18.10.11

पत्नी और पति


कल मैने एक कविता पोस्ट की थी...पापा। जिसको आप सब ने खूब पसंद किया। उसी मूड में, उसी दिन, मैने दो कविताएँ और लिखी थीं। जिन्हें आज पोस्ट कर रहा हूँ।


पत्नी


प्रेशर कूकर सी
सुबह-शाम आँच पर चढ़ती
हवा का रूख देख
खाना पकाती है
दबाव बढ़ते ही
चीखने-चिल्लाने लगती है
पहली सीटी देते ही
दबाव कम कर देना चाहिए
अधिक हीट होने पर
ऊपर का सेफ्टी वाल्ब उड़ जाने
या फट जाने का खतरा बना रहता है
पिचक जाने पर
मरम्मत के बजाय
दूसरे की तलाश करना
अधिक बुद्धिमानी है।

............................


पति


एक शर्ट
जो गंदा होने पर
धुल जाता है
सिकुड़ जाने पर
प्रेस हो जाता है
बाहर स्मार्ट बना घूमता है
घर में
हैंगर के प्रश्न चिन्ह की तरह चेहरा लिए
सर पर सवार रहता है
प्रश्न चिन्ह को पकड़ कर टांग दो
चुपचाप टंगा रहता है
दुर्लभ नहीं है
पैसा हो
तो फट जाने पर
दूसरा
बाजार में
आसानी से मिल जाता है।

......................................देवेन्द्र पाण्डेय।

40 comments:

  1. पति और पत्नी को नए सन्दर्भों से देखने का यह प्रयास प्रसंशनीय है ....!

    ReplyDelete
  2. kal hi sandhya mam ke blog par isi se milta julta aalekh padhne ko mila or aaj phir se ek nayi paribhasa , wakyi majedar hai,..
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  3. नया अंदाज़ पसंद आया ...
    सावधान रहें ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. :)लेकिन सीटी कैसे धीमी करनी है ..? कोई ट्रेड सीक्रेट हो तो धीमे से इधर भी पास करियेगा :)

    और दूसरी में तो आपने नारीवादियों के मन की कह दी ..

    कोई मोल तोल करने आये तो इधर भी भेजिएगा -यह माल भी कब का बिकाऊ है :)

    ReplyDelete
  5. बहुत रोचक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. करे आत्मा फिर हमें, अन्दर से बेचैन |
    ढूंढ़ दूसरी लाइए, निकसे अटपट बैन |

    निकसे अटपट बैन, कुकर की सीटी बाजी |
    समझे झटपट सैन, वहीँ से बकता हाँजी |

    गर रबिकर इक बार, कुकर का होय खात्मा |
    परमात्मा - विलीन, करे - बेचैन - आत्मा ||

    ReplyDelete
  7. पैसे पर बिकते रहे, तभी तो है यह हाल |
    मौज अन्य करते रहे, पंडित गुरू दलाल |

    पंडित गुरू दलाल, पकड़ शादी करवाए |
    कहो गुरू क्या हाल, पूछने फिर ना आए |

    फींचा जाता रोज, गजब पटकाता ऐसे |
    बकरी वाला कथ्य, हगे मिमिया के पैसे ||

    ReplyDelete
  8. http://www.blogger.com/post-edit.g?blogID=661367040317442003&postID=8149899408205929481

    ReplyDelete
  9. वाह क्या अन्दाज है.

    ReplyDelete
  10. घरेलु हिंसा कानून लागु होने के बाद मरम्मत की बात सोचना जरा खतरनाक है और दूसरा खरीदना तो उससे भी अच्छा हो कुकर को फटने न दे और पहली सिटी में ही उसे आंच से उतार कर उसे ठंडा रखे | और पति की हालत तो और भी बुरी कर दी आप ने कुकर तो फिर भी दसको तक चलता है और भारत में तो उससे भी लम्बा पर शर्ट की उम्र तो बहुत कम होती है पैसा कितना भी हो पर बदलेगे कितना :)))

    ReplyDelete
  11. रविकर जी...

    भौचक कर देती गुरू, तुकबंदी की चाल
    पंखा बन नाचा करें, चौचक तेरा माल।

    ReplyDelete
  12. गजब का अवलोकन, सटीक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  13. कतई ’यूज़ एंड थ्रो’ फ़ार्मूला:)

    ReplyDelete
  14. गजब का विश्‍लेषण।
    क्‍या बात है.....

    ReplyDelete
  15. पत्नी और पति की एक और परिभाषा अच्छी लगी बधाई

    ReplyDelete
  16. भाई, अगर कुकर फटा तो शर्ट के इतने चीथड़े उड़ेंगे की प्रेस करवाने लायक न बचेगी !

    मिसिर जी की तरफ़ दो-चार 'सौदे' ज़रूर भेज देना !

    मज़ेदार कबिताई !

    ReplyDelete
  17. ये अदला-बदली की भावना कविताई में आ ही गयी। सही है जी। :)

    ReplyDelete
  18. यहाँ तो हिसाब किताब बराबर है कुकर और हेंगर दोनों एक साथ टांग दिए।

    ReplyDelete
  19. एक नए अंदाज में सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. बदलने की बडी चाहत है, इतना आसान होता तो सब सुखी ना हो जाते। शादी करने के बाद तो लगता है कि बस यह प्रयोग और नहीं।

    ReplyDelete
  21. नहीं जी, जो बात पापा कविता में थी वो इनमें नहीं है। बल्कि मेरे हिसाब से ये दोनों बेहद कमजोर हैं।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर. बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  23. बहुत बढि़या।

    ReplyDelete
  24. दूसरी ढूंढोगे, क्यों?...बताऊँ अभी भाभी जी को?

    ReplyDelete
  25. आनंद से भर दिया आपने.अच्छी लगी ..

    ReplyDelete
  26. अच्छी मरम्मत की है पांडे जी.. कुकर की भी और शर्ट की भी!!

    ReplyDelete
  27. पति -पत्नी की परिभाषा तो अज़ब-गज़ब ही है पाण्डेय जी !
    एक की तलाश करनी पड़ती है ........दूसरा बाज़ार में आसानी से मिल जाता है......क्या कहने !

    ReplyDelete
  28. रचना चर्चा-मंच पर, शोभित सब उत्कृष्ट |
    संग में परिचय-श्रृंखला, करती हैं आकृष्ट |

    शुक्रवारीय चर्चा मंच
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  29. :-) :-)

    बढ़िया है देव बाबू अच्छी उपमा है पति पत्नी की |

    ReplyDelete
  30. दोनों रचनाएँ अपनी अपनी जगह प्रभावशाली हैं ..पर दोनों जगह ही बदलाव की गुंजाईश नहीं है :)

    ReplyDelete
  31. बहुत ठीक है,पति और पत्नी का वर्णन.प्रेसर कुकर की तरह वो भी फट जातीं तो दूसरी लाने का अवसर मिल जाता.

    ReplyDelete
  32. ब्लॉग बुलेटिन की ११०० वीं बुलेटिन, एक और एक ग्यारह सौ - ११०० वीं बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  33. कुकर और हैंगर - कमाल है आपका भी !

    ReplyDelete