28.8.11

बड़ा मजा आयल



जितलन अन्ना टूटल अनशन
बड़ा मजा आयल।
झूम झूम के नचलस जन जन
बड़ा मजा आयल।

जे अन्ना के आँख दिखउलस
कटलस खूब बवाल
जे अन्ना के गारी देहलस
चहलस फांसी जाल

रेती कs मछली जस झुलसल
बड़ा मजा आयल।
जितलन अन्ना टूटल अनशन
बड़ा मजा आयल।

 पहिले कहलन भ्रष्टाचारी
लुटले हौवन माल
करत करत कर देहलन उनके
अनशन पर सवाल

देहलन अन्ना जब जवाब तs
बड़ा मजा आयल।
जितलन अन्ना टूटल अनशन
बड़ा मजा आयल।

कल तs हमके लागल बतिया
हौ ई त्रेता कs
ऐसन जादू चलल कि भइलन
नेता जनता कs

संसद भयल अन्ना के साथे
बड़ा मजा आयल।
जितलन अन्ना टूटल अनशन
बड़ा मजा आयल।

 आधी जीत मिलल हौ अबहिन
बाकी पूरी बात
जन जन कs विश्वास जगल हौ
सूरज हमरे हाथ

सिमरन इकरा जूस पियउलिन
बड़ा मजा आयल।
जितलन अन्ना टूटल अनशन
बड़ा मजा आयल।
.............................................................
.........................................

31 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति…..….

    ReplyDelete
  2. संक्षेप में सारा दृश्य उपस्थित कर दिया ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. अन्ना विजय दिवस पर सुन्दर भेंट ।

    ReplyDelete
  4. जियें हजारों साल हजारे,जनता दिल से यही पुकारे
    ना जाने अब होंगें कितने,कैसे कैसे और नज़ारे !
    अन्ना येक मशाल बन गईलन
    बड़ा मजा आयल !

    ReplyDelete
  5. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 29-08-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  6. पढ़ कर बड़ा मजा आयल...वाकई!!

    ReplyDelete
  7. आधी जीत मिलल हौ अबहिन
    बाकी पूरी बात
    जन जन कs विश्वास जगल हौ
    सूरज हमरे हाथ...

    सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  8. वाह भैया वाह, बहुते जोरदार, बधाई.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. तुहार रचना पढ़ कर हमको भी बड़ा मजा आयल. पहली जीत पर बधाई ....

    ReplyDelete
  10. अन्ना जी पर अउर जीते क खुशी में ऐसन कविता अब तक न आयल रहल.
    वाह-वाह.

    ReplyDelete
  11. तोहईं क नाईं मर्दवा हम्मै भी बहुतई मजा आएल -बड़ी जोरदार रचना सामयिक और अन्ना के अनशन की ही तरह ही स्वयंस्फूर्त

    ReplyDelete
  12. पांडे जी!
    कमाल के गीत बनवलS हो राजा!! रामलीला मैदान के धूपा के मजा दोबर हो गईल..

    ReplyDelete
  13. आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. अद्भुत!
    इस गीत के लिए प्रशंसा के शब्द नहीं हैं।

    ReplyDelete
  15. कुटिल सिम्बल dhhimlailam ,chiddibam फूस हो गैलन . बड़ा मजा आईल , आंतरिक प्रसन्नता की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. tohre kavita padhkar hamka bada maza ailan

    ReplyDelete
  17. वाह ....बहुत मजेदार लगा

    ReplyDelete
  18. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    नमस्कार,
    आपके ब्लॉग को "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगसपाट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

    ReplyDelete
  19. आपकी इस पोस्ट को पढ़ कर बड़ा मज़ा आयल.....

    ReplyDelete
  20. वाह ...बहुत ही बढि़या लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  21. सबको बड़ा मजा आयल .


    सोमवती अमावस्या एवं पोला पर्व की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  24. बड़ा मजा आयल :-)

    ReplyDelete
  25. बहुत रोचक और सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  26. वाह भैया, मजा आइ गयल, रचना अपनी सोधी महक संगे पूरी पूरी बुझा गइल..!

    ReplyDelete
  27. सही में...

    खूब मजा आयेल...

    ReplyDelete