10.1.13

क्या अच्छा पड़ोसी होना मेरी ही जिम्मेदारी है?

गतांक.. कुत्ते से आगे......( पहले वाली न पढ़ी तो कृपया पढ़ने के बाद इसे पढ़ें )


अभी कुछ वर्षों पहले की बात है
मेरे पड़ोसी के कुत्ते
इतने ताकतवर हो गये थे
कि उन्होने अपने घर में ही विद्रोह कर दिया!
अपने मालिक को घर से बाहर निकाल दिया
और अपने नेता को
पूरे घर का मालिक बना दिया !

शुरू में तो मैने इसका विरोध किया
लेकिन फिर
उनके घर का आंतरिक मामला मानकर
उसे ही
घर का मालिक मान लिया।

एक दिन
अपने घर के सदस्यों की इच्छाओं की परवाह किये बगैर
अपने घर बुलाया
अच्छा से अच्छा खाना खिलाया
ताजमहल घुमाया
घर का वह कोना भी दिखाया
जहाँ वह
झगड़े से पहले पैदा हुआ था
क्या 'पिल्ले' की तरह
कूँ कूँ कर
नाचा था वह खुश होकर!

मुझे लगा
अब तो इसे सदबुद्धि आ ही जायेगी
घंटो उससे बात की
समझाता रहा
"भाई!
मुझे तुम्हारे घर के कुत्ते
बहुत परेशान करते हैं
उनसे कहो
मुझ पर भौंकना बंद कर दें।"

मगर अफसोस
जाने से पहले
वह मुझ पर भी
भौंकता हुआ चला गया!

क्या अच्छा पड़ोसी होना
सिर्फ मेरी ही जिम्मेदारी है?

............................

27 comments:

  1. पागल कुत्ते को बार बार रोटी डालना ... कहाँ की समझदारी है ???

    ReplyDelete
  2. जाने किस किस को कुत्ता कह गए। लेकिन वे कहाँ मानने वाले हैं। आस्तीन के सांप हैं। दूध भी पी जायेंगे , और काटेंगे भी।

    ReplyDelete
  3. ओह! नहीं बिलकुल नहीं ..अगर ऐसे पडोसी हों तो उन्हें भी कुत्ते की तरह ही दुत्कार दिया करें ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह बात घर के सरदार से कहिये! किरकिट काहे खेल रहे हैं?

      Delete
  4. व्यंग्य के माध्यम से अपनी बात कहना भी कला है , बधाई

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  6. अपने जान माल की रक्षा स्वयं करें .... ग़लतफ़हमी पालकर किसी को सुधारने की चेष्टा ना करें -

    ReplyDelete
  7. .
    .
    .
    @ क्या अच्छा पड़ोसी होना, सिर्फ मेरी ही जिम्मेदारी है ?

    नहीं, भौंक सुनते-सुनते जब मन भर जाये तो दू लात जमा दीजिये एकाध कुत्ते पर... तभी वह पड़ोसी का सा मान मिलेगा... :)


    ...

    ReplyDelete
  8. मेरे और मेरी पडोसन के बीच आत्मीयता न होने का एक बडा कारण उनका कुत्ता ही है । पता नही वह दुष्ट कैसे जान लेता है कि उसे पेशाब मेरे घर की दीवार पर ही करनी है । और मेरी पडोसन को अपने कुत्ते की यह शिकायत भी सहन नही होती ।

    ReplyDelete
  9. काम भले चाहे जैसे करे लेकिन यही सवाल तो पड़ोसी भी पूछता है- क्या अच्छा पड़ोसी होना मेरी ही जिम्मेदारी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पड़ोसी दुष्ट है। अभी और लिखूँगा इसके बारे में।

      Delete
    2. धन्यवाद आपका..मुझे लग रहा था..अभिव्यक्ति में कमी रह गई।

      Delete
  10. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  11. यहां तो यही लग रहा है कि हमारी ही ज़िम्मेदारी है

    ReplyDelete
  12. क्या कीजियेगा !

    ReplyDelete
  13. aapki jimmewari dikh rahi hai sir :)

    ReplyDelete
  14. जिम्मेदारी उसी की जो उसे लेना चाहे ..ढीट की क्या जिम्मेदारी.
    जैसे को तैसा ही तरीका है अब बस.

    ReplyDelete
    Replies
    1. एकदम सही कहा, अब समय आ गया है की उसे उसी की भाषा मे जवाब दिया जाये ॥

      Delete
  15. कुत्ता तो कुत्ता ही होता है उसपर पागल कुत्ता... समझाने से अब क्या असर होने वाला है, उसका तो एक ही इलाज़ है...????...

    ReplyDelete
  16. सरदार ही कुछ करता तो क्या बात थी।

    ReplyDelete
  17. पड़ोस के कुत्ते को क्या कहें, अपने ही कुत्तों की शह पाकर उनका हौसला बढ़ा है!!

    ReplyDelete
  18. भारत धर्मी समाज के हमारे दो जवानों का सिर कलम करदिया गया लेकिन मौन सिंह के चेहरे पे असीम शान्ति है .ऑस्ट्रेलिया में एक डॉक्टर को आतंकी होने के शक में धर दबोचा

    जाता है .मौन सिंह की नींद उड़ जाती है मामला एक वोट से जुड़ा था .

    इनसे इनसे पड़ोस के स्वान अच्छे .कुत्ते हैं अपनी औकात नहीं भूलते .

    ReplyDelete
  19. हमने सर चढ़ाया है, अब हमारे सर चढ़ मूत रहे हैं ससुरे।

    ReplyDelete
  20. ....भाई,उस पर रहम करो,उसकी संगत ही ऐसी है !

    ReplyDelete
  21. पागल कुत्ते का इलाज प्यार से नहीं उसको बाँध कर ही लिया जा सकता अहि वो भी अगर इलाज संभव हो सके तो ....
    आपकी धार दार कलम को नमन ...

    ReplyDelete
  22. वहशी कुत्तों को पालना ही गलत है.पडोशी को चाहिए कि वो यैसे कुत्तों को न पाले और खुद भी अगर यैसे कुत्ते पाले हों तो पालना बंद करें.राजनीति के नाम पर दशकों से चल रही अशांति को सब मिल-जुलकर हल कर लें तो दूर-दूर तक के लोगों को अछ्छा वातावरण मिले.

    ReplyDelete