17.8.11

नदी में हलचल है


मेढक उछल रहे किनारे
मछली का मन चंचल है
नदी में हलचल है

मगरमच्छ लाचार पड़े हैं
संत समाधी पर अड़े हैं
आगे गहरा कुआँ खुदा है
पीछे चौड़ी खाई है

कल कल में अब दलदल है
नदी में हलचल है।

एक भगीरथ ने ललकारा
निर्मल होगी नदी की धारा
गंदे नाले सभी हटेंगे
कचरे साफ अभी करेंगे

निरूपाय खल का बल है
नदी में हलचल है।

हंसो से कह रहे शिकारी
नीर क्षीर विवेक छोड़ दे
पंछी चीख रहे मूर्ख तू
अब पिंजड़े के द्वार खोल दे

बढ़ रहा ज्वार पल पल है
नदी में हलचल है।

22 comments:

  1. आज तो समुद्र में ज्वार चढा है ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. एक भगीरथ ने ललकारा
    निर्मल होगी नदी की धारा ......
    swami nigmanand ji ka balidaan vyarth nahi jayega .....aaj nahi to kl.....aisa hi hoga...shubhkaamnaye or aabhar uprokt sunder prastuti hetu.

    ReplyDelete
  3. बढ़ रहा ज्वार पल पल है
    नदी में हलचल है।

    सुमधुर....सार्थक ...रचना ...
    आज तो वाकई हलचल है ....

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत .........अपनी कहानी आप कहती नदी की ये हलचल बहुत सुन्दर लगी|

    ReplyDelete
  5. सुनामी आ जाए तो अच्छा होगा . अच्छी लगी रचना.

    ReplyDelete
  6. सुंदर भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. अच्छी प्रस्तुति...........

    ReplyDelete
  8. इस सुन्दर रचना पर टिप्पणी में देखिए मेरे चार दोहे-
    अपना भारतवर्ष है, गाँधी जी का देश।
    सत्य-अहिंसा का यहाँ, बना रहे परिवेश।१।

    शासन में जब बढ़ गया, ज्यादा भ्रष्टाचार।
    तब अन्ना ने ले लिया, गाँधी का अवतार।२।

    गांधी टोपी देखकर, सहम गये सरदार।
    अन्ना के आगे झुकी, अभिमानी सरकार।३।

    साम-दाम औ’ दण्ड की, हुई करारी हार।
    सत्याग्रह के सामने, डाल दिये हथियार।४।

    ReplyDelete
  9. @@@एक भगीरथ ने ललकारा
    निर्मल होगी नदी की धारा
    गंदे नाले सभी हटेंगे
    कचरे साफ अभी करेंगे..
    वाह-जय हो..

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सार्ह्तक रचना.. आज के हालात को सही तरह से दर्शाती हुई है ..

    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  11. सिंह जगे, कोलाहल न हो,
    शुद्धि हेतु गंगाजल न हो?

    साभार प्रवीण पाण्डेय जी .

    ReplyDelete
  12. bahut sunder aaj kee sthitee ka chitran .

    ReplyDelete
  13. bahut sunder aaj kee sthitee ka chitran .

    ReplyDelete
  14. अब ये हलचल सुनामी बन गयी है

    ReplyDelete
  15. सार्थक प्रस्तुति... आभार...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  17. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें

    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में........

    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्
    वहा से मेरे अन्य ब्लाग लिखा है वह क्लिक करके दुसरे ब्लागों पर भी जा सकते है धन्यवाद्

    MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    ReplyDelete
  18. जी, नदी में हलचल है.

    ReplyDelete
  19. halchal to aa chuki hai...aage intzar hai ufan kab aata hai aur kya parinam nikalte hain.

    sunder bimb prastuti.

    ReplyDelete