12.5.12

मैं तो आम हूँ


वह पीपल है 
वह नीम है
मैं तो आम हूँ।

फागुन में बौराती हूँ 
चैत में 
जनती हूँ टिकोरे
तपती हूँ
वैशाख-जेठ की दोपहरी

आता है मौसम
मेरा भी 
नहीं रहती
अनाथ
फल लगते ही 
मिल जाते हैं 
कई नाथ !

डाल में
लगते ही
टिकोरे
बाग में
छा  ही जाते हैं 
छिछोरे

देते हैं
प्यार का सिला
मारते हैं पत्थर
लूटते हैं
दोनो हाथों से  
फेंकते हैं
चखकर

कहते हो
तुम मुझे पुलिंग
किंतु नारी के समान हूँ
मैं तो आम हूँ।

मेरा मालिक
जब नहीं संभाल पाता मुझे
सौंप देता हैं
दूसरे को
पूरे का पूरा 
एक मुश्त
दूसरा
भोगता है मुझे
किश्त दर किश्त!

मैं हार नहीं मानती
मिट्टी मिलते ही
फिर से 
अंकुरित होना चाहती हूँ।

मेरे लिए
चलती हैं लाठियाँ
बहते हैं खून
सुख की खान हूँ
मैं तो आम हूँ।

जलती हूँ
जलायी जाती हूँ
काटकर
फूँक  सकते हो तुम मुझे
हवन कुण्ड में
पूर्ण पवित्रता के साथ
नहीं....
श्राप नहीं दुँगी
तुम्हारा घर
पवित्र कर जाऊँगी

नफरत नहीं
प्रेम करती हूँ सबसे
जन जन की शान हूँ
मैं तो आम हूँ।

एक टीस
उठती है उर में
पीपल, नीम के पास
जाते हैं ज्ञानी
मेरे पास
आते हैं
कभी लोभी
कभी कामी

आपके शौक की पहचान हूँ !
मैं तो आम हूँ।

.......................................
नोटः ( चित्र गूगल से साभार)

69 comments:

  1. सच ! कड़वा सच !

    ReplyDelete
  2. आम को प्रतीक बनाकर आपने वह कह दिया जो बड़े बड़े खंड काव्‍य में नहीं कहा जा सकता। इस आम की मिठास में कड़वी सच्‍चाई छिपी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सर जी।

      आपसे इतनी तारीफ जिसे मिल जाय वह तो घमंडी हो जायेगा ! संभालता हूँ अपने आपको।

      Delete
    2. ये भी सही कहा ! हम लोग बहुत दूर हैं ! अभी तो आपको ही अपने आपको संभालना होगा :)

      Delete
  3. Replies
    1. बिम्ब अच्छे हैं ! चित्रण भी ! कई नाथ और छिछोरे कविता की मंशा को पूरा कर पा रहे हैं !

      Delete
  4. अद्भुत साम्य |
    बधाई भाई जी ||

    ReplyDelete
  5. गहन ...अद्भुत भाव ...!!
    संवेदनशील ...बहुत सुंदर कृति ...!!
    शुभकामनायें ...!

    ReplyDelete
  6. मेरे पास आते है,
    स्वाद लोभी और कामी!!
    कठोर सच्चाई!!

    ReplyDelete
  7. बाप रे कवि क्या क्या लिख जाता है किस किस के बहाने ...
    आपकी आम के बहाने ख़ास को आम banne की traasadee dekhee :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरविन्द जी के कमेन्ट की दूसरी पंक्ति दमदार है !

      Delete
  8. आम के बहाने खास की खबर ली है...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. किसी के बहाने किसी की खबर नहीं ली है। 'आम' के सत्य को बताने का प्रयास मात्र है।

      Delete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  10. आम के बहाने कटु सत्य लिख दिया है...इतना कटु (पर सत्य) कि कहीं कही पढना ,मुश्किल पड़ रहा है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस कटु सत्य को पढ़ना भी पड़ेगा, समझना भी पड़ेगा और बदलना भी पड़ेगा।

      Delete
  11. सुन्दर रचना! वृक्ष कबहुँ नहीं फल भखै .. की याद आ गयी.
    सभी माताओं को मातृदिवस की बधाई!

    ReplyDelete
  12. महतारी दिवस की बधाई

    ReplyDelete
  13. लू चलती मैं मीठा होता..

    ReplyDelete
    Replies
    1. हे आम महोदय! यदि आप पुलिंग हैं तो फिर इसे सहिये....

      शीतल पवन धूप में तपकर सदियों से लू बनती जा रही है और आप मीठे होते जा रहे हैं! :)

      Delete
  14. आम कविता तो आपने कभी लिखी ही नहीं.. भावों की गहराई आपकी किसी भी रचना को आम नहीं रहने देती.. इस खास रचना में आम का बिम्ब और जगत की चर्चा.. सत्यजित राय की आम की आँठी का संगीत याद आ गया!! पाण्डेय जी, बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्यजीत राय की आम की आँठी का संगीत गूगल में सर्च करता रहा मिला नहीं। सुना हुआ दिमाग में चढ़ नहीं रहा है।...तारीफ के लिए शुक्रिया।

      Delete
    2. wikipedia से साभार:
      He worked on a children's version of Pather Panchali, a classic Bengali novel by Bibhutibhushan Bandopadhyay, renamed as Aam Antir Bhepu (The mango-seed whistle). Designing the cover and illustrating the book, Ray was deeply influenced by the work. He used it as the subject of his first film, and featured his illustrations as shots in his groundbreaking film.

      Delete
  15. सचमुच ये आम नहीं खास है, आपकी कविता की तरह ... Happy Mother's Day ...

    ReplyDelete
  16. आम की ब्याख्या सचमुच पसंद आया | धन्यवाद |

    ReplyDelete
  17. पढना शुरू करते ही दिमाग में जो बात कौंधी थी वो जेंडर सबंधित थी, आगे बढे तो पाया कि कवि की फैलाई बिसात है| अंत तक आते आते कलम चूमने का मन हो आया|
    गज्ज़ब, देवेन्द्र भाई|

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरा संभल कर ! कहीं लोग बाग चूमने में भी नग्नता / अश्लीलता ना खोजने लग जायें :)

      Delete
    2. प्रोफेसर इतने आतंकित हो जायेंगे तो कैसे काम चलेगा! अभी तो आपसे इस विषय में और पोस्ट की मांग है।

      Delete
    3. संजय जी..तारीफ के लिए धन्यवाद। वैसे कलम ने जब से लेखकों का साथ छोड़ा है तब से यह शेर उनकी नज़र लिखने का मन हो रहा है....

      चूम ना लें उंगलियाँ ही वे तारीफ में मेरी
      रखता हूँ अपनी जेब में अब छुपा के हाथ।:)

      Delete
  18. तुम आम नहीं खास हो
    खास आम मतबल है मेरा !!

    ReplyDelete
  19. फलों के राजा आम को जिस रूप में आपने रूपायित किया है वह समाज की मानसिकता को उजागर करता है।
    कुछ भी हो आम फिर भी आम है, इसको उल्टा कर दीजिए .. देखिस इसकी मिठास AAM -> MAA!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. तारीफ के लिए धन्यवाद। अंग्रेजी में AAM को उल्टा किये, हिंदी वाली 'माँ' मिलीं! :)

      Delete
  20. आम के बिम्ब को आधार बना कर बहुत संवेदन शील भावों को दर्शाती कविता बहुत सुन्दर तारीफ के काबिल

    ReplyDelete
  21. आम के मौसम में भी
    जो आम नहीं खा पाते है
    न जाने वही क्यूं
    'आम' आदमी कहलाते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका वाला 'आम' तो अच्छा है, लेकिन यह तो मेरी कविता वाला 'आम' नहीं था ! :(

      Delete
  22. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से मातृदिवस की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  23. आम को प्रतीक बनाकर बहुत गभीर बातें कह डाली.

    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  24. आम एकदम जीवंत हो उठा है और आम न हो कर ख़ास बन गया है ........

    ReplyDelete
    Replies
    1. आम की जीवंतता महसूस करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  25. स्त्री को आम के रूप में स्त्री के रूप में अच्छे से अभिव्यक्त किया !
    कोशिश यही की जाये कि वह आम ना रहे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कोशिश यही की जाय की वह आम ना रहे...जी, यही कोशिश की जानी जानी चाहिए कि खास खास ही रहे।

      Delete
  26. खास से अलग आम जन का दर्द “मैं तो आम हूं” के ज़रिए बहुत समर्थ भाषा में संप्रेषित हुआ है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, मनोज कुमार जी।

      Delete
  27. एक आम बदनाम है .
    एक आम के अनेक नाम हैं !

    बहुत पसंद आई .
    आम की आम से सगाई !

    कविराज की जय हो !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आम की आम से सगाई! वाह!! आपने भी क्या खूब दृष्टि पाई।...शुक्रिया।

      Delete
  28. भावनाओं से ओतप्रोत अभिब्यक्ति.

    ReplyDelete
  29. लिल्लाह!!!
    देवेन्द्र जी, आम और नारी का साम्य,
    ज़बरदस्त है जनाब!!!!!
    अल्लाह आपकी कलम को चलता हुआ रक्खे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ...आमीन। जब तक जिस्म में जान हो, लिखने-पढ़ने का शौक बना रहे। ...दिलकश दुआ के लिए आभार।

      Delete
  30. आजकल आम के मौसम मे आम की गाथा न गायी जाये तो शायद खाने का स्वाद भी कम रहता है. आम की आम से सगायी अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  32. jabardast prastuti......kitni mithas ke sath, panne ki thandak ke sath dhero guno k gaan ke sath aapne samaj ko uski mansikta ko kendr bindu bana dala aur aam aam karte karte sara ka sara mamla sareaam kar dala.

    bahut khoob.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शानदार कमेंट के लिए आभार।

      Delete
  33. बहुत सुंदर । Welcome to my new post.

    ReplyDelete
  34. वाह!!शानदार कविता है देवेन्द्र जी!! :)

    ReplyDelete
  35. वाह देव बाबू .....आम आम में आप बड़ी खास बातें कह गए.....शानदार।

    ReplyDelete
  36. सचमुच में! गज़ब्बे है ये! वाह देवेन्द्र जी वाह! सोचा था इस हफ्ते आऊँगा घर तो लू फाकूँगा, पर खैर...

    ReplyDelete
  37. आम के बहाने ही सही लेकिन गहरा कटाक्ष है .बहुत अच्छी रचना

    ReplyDelete
  38. कविता के बहाने खूब तलवार भांजी है पाण्डॆय जी!

    ReplyDelete
  39. बडी लम्बी-चौडी प्रशन्सा होरही है.... एक सामान्य कविता है... भावों की विश्रन्खलता भी ..असम्प्रक्तता भी... न पूरी तरह नारी पर उतरती न आम पर....

    ReplyDelete
  40. आम पर एक ख़ास रचना सामाजिक राजनीतिक आर्थिक पहलुओं को रूपायित करती ...मैं कांग्रेस का हाथ हूँ आम के साथ हूँ, भाषण में ,व्यवहार में उसकी जेब में ,इसीलिए ख़ास हूँ ,मैं आम हूँ ... .कृपया यहाँ भी पधारें -

    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?
    शगस डिजीज (Chagas Disease)आखिर है क्या ?

    माहिरों ने इस अल्पज्ञात संक्रामक बीमारी को इस छुतहा रोग को जो एक व्यक्ति से दूसरे तक पहुँच सकता है न्यू एच आई वी एड्स ऑफ़ अमेरिका कह दिया है .
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ReplyDelete