28.1.12

माँ सरस्वती



तूने दिया है प्यार माँ
स्वीकार कर आभार माँ

माता-पिता कोई नहीं
बस तू ही है आधार माँ

मेरा नहीं तेरा ही है
जो कुछ भी है घर-बार माँ

कोई न था बस तू ही थी
जब था बहुत लाचार माँ

आशीष दे लड़ता रहूँ
जितना भी हो अंधियार माँ

फिर फूल सरसों के खिले
आ मूर्त हो इस बार माँ

छू लूँ चरण इक बार मैं
भव से मुझे अब तार माँ

................

विशेषः बसंत पंचमी चाहे 9 फरवरी, 1962 को आये चाहे 28 जनवरी 2012 को, है तो जन्म दिन !

(चित्र गूगल से साभार)

50 comments:

  1. शिक्षा का वरदान देने वाली माँ सरस्वती का हमारे जीवन में निश्चय ही बड़ा योगदान है.आप माँ के दिन इस धरती पर आये इसीलिए उनकी अनुकम्पा अधिक है आप पर .
    जन्मदिन पर अशेष आशीष !

    ReplyDelete
  2. जय हो ! जन्मदिन और वसंत पंचमी की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  3. इतने लंबे और खिसकते रहने वाले जन्म दिन किसको नसीब होते हैं :)
    आपका नाम कायदे से 'पंचम बसंत पाण्डेय' होना चाहिये था :)
    जन्मदिन की अनंत शुभकामनायें :)

    स्तुति बहुत सुन्दर है !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना ...माँ के चरणों में वंदन ...आपको जन्मदिन की ढेरों शुभकामनायें ....कृपया नयी -पुरानी हलचल पर पधारें ...आज आपकी कविता का लिंक वहां है ...!!

    ReplyDelete
  5. देवेन्द्र जी, बसंत पंचमी और जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई। माँ सरस्वती की कृपा आप पर यूँ ही बरसती रहे।

    ReplyDelete
  6. जन्मदिन की ढेरों बधाईयाँ, सरस्वती के एक और पुत्र निराला से पूर्णतया अनुनादित हो रही है आपकी कृति।

    ReplyDelete
  7. जय हो! बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. जन्मदिन की ढेरो बधाइयाँ बसंत पंचमी की शुभकामनाएं....
    मां शारदे को नमन!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति, पंचमी और जन्मदिन की (अग्रिम बधाई ) और शुभ कामनाये !
    !

    ReplyDelete
  10. सुन्‍दर भाव संयोजन ..बसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  11. उम्दा प्रस्तुति…………बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें। जन्म दिन की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. देवेन्द्र भाई!! जनम दिन की अनेकानेक शुभकामनाएं एवं चिरायु हों ऐसा आशीष!! अब समझ में आया आपकी लेखनी के चमत्कार का रहस्य!! माँ शारदे आप पर अपने आशीष की सदा वृष्टि करें!!

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना...
    आप पर माँ सरस्वती की कृपा यूँ ही बनी रहे...
    आप और आपकी लेखनी चिरायु हों...
    शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  14. माँ शारदा को नमन और आप को जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wah! Bahut badhiya rachana!

      Delete
    2. Aapko janam din kee dheron shubh kamnayen!

      Delete
  15. तो जन्‍मदिन की बधाई भी बसंत पंचमी के दिन ही स्‍वीकारें। बहुत बहुत मुबारक हो।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर,सार्थक प्रस्तुति।

    ऋतुराज वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  17. आशीष दे लड़ता रहूँ
    जितना भी हो अंधियार माँ

    ये जज्बा हमेशा बना रहे........आमीन|

    ReplyDelete
  18. बहुत ही बढ़िया

    बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  19. जनम दिल की बहुत बहुत शुभकामनाएं ... किस्मत वाले आहें माँ सरस्वती के दिन इस धरा पे आए ... बसंत पंचमी और जनम दिन दोनों की बधाई ...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर गेय रचना ,सस्वर गायन को प्रेरित करती अर्थ पूर्ण निवेदन से संसिक्त .बधाई बसत पंचमी की .

    ReplyDelete
  21. जन्मदिन की शुभकामनायें ..माँ सरस्वती की स्तुति सुन्दर बन पड़ी है ..

    ReplyDelete
  22. माँ शारदे को नमन ..हार्दिक शुभकामनाएं जन्मदिन की .इसलिए तो आप पर विशेष अनुकम्पा है माँ की.

    ReplyDelete
  23. जन्मदिन और वसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. Maa sarswati ji ki sundar stuti..
    ..Janamdin aur basantpanchmi ki ek sath hardik shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  25. सुन्दर सरस्वती वंदना ।
    बसंत पंचमी पर जन्मे पाण्डे जी , यूँ ही जिंदगी में रंग बसंती घोलते रहें ।

    ReplyDelete
  26. सुन्दर
    वसंत पंचमी की एवं जन्म दिन की बधाई

    ReplyDelete
  27. आशीष सबका मिल रहा
    मन में बसंत बहार माँ

    शुभकामनाओं की हुईं
    इस बार तो बौछार माँ!

    कितना सुंदर लग रहा
    आभास का संसार माँ!

    ...सभी की शुभकामनाएँ, बधाइयाँ, सर माथे पर। इस स्नेह के लिए 'धन्यवाद' छोटा शब्द है मगर क्या करूँ! बड़ा शब्द मिलता नहीं..बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर सरस्वती वंदना

      Delete
  28. जन्‍मदिन और बसंत पंचमी की बधाई हो।

    ReplyDelete
  29. सरस्वती विशेष कृपालु हैं आप पर ....डाह होती है ... :)
    बसंत के आगमन पर कवि की सक्रियता का इंतज़ार है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. डाह मां सरस्वती के वरदानों तक ही सीमित रहना चाहिये ! किन्हीं दूसरे घटनाक्रमों की ओर आशय तो नहीं है आपका :)

      Delete
  30. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती का आविर्भाव हुआ था।
    भक्तिभाव से परिपूर्ण वंदना।
    आपको जन्म दिन की बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
      आज चर्चा मंच पर देखी |
      बहुत बहुत बधाई ||

      Delete
  31. भाव से मुझे तार माँ ... बस यही चाह है

    ReplyDelete
  32. bahut bahut haardik badhai aur shubhkamanayen.
    aapki prarthanamy prastuti bahut achchhi lagi.

    anupam prastuti ke liye aabhaar.

    smay milne par mere blog par aaiiyega.

    ReplyDelete
  33. आप माँ सरस्वती का लाड़ला पुत्र बने रहें... आपकी कलम अनवरत यूं ही चलती रहे!! जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें!!

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर गीत है. आभार.

    ReplyDelete
  35. जन्मदिन कि हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  36. सुन्दर गीत! जन्मदिन की बधाई!

    ReplyDelete
  37. बहुत सुंदर वन्दना गीत ,रचना बहुत अच्छी लगी.,
    जन्म दिन की बहुत२ बधाई शुभकामनाए ....
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  38. जन्मदिवस की ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  39. bahut umda prastuti.........
    belated janmdin ki hardik badhai********

    ReplyDelete
  40. क्या आपकी उत्कृष्ट-प्रस्तुति

    शुक्रवारीय चर्चामंच

    की कुंडली में लिपटी पड़ी है ??

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  41. जन्म दिन एवं सुन्दर रचना की बधाई.....
    कृपया इसे भी पढ़े
    नेता,कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete