहीं होता।:)

      Delete
  13. चर्चा में नहीं दिए गए सभी लिंक लाजवाब हैं...मेरी पोस्ट का लिंक न देने के लिए आभार...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. एक साथ कितने से पंगा ले पाते सर जी ? आपको अपने ब्लॉग मे देखने को आँखें तरस गई थीं। ...टेस्ट की जानकारी देने के लिए आपके आभारी हुए :)

      Delete
  14. पाण्डेय जी!
    इन्डीभिजुअल पोस्ट से आइडिया जुगाड़ने के बजाये सब्भे ब्लॉग से कलेक्टिभ आइडिया निकालकर अच्छी जलन मिटाई है आपने.. ऊपर वाला भी जल बरसाने लग पड़ा मगर आप हैं कि न बुझे है किसी जल से ये जलन वाले अंदाज़ में हैं!!
    'बेचैन आत्मा' बने खुद घूमते हैं और बदनाम करते हैं हम जैसे ओरिजिनल आइडिया(चोरों)को.. समझ लीजिए कि आज आख़िरी बार आये हैं आपके पास... अब कल आवेंगे देखनए कि आप का कहे हैं!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ई नया आइडिया तो हिट हो गया लगता है। अब लोग जब जब बवाल करेंगे हम धमाल मचायेंगे।

      Delete
  15. ब्लॉग चर्चा बिना लिंक की बहुत सार्थक रही .... वैसे काफी लिंक इशारों में बता ही गए .... चलिये जलन से एक पोस्ट तो ठेल ही दी :):)

    ReplyDelete
  16. हा हा हा ...गज़ब मस्त कमाल.

    ReplyDelete
  17. आपने तो सर की भन्नाहट बड़ी सरलता से निकाल दी, हम क्या करें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप तो नकल पर पी0एच0डी0 कर चुके हैं। हम आपके का सलाह दे सकते हैं:)

      Delete
  18. @ वे पहले लब गुरु थे :)

    पहले मैंने सोचा ये टंकण की त्रुटि होगी जो अप 'लव' गुरु को 'लब' गुरु कह रहे हैं फिर लगा कि शायद आप 'लव' को 'लब' से शुरू मानकर कर इसे एक दूसरे के पर्याय कह रहें हों :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. ई अंग्रेजों का लव भी तो लब से ही शुरू होता है।:) दिल्ली से चला लव यूपी मे लब और बिहार जाते जाते लभ हो गया है।

      Delete
    2. और बंगाल पहुंचते-पहुँचते "लोभ" हो जाता है!!

      Delete
    3. हा...हा..हा..अपनी पहुँच बिहार तक ही थी:)

      Delete
    4. 'sabdhan'.....yahan 'luv...lub..lubh...love....bole to labheria'
      ke vyrus dikhai de rahe hain......

      bakiya 'vyang' jandar raha.....

      pranam.

      Delete
  19. जबर्दस्त.... रोचक और सार्थक.... मजा आ गया...
    सादर।

    ReplyDelete
  20. वैसे तो आप सबके उस्ताद निकले....तरह-तरह लेकिन अपने मौलिक-ओलिक आइडियाज़ लेकर लिखने वाले लोगों को आपने उन्हें ही मिक्स कर खिचड़ी पका दी.अगर ऐसे लोग दाल-भात न बनाते तो बनारसी खिचड़ी कैसे बनती ?

    ....बकिया,एक बड़ा तबका यह भी है यहाँ कि अगर आप किसी मुद्दे को पकड़ते हो तो अनजाने में कुछ मित्र भी खिसक जाते हैं,तो कुछ लोग एक ही मुद्दे को लेकर माठा किये हुए हैं.
    ...इस समय सपने देखना और उन पर चर्चियाना ज़्यादा अहम हो गया है,बनिस्पत हकीकत में जो ब्लॉग-जगत में हो रहा है इसके.तुलसी बाबा ने ऐसे लोगों के लिए ही बचने का रास्ता पहले ही निकाल दिया था,'मूंदहु आँख कतहुँ कोउ नाहीं' !

    यह आपकी खुशकिस्मती है कि आपके खीसे में बहुरंगी जमात मौजूद है ,इसके मज़े लेते रहें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे मित्र खिसकने वाले नहीं है संतोष जी। आलोचना का मजा लेना खूब जानते हैं। अब आप को ही लें.. देर आये दुरूस्त आये :)

      यह संसार ही बहुरंगी जमात है। क्या ही अच्छा हो जो सभी खुल कर मत भेद प्रकट करें मगर मन गांठ न पालें, हो जाय तो सुलझाते चलें :)

      Delete
    2. भाई,आपकी पोस्ट तभी नज़र आई जब यौन-विशेषज्ञ पंडितजी ने याद दिलाई !

      नजूमी साब ने भी नहीं बताया !

      Delete
  21. :-) हा हा हा ...क्या बात है, आज तो अपने सभी के मन कि बातें लिख डाली बहुत ही बढ़िया व्यङ्गात्म्क प्रस्तुति आभार।

    ReplyDelete
  22. इस बहाने ब्लॉग जगत को चर्चा के लिए मसाला तो मिला न ?

    ReplyDelete
  23. badiya hai sir ji....hhum to aapki hi baat par amal karte hue in charchaon aur aise lekho se uchit doori bana kar rakhte hain idhar kuch dino se blog par sakriyta bhi kam hai isliye samjh nahi paye ki vaar kidhar kidhar hue hain.

    ReplyDelete
  24. नो कमेन्ट!

    ReplyDelete
  25. हम दो दिन बाहर रहे , आपने तो चर्चा के झंडे गाड़ दिए । :)
    हर बार कोई नया पैंतरा ढूंढ लाते हो भाई ।
    यह अंदाज़ भी खूब रहा ।

    ReplyDelete
  26. chinta na karo bhai sahib..upar wala sab dekhta hai..abhi aapki kripa ruki hai bas ek 2000 ka cheque kaat kar rakhna address baad mein note kara lenge...cheque kaatte hi aapki ruki kripa aani shuru ho jaayegi.. ab der nahi karna.

    ReplyDelete
  27. आप की बात में सच्चाई भी है और व्यंग्य भी........
    इसी कारण तो मेरा मन भी ब्लागिंग से उखड़ जाता है। लेकिन फिर लौट आता हूँ...
    सुन्दर प्रस्तुति... बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  28. कल देर रात ही पढ़ा था, सिर्फ़ हाजिरी लगा लीजिये अभी। रात को लौटकर फ़िर से तीसरी बार पढ़ूंगा। तब तक उस गाने को ही हमारा कमेंट मान लिया जाये - तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त।

    ReplyDelete
  29. बिना लिंक दिए सबको लपेटते अच्छी व्यंग्य चर्चा करती पोस्ट!

    ReplyDelete
  30. jabardast lekh...abhi kuch hi din se kuch aise blogs par pahunchi jahan jabardast ghamashan ho raha hai...particular bloggers par hi posts ban rahi hai...jab shuru mein blog world mein aayi thi to bahut jyada achcha laga..aisa laga real world se kuch to alag hai yahan par dheere dheere pata chala yahan bhi vahi sab hota hai jo hamare gali muhalle mein chalta rahta hai...nispaksh aur nidarta se sahi muddon ko uthane vale kam aur apni bhadas nikalkar nafrat failane vale jyada hai

    ReplyDelete
  31. छुपि-छुपि बइठे बड़े रणधीरा
    काशी में छाती पीटैं रघुबीरा।।
    ब्लॉग जगत में छाये चिरकुटवा
    सजी दुकनिया में बइठे निरमलवा।।
    सपने में देखैं ब्लॉग कबीरा
    काशी में छाती पीटैं रघुबीरा॥

    ReplyDelete
  32. लगता है ब्लॉग में बहुत समय गवां रहे हैं आप.घूमिये-घामिये,नाचिये-कुदीये,स्वास्थ भी अछ्छा रहेगा.

    ReplyDelete