31.7.12

आइये मुंशी प्रेमचंद जी के गांव लमही चलें....

31 जुलाई 2012 से बनारस में तीन दिवसीय मुंशी प्रेमचंद लमही महोत्सव मनाया जा रहा है। आज लमही स्थित उनके आवास में विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये गये। मैने सोचा ब्लॉगर मित्रों को उनके गांव, पैत्रिक आवास की कुछ तस्वीरें दिखाई जांय और देखा जाय कि वहाँ वास्तव में हो क्या रहा है! सो पहुँच गया लमही गांव। पाण्डेपुर चौराहे से लगभग तीन किलोमीटर दूर स्थित उनके गांव तक जाने वाली मुख्य सड़क बेहद खराब हाल में है। इस चौराहे से गुजरते वक्त इस चौराहे पर लगी आदमकद प्रेमचंद की मूर्ती का स्मरण हो आया जो फ्लाई ओवर निर्माण के दौरान उठा कर लमही भेज दी गई थी। इन रास्तों पर  चलते-चलते अहसास हो गया कि जन-जन के दुःख उकेरने वाले महान साहित्यकार के घर ही जा रहे हैं। बिना दर्द सहे उनके गांव के दर्शन भी कहाँ संभव है! :)


लमही जाने के मुख्य मार्ग पर बना है 
मुंशी प्रेमचंद स्मृति द्वार


द्वार के बायें बाजू में उनकी कथाओं के पात्रों की शानदार मूर्तियाँ


दायें बाजू में भी सुंदर मूर्तियाँ


मुंशी प्रेमचंद जी का पैतृक निवास स्थल


घर के आगे का कुआँ


दाईं तरफ से ली गई घर की तस्वीर


घर के पिछवाड़े स्थित तालाब


पैत्रिक घर के भीतर का दृश्य
ओह! चौराहे की मूर्ती का मलबा यहाँ सुरक्षित है।
इस घर में सभी कमरे खाली दिखे। 



पैत्रिक आवास के सामने स्थित नये आवास में स्थापित प्रतिमा
यहीं मनाया जा रहा है महोत्सव।


आज के समारोह में सम्मानित होने वाले वरिष्ठ साहित्यकार


साहित्यकारों, साहित्य प्रेमियों की भीड़


यहाँ खेले गये नाटक "बड़े भाई साहब" के पात्र


नाटक का एक दृश्य


दीवारों में ये तस्वीरें लगी दिखीं।


दरवाजे और खिड़कियाँ 



यहाँ भी उनकी कृतियों की तस्वीरें लगी थीं।


महोत्सव के शेष कार्यक्रम सांस्कृतिक संकुल में आयोजित होने हैं। बिजली फेल हो जाने के कारण इसे पोस्ट करने में देरी हुई। अभी क्रमशः लिखकर इसे पोस्ट किये देता हूँ।

24 comments:

  1. सच तस्वीर बोलतीं हैं बतियातीं हैं ,
    गुज़रे कल की याद लाती हैं .बढ़िया चित्रांकन .सजीव कर दिया उत्सव को झालिकियां दिखला कर .

    ReplyDelete
  2. बहुत जीवंत चित्र .... आपके माध्यम से मुंशी प्रेमचंद का पैतृक आवास देख सके ... आभार

    ReplyDelete
  3. पैतृक-आवास की झाँकियाँ दिखाने हेतु आभार !

    ReplyDelete
  4. तश्वीर को तस्वीर लिखें तो और भी सुंदर लगेगा !

    उस ज़माने के हिसाब से मुंशी जी काफी बड़े और आलीशान मकान में रहते थे !

    लमही में बिठाये लम्हे सार्वजानिक करके आपने बहुत अच्छा किया ! सार्थक कार्य ! बस एक शिकायत कि आप एक ही पोस्ट में इतनी ज्यादा फोटो डाल देते हैं कि उन्हें तरतीब से याद रखना और फिर कमेन्ट करना मुश्किल हो जाता है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. तस्वीर लिखने पर वाकई अधिक सुंदर लगने लगा।:)..धन्यवाद।

      पैत्रिक आवास की मरम्मत, पुनर्निमाण का कार्य भी हुआ है।

      फोटो अधिक हैं शब्द कम। शब्दों की भरपाई फोटो से कर ली।:) घर, समारोह, नाटक, गांव सभी तो दिखाना था।

      Delete
  5. मुंशी प्रेमचंद्र के विषय में सार्थक और ज्ञानप्रद पोस्ट आभार

    ReplyDelete
  6. अच्छे फोटो हैं। शुक्रिया !

    ReplyDelete
  7. Thank you. He was a communist and did not use caste title in his name but in Blog world Kayasth writers are again and again emphasising 'Srivastav' as his surname though no proof is available he ever used it. Have a keen look at the personalities they cover,almost all will be Kayasths. Such castist revivalism should be abhorred as poison to society.

    ReplyDelete
  8. Premchand is only modern Hindi writer who has laudable international recognition.

    ReplyDelete
  9. Yes, his house is comparatively big. He made some money from film writing though in his last days. He also was in money lending business for quite a long duration.

    ReplyDelete
  10. तस्वीरों ने तसल्ली दी कि प्रेमचंदजी को बिसराया नहीं गया है !
    सजीव दर्शन के लिए आभार !

    ReplyDelete
  11. बाभैया पहुँच गए थे आप-रश्क है आपसे!
    बहुत खूबसूरत चित्र लिए हैं आप!

    ReplyDelete
  12. और इस सुन्दर रिपोर्ताज के क्या कहने ?

    ReplyDelete
  13. सुना है प्रेमचंद्र ने सारा जीवन बदहाली ने ही बिता दिया था और अब उनकी मौत के बाद ये समारोह.............. क्या कहे |
    सभी फोटो के लिए धन्यवाद उनके घर के ठीक से देख लिया , वैसे बनारस और उसके आस पास इतने बड़े घर का होना आम बात है बड़े घर का मतलब सम्पन्न होना नहीं होता था | वैसे कार्यक्रम का झलक कल टीवी पर देख लिया था और बड़े भाई साहब सबसे पसंदीदा कहानियो में एक है |

    ReplyDelete
  14. प्रेमचंदजी के आवासगृह और उसके आस-पास की आज की अवस्था को फोटो के माध्यम से चित्रित करने के लिये हार्दिक आभार ब्यक्त करता हूँ. मैं उनकी लगभग सारी रचनाओं को पढते वक्त तहे-दिल से वाह क्या लिखा है प्रेमचंदजी ने कह चुका हूँ.शायद प्रेमचंदजी जैसा लेखक अब आगे हो न हो .
    @Dr. V B - Its not necessary to be a communist to not accept the cast ism in society.Those ,who want to add surname on his name are certainly
    the peoples of old age having this attitude.

    ReplyDelete
  15. बड़ा अच्छा और आवश्यक लेख, आभार उनको याद दिलाने के लिए !

    ReplyDelete
  16. bhai bharat desh main jeete ji kisi ko kuch nahi milta hai lakin marne ke baad sab amar ho jaate hai...

    is report ke liye aap badhai ke patra hai...bahut bahut badhai...

    jai baba banaras.....

    ReplyDelete
  17. shukriya , itne bade lekhak ke lamhi me paida hone se lamhi ki dharti bhi dhany ho uthi...

    ReplyDelete
  18. आप खासे रिपोर्टर हुए जाते हैं, देखकर अच्छा लग रहा है कि समय का सदुपयोग कर पा रहे हैं|
    तारीफ़ के काबिल बात है जी इसी लिए तारीफ की है, इसमें भी कोई छुपे मायने न ढूंढ लिए जाएँ:)

    ReplyDelete
  19. कहानी के चितेरे की कहानी देखी, चित्रों के माध्यम से..

    ReplyDelete
  20. अबकी लमही जाना तय रहा, बढ़िया रिपोर्टिंग रही।

    ReplyDelete
  21. आभार आपका, इस चित्रमय प्रस्तुति के लिए।

    ReplyDelete
  22. मज़ा आ गया देव बाबू आपके साथ साथ हम भी घूम आये......बहुत ही अच्छा लगा प्रेमचंद जी तो वैसे ही मेरे पसंदीदा है ।

    ReplyDelete
  23. अच्छा लगा इन चित्रों को पुन: देखना। आनंदम् ....आनंदम् !

    ReplyDelete