22.7.12

एक शाम गंगा के नाम

बहुत दिन हुआ। चलिए आज आपको गंगा जी की सैर कराते हैं। आज रविवार का दिन था। दिन भर आराम किया तो सोचा शाम को चलें गंगा मैया का हाल चाल लें। सुना है गंगा मैया तेजी से बढ़ रही हैं। गत वर्ष तो इस समय तक खूब बढ़ चुकी थीं। गंगा बढ़ती हैं तो एक घाट से दूसरे घाट तक पैदल जाना संभव नहीं हो पाता। घाट किनारे की रौनक भी खत्म हो जाती है। यह हाल दो-चार दिन में ही हो जाने वाला है। घाटों के रास्ते बंद होने वाले हैं। आज भी चेत सिंह घाट के बाद सीढ़ी चढ़कर ही दूसरे घाट तक जा पाया। तो चलिए घाटों की सैर की जाय।

(1) यह तुलसी घाट के ऊपर से खींची गई तश्वीर है। शाम के समय घाटों पर दर्शनार्थियों की,  गगन में परिंदों की तथा नदी में नावों की हलचल बढ़ जाती है। चलिए नीचे उतर कर देखते हैं।


(2) एक मछुआरे(मछली पकड़ने वाला मल्लाह) का परिवार अपना 'जाल' सुलझाने में व्यस्त है। इन्हें मछली पकड़ने की चिंता है।



(3) लगता है मामला अधिक उलझ गया है। कौन पूछे ? बनारसी प्रायः अख्खड़ी होते हैं। सीधे-सीधे जवाब थोड़े न देंगे। सीधे कह देंगे.."तोहसे का मतलब? जा आपन काम करा ! मछली लेवे के होई तS काल भोरिये में आये।"


(4) यह दूसरे मछुआरे का परिवार है। नाव आती देख लपक कर पास पहुँचा कि देखें कितनी मछली पकड़ी है इसने! लेकिन एक भी नहीं दिखाई दी। लगता है खाली हाथ लौटा है यह परिवार। तभी तीनों बच्चे मायूस दिख रहे हैं।


(5)मछुआरे की चिंता से इतर यहाँ अलग ही मस्ती का आलम है। संडे की शाम क्रिकेट मैच का आयोजन लगता है। चारों ओर दर्शकों की भीड़ देखने लायक है। मैच खत्म होने के बाद जोरदार ढंग से विजयोत्सव मनाया गया और केदार घाट पर विजयी टीम के खिलाड़ियों की पूड़ी कटी।  


(6)यह घाट किनारे की दूसरी दुनियाँ है। जाड़ा, गर्मी, बरसात बच्चे ऐसे ही धमाल मचाते रहते हैं। गंगा सीढ़ियाँ चढ़ती जाती हैं ये बच्चे ऊपर और ऊपर की सीढ़ियों से गंगा में छलांग लगाते जाते हैं।


(7)चढ़ते उतरते थक गया तो सोचा चलो बैठ कर नावों की तश्वीरें खींची जांय। नदी में पानी बढ़ चुका है। धार तेज हो चुकी है लेकिन ये मल्लाह एक नाव में कितने लोगों को बिठाये गंगा की सैर करा रहा है! दूर उस बादल पर सूरज की किरणें पड़ रही होंगी तभी वह हल्का सुनहरा दिखाई दे रहा है।


(8)इस नाव में मालदार पार्टी लगती है। तभी यह नाव अधिक सुंदर और यात्री कम हैं। 


(9)मैं केदार घाट की आखिरी सीढ़ियों पर बैठा हूँ । केदार घाट की सुंदरता देख ये विदेशी चकित हैं। केदार घाट है ही खूबसूरत। उसकी तश्वीर तो आप यहाँ देख ही चुके हैं।


(10) दिन ढल रहा है। शाम हो रही है। घाट किनारे बत्तियाँ जलनी शुरू हो चुकी हैं। आज की गंगा सैर यहीं समाप्त करते हैं। अब नहीं लगता कि ऐसे घाट किनारे घूम-घूम कर आपको दो माह तक तश्वीरें दिखा पाऊँगा। पानी बढ़ते ही घाट पर आवागमन बंद हो जायेगा। पानी घटने के बाद भी बाढ़ द्वारा लाई गयी मिट्टी की सफाई होने तक घाटों पर पैदल आवागमन बाधित रहता है। हाँ, बाढ़ की तश्वीरें खींची जा सकती हैं। 


नोटः सभी तश्वीरें आज शाम की हैं। इसे उड़ाना चाहते हों तो उड़ा लें, कोई आपत्ति नहीं लेकिन बता जरूर दें ताकि मुझे खुश होने का मौका मिल जाय।:)

34 comments:

  1. सुंदर चित्रों के साथ वर्णन अच्छा लगा :):)

    ReplyDelete
  2. गंगा-माँ का सान्निध्य पाना भी एक सौभाग्य है -
    सुन्दर फ़ोटोज़ के लिये आभार !

    ReplyDelete
  3. सभी तस्वीरें आकर्षक हैं पर आसमान को ताकती तीन तस्वीरें तो गज़ब हैं :-)

    ReplyDelete
  4. बढ़िया फोटोग्राफ्स के लिए आभार देवेन्द्र भाई !

    ReplyDelete
  5. कभी हम भी इन्ही घाटों पे शाम को सैर किया करते थे |

    ReplyDelete
  6. अच्छा टाइम पास है .
    गंगा घाट पर मछुआरे देखकर अज़ीब सा लग रहा है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने एक बार पूछा था, "गंगा घाट पर और क्या-क्या होता है?" इतने से मन विचलित हो गया!:) ये बिचारे तो अपनी रोटी की तलाश में हैं।

      Delete
  7. गंगा चित्रकथा आनन्द..

    ReplyDelete
  8. pahle to kabhi dekha nahi par aaj aapki kripa se ganga ka ghat dikh gaya ...shukriyaa

    ReplyDelete
  9. गंगा मैया में जब तक ये पानी रहे
    देवेन्द्र भईया तेरी ज़िन्दानी रहे ......

    बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें ....
    नयनों को अभिराम मिला ....

    उड़ाने का जी तो चाह रहा है ....:))

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी यह दुआ बहुत दिनो बाद मिली...धन्यवाद। जीते जी गंगा को ऐसे ही देख सकूँ यही कामना है।:)

      मैं जानता हूँ आप उड़ना चाह रही थीं। चाहना भी उड़ना है।:)

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत चित्र .... गंगा घाट का नज़ारा दिखाने के लिए आभार

    ReplyDelete
  11. जय जय गंगा मैया ... खूबसूरत चित्र ... लाजवाब व्याख्या ...

    ReplyDelete
  12. हम तो तस्वीरें देख कर आनन्दित हैं। उड़ा नहीं रहे।
    न उड़ाने से भी आपको प्रसन्नता होनी चाहिये! :-)

    ReplyDelete
  13. नदी किनारे की सैर खुबसूरत चित्र.....मज़े तो आपके ही हैं जनाब ।

    ReplyDelete
  14. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल २४/७/१२ मंगल वार को चर्चा मंच पर चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आप सादर आमंत्रित हैं

    ReplyDelete
  15. शानदार तस्वीरें। शुक्रिया हमें भी सैर करवाने के लिए।

    ReplyDelete
  16. अरे ये घाट तो काफी साफ़ दिख रहे हैं...ये आपकी फोटो ग्राफी का कमाल है या वाकई सफाई है.?

    ReplyDelete
  17. सभी घाट एक समान साफ़ नहीं रहते। सभी मौसम एक समान साफ़ नहीं रहते। वर्षा ऋतु में इंद्र देव खुद ही साफ़-सफाई का जिम्मा लिये हैं, फिर तो साफ़ दिखना ही है।:)

    ReplyDelete
  18. वाह बहुत सुंदर चित्र हैं एक से कर बढ़ एक

    ReplyDelete
  19. बढियां चित्र और दर्शन -जहाँके आपके चित्र हैं वहां मछली मारना प्रतिबंधित है -कछुआ सेंचुरी घोषित होने के बाद से ही ....यह फोटो वन विभाग को प्रमाण के तौर पर उपलब्ध कराया जा सकता है ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब फंसे आप कानूनी दांव पेंच में :)

      Delete
  20. Thanks. Beautiful pics. And narration. Hope the images dont land the poor fishermen in trouble.

    ReplyDelete
  21. चित्रों में ही सही , गंगा के दर्शन हुए ...
    खूबसूरत तस्वीरें !

    ReplyDelete
  22. सुन्दर चित्र
    जय गंगा मैय्या :-)

    ReplyDelete
  23. सुन्दर चित्र। चकाचक कमेंट्री!

    ReplyDelete
  24. आभार। गंगा दर्शन हेतु।

    ............
    International Bloggers Conference!

    ReplyDelete
  25. Thanks.
    here is a piece of poetry from allan herold rex

    |With flickering light forbade the seance on the seemlessly never ending night,
    Pity the snake for another morn would rise
    For it will have to go to the pot ,no the pit.
    The cocks and cuckoo within cooee , chanted and coerced another morn out !
    Following the sun like the grail, the people lounged in to the waters of the ganges.

    ReplyDelete