20.8.12

ईद का सूरज


ईद का चाँद तो नहीं देख पाया
ईद का सूरज देखा
लगा
जैसे कह रहा हो
ईद मुबारक!

उगते-उगते
छा गया हर तरफ
जर्रे-जर्रे को 
करने लगा रौशन



चहकने लगे पंछी
सुनहरा हो गया
तालाब का पानी



चमकने लगे 
खेत-खलिहान


खिलने लगी
कलियाँ



खुश थीं
मछलियाँ भी



खिलखिलाने लगे
फूल



मैने कहा
सूरज!
तुमको भी
ईद मुबारक।

मित्रों!
आप सभी को
ईद मुबारक।

...........................................



48 comments:

  1. सूरज और चाँद
    जब दोनों मनाएंगे ईद
    दिन और रात का फर्क तभी होगा खत्म
    हम सब एक होंगे
    नेक होंगे |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके कमेंट की पंक्तियों को उलट कर पढ़ता हूँ...

      नेक होंगे
      हम सब एक होंगे
      दिन और रात का फर्क तभी होगा खत्म
      जब दोनो मनाएंगे ईद
      सूरज और चाँद।

      Delete
  2. बहुत सुन्दर रचना..
    बहुत ही प्यारी तस्वीर...
    :-)

    ReplyDelete
  3. हमिद नही दिखा... ईद मुबारक.

    ReplyDelete
  4. वाह...
    हम तो कविता के शीर्षक पर ही फ़िदा हो गए...

    बहुत सुन्दर!!!!
    आपको भी ईद मुबारक देवेन्द्र जी.

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. यकीन मानिए मैने कविता लिखा ही नहीं। आप कहती हैं तो मान लेता हूँ।
      फोटोग्राफी की जो भाव जगे फोटो के साथ लिखता चला गया।

      Delete
    2. सहज अभिव्यक्ति सबसे खूबसूरत होती है...मुझे यकीन है आपकी बात पर :-)
      अनु

      Delete
  5. सुन्दर रचना. ईद मुबारक.

    ReplyDelete
  6. भाई पाण्डेय जी बहुत सुन्दर रचना |आभार

    ReplyDelete
  7. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल २१/८/१२ को http://charchamanch.blogspot.इन पर चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  8. Eid mubarak ho! Tasveeren bahut sundar! Rachanase mel khati hueen!

    ReplyDelete
  9. ईद पर्व के चाँद और सूरज दोनों ही मुबारक ....

    ReplyDelete
  10. कवि ने फोटोग्राफर और फोटोग्राफर ने कवि की शान बढ़ा दी .
    सुन्दर प्रस्तुति . ईद मुबारक

    ReplyDelete
  11. बेहद ख़ूबसूरत तस्वीरें...रचना भी इसे कॉम्प्लीमेंट करती हुई...

    ReplyDelete
    Replies
    1. पहली बार लगा कि रचना ऐसे भी बनती है।:)

      Delete
  12. ईद बहुत बहुत मुबारक हो

    ReplyDelete
  13. आपको बहुत बहुत मुबारक हो ईद
    चाँद आये चाहे सूरज आये
    बैचेन को आये थोड़ा सा चैन !

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चामंच के लिऎ :

      बहुत सुंदर सुंदर चित्र है
      ईद है चाँद है सूरज है
      चैन ही चैन है
      फिर कौन बैचेन है !

      Delete
  14. आपका अन्दाज़ हरदम ही अनोखा है देवेन्द्र,
    दीद उस परमात्मा की और बहाना ईद का!
    /
    ये तस्वीरें किसी भी नास्तिक को सिर झुकाने पर मजबूर कर दे और जब वो सिर उठाये तो उसके चेहरे पर उस
    परमात्मा की आस्था अंकित हो!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका कमेंट भी हमेशा सर झुकाने के लिए बाध्य कर देता है।..आभार।

      Delete
  15. वाह भाई !पूरे बनारस की भव्यता समेट लिए हो एक कैनवास पे जो बहुत व्यापक है मन भावन है ,कविता में हाइकु है या हाइकु में कविता ,छायांकन भी ,पुलकित करता ,सहजीवन कविता के संग करता .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    सोमवार, 20 अगस्त 2012
    सर्दी -जुकाम ,फ्ल्यू से बचाव के लिए भी काइरोप्रेक्टिक

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं आपके ब्लॉग को पढ़ना चाहता हूँ सर जी लेकिन आप बिमारियों का इलाज बताते हैं और मैं सुबह-सुबह दो घंटे की टहलान(जिसमें फोटोग्राफी, योगा, ध्यान और गप्पें लड़ाना सभी सम्मिलित है।) से ही सारी बिमारियों को भगाने का संकल्प लिये बैठा हूँ। :)

      Delete
  16. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर! :)

    ReplyDelete
  18. सुन्दर पंक्तियां...सुन्दर प्रस्तुति....
    आपको भी ईद मुबारक...

    ReplyDelete
  19. वाह क्या खूब लिखा है, सोचने का अलग ही अंदाज़.... और रचना के साथ ताल ठोकते फोटोग्राफ्स तो और भी ज़बरदस्त!

    आपको भी ईद बहुत-बहुत मुबारक हो!

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब ... सुबह के सूरज को फिर से बाँधने की कोशिश ... इस बार शब्दों और कैमरे के साथ ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  21. चलिए पहली बार ईंद का सूरज भी देख लिया ,,कभी सुना न देखा था !

    ReplyDelete
  22. देर से आने की माफ़ी.....शुक्रिया..... आपको और आपके परिवार को ईद मुबारक....बहुत सुन्दर फोटो लिए हैं आपने सुबह के ।

    ReplyDelete
  23. आपको भी.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  24. अद्भुत चित्रों के साथ उत्तम विचार!

    ReplyDelete
  25. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    देर से ही सही.........
    चाँद मुबारक नहीं, सूरज मुबारक! ईद मुबारक!
    आशीष ढ़पोरशंख
    --
    द टूरिस्ट!!!

    ReplyDelete
  26. कविता अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  27. शब्दों, भावों और चित्रों का अनूठा संगम।
    बधाई।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर चित्र और साथ में खूबसूरत खयाल ....

    ReplyDelete
  29. वाह ! क्या खूब लिखा आपने ईद का सूरज ! बहुत अछ्छा लगा.चाँद देखकर ईद मनाया जाता है,और ईद के दिन में सूरज तो निकलता ही है,और निकलना भी चाहिये.तभी तो ईद में खुशियाली आती है.फोटो के साथ लिखि गईं लाइने भी बहुत सुन्दर हैं;लगता है मुबारकवाद हार्दिक रूप से दिया है आपने.आपको भी ईद मुबारक हो देर से ही सही.Enter your comment...

    ReplyDelete
  30. सुंदर भाव व्यक्त करते हुए बहुत सुंदर चित्र ...!!

    ReplyDelete
  31. भैया बंदर वाली पोस्ट पर
    टिप्पणी का औपशन नहीं मिला
    इसलिये उपर की पोस्ट की बधाई
    में नीचे वाली पर लिख चला !

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर चित्र :
    सूरज मुबारक -दिन में तो यही कहा जायेगा !

    ReplyDelete
  33. चाँद मुबारक सूरज मुबारक !

    ReplyDelete